चीन के बेलगाम रॉकेट से खतरा टला, हिंद महासागर में मालदीव के पास गिरा मलबा

हिंद महासागर में गिरा चीन के 18 टन का बेलगाम रॉकेट.

हिंद महासागर में गिरा चीन के 18 टन का बेलगाम रॉकेट.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, मालदीव के पास समुद्र में मलबा गिरते देख गया. इसके साथ ही कहा गया कि राकेट का अधिकांश मलबा वायुमंडल में जल गया था.

  • Share this:

शंघाई. चीन (China) के अनियंत्रित रॉकेट (Uncontrolled Rocket) का मलबा आखिरकार आज धरती (Earth) पर गिर गया. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन के 18 टन का लॉन्ग मार्च 5बी नाम का ये रॉकेट हिंद महासागर में गिरा है. हालांकि अभी तक ये पता नहीं चल सका है क‍ि रॉकेट के गिरने के बाद कितना नुकसान हुआ है.

चीनी मीडिया ने बताया कि लांग मार्च 5बी रॉकेट के कुछ हिस्सों ने बीजिंग समय के अनुसार सुबह 10:24 बजे वायुमंडल में प्रवेश किया और एक स्थान पर गिरे. रॉकेट के जो हिस्‍से गिरे हैं, वह 72.47 डिग्री पूर्वी और अक्षांश 2.65 डिग्री उत्तर में स्थित है. निर्देशांक ने भारत और श्रीलंका के दक्षिण-पश्चिम में समुद्र में प्रभाव के बिंदु को रखा. इसके साथ ही कहा गया कि अधिकांश मलबा वायुमंडल में जल गया था. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, मालदीव के पास समुद्र में मलबा गिरते देख गया.

बता दें कि जब से इस बात की जानकारी मिली थी कि चीन की ओर से अंतरिक्ष में भेजा गया एक बड़ा रॉकेट अनियंत्रित होकर खो गया है, तब से अंतरिक्ष विज्ञानी इस बात को लेकर चिंतित थे कि रॉकेट कहां पर जाकर गिरेगा.


हालांकि चीन के विदेश मंत्रालय ने पहले ही दावा किया था कि रॉकेट का कचरा नुकसान नहीं पहुंचाएगा. इसके पृथ्वी के वातावरण में आने के दौरान ही अधिकांश हिस्सा जल जाएगा. चीन ने Long March 5B Y2 को 29 अप्रैल को लॉन्च किया था. इसके जरिये चीन अंतरिक्ष में नया स्पेस स्टेशन बनाना चाहता था. यह धरती के ऊपर 170 किलोमीटर से 372 किलोमीटर की ऊंचाई के बीच तैर रहा है.

इसे भी पढ़ें :- न्‍यूजीलैंड के आसपास गिर सकता है चीन का अनियंत्रित रॉकेट, अगले 12 घंटे हैं बेहद अहम

क्या था चीन का प्लान?



चीन ने प्लान किया था कि इस रॉकेट के जरिये स्पेस में Tiangong नाम का चीनी स्पेस स्टेशन बनाया जाएगा, जो 2022 तक पूरा हो जाएगा. इसके बाद ये स्पेस स्टेशन पृथ्वी के चक्कर लगाकर पृथ्वी की जानकारी स्पेस से देगा. लेकिन अब खबर है कि ये रॉकेट अपना कंट्रोल खो चुका है और इसके मलबे कई देशों पर गिरकर तबाही मचा सकते हैं. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, चीन को भी इसकी जानकारी है लेकिन अभी तक उसने इसे लेकर कोई चेतावनी जारी नहीं की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज