खुशखबरी! चीन की वैक्सीन 90% कोरोना संक्रमितों पर असरदार साबित, आखिरी टेस्ट बाकी

खुशखबरी! चीन की वैक्सीन 90% कोरोना संक्रमितों पर असरदार साबित, आखिरी टेस्ट बाकी
साल के अंत तक मिल जाएगी कोरोना की वैक्सीन

चीन (China) के पेइचिंग में स्थित सिनोवैक बायोटेक (Sinovac Biotech Ltd) का कहना है कि उसने ऐसी वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) बना ली है जो जिसके नतीजे अब तक दुनिया में बनाई जा रहीं वैक्सीन में सबसे बेहतर हैं. कंपनी के मुताबिक उनकी वैक्सीन न सिर्फ 90% मामलों में असरदार है बल्कि सुरक्षित है.

  • Share this:
पेइचिंग. चीन (China) की एक दवा कंपनी ने दावा किया है कि उसके द्वारा तैयार की गई कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की वैक्सीन (Vaccine) ह्यूमन ट्रायल में 90% मरीजों पर असरदार साबित हुई है. चीन के पेइचिंग में स्थित सिनोवैक बायोटेक (Sinovac Biotech Ltd) का कहना है कि उसने ऐसी वैक्सीन बना ली है जो जिसके नतीजे अब तक दुनिया में बनाई जा रहीं वैक्सीन में सबसे बेहतर हैं. कंपनी के मुताबिक उनकी वैक्सीन न सिर्फ 90% मामलों में असरदार है बल्कि सुरक्षित है.

सिनोवैक के मुताबिक ये वैक्सीन इंसानों पर काफी असरकारक है और ह्यूमन ट्रायल में सामने आया है कि इसके असर से कोरोना संक्रमितों में इम्यून रिस्पॉन्स काफी तेजी से शुरू हो जाता है. CoronaVac नाम की इस वैक्सीन ने ट्रायल में हिस्सा लेने वालों में दो हफ्ते बाद वायरस को न्यूट्रलाइज करने वाली ऐंटीबॉडीज बनाना शुरू कर दिया था. ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक न तो किसी भी शख्स में कोई साइड इफेक्ट नज़र आए हैं और न ही इस वैक्सीन के उत्पादन में कोई समस्या आने वाली है. हालांकि रिपोर्ट के मुताबिक इस वैक्सीन का आखिरी चरण का परीक्षण अभी भी बाकी है.

90% सफल है वैक्सीन
इस वैक्सीन का ट्रायल ईस्टर्न चाइना के जिंग्यासू प्रोविंशल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेन्शन में किया जा रहा है. मिली जानकारी के मुताबिक अब तक यहां 18-59 की उम्र के 743 स्वस्थ लोगों को शेड्यूल पर शॉट्स या प्लसीबो दिया जा चुका है. इसमें से 143 वॉलंटिअर पहले चरण में हिस्सा ले रहे हैं जिनमें वैक्सीन की सुरक्षा जांची जा रही है. इसमें वायरस के डेड स्ट्रेन का इस्तेमाल किया जा रहा है. ये वैक्सीन इजरायल की वैक्सीन से भी ज्यादा असरदार बताई जा रही है. उस वैक्सीन को इंसानों पर 78% असरकारक बताया गया था लेकिन इसे 90% बताया जा रहा है.
 



14 दिन में बन गयीं एंटीबॉडी!
इस वैक्सीन के दो शॉट देने के 14 दिन अन्दर ही शरीर में एंटीबॉडी तैयार होने का दावा किया जा रहा है. कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया कि कई ग्रुप बनाकर ट्रायल जारी है. एक अन्य ग्रुप में अब आखिरी चरण के परीक्षण में 28 दिन के अंतराल पर शॉट्स दिए जाएंगे और देखा जाएगा कि इसका क्या असर होता है. सिनोवैक के CEO वेइडॉन्ग यिन ने बताया कि पहले-दूसरे चरण में वैक्सीन सुरक्षित पाई गई है और इम्यून रिस्पॉन्स पैदा कर रही है.

यिन के मुताबिक इस वैक्सीन के रेस्पोंस को देखते हुए उन्होंने उत्पादन के लिए भी ज़रूरी कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. उन्होंने कहा है कि दूसरी वैक्सीन की तरह यह भी दुनियाभर में इस्तेमाल के लिए बनाई जा रही है. जल्द ही सिनोवैक पहले चरण के नतीजे और दूसरे चरण की का प्लान चीन की नैशनल मेडिकल प्रॉडक्ट्स ऐडमिनिस्ट्रेशन को भेज देगा और तीसरे चरण के ट्रायल के लिए बाहर देशों में ऐप्लिकेशन देगा.

 

ये भी पढ़ें :-

क्यों भारत विरोधी हैं ओली? जानें कैसे चीन के इशारे पर नाचता है नेपाल

SURVEY: अब भी फंसे हैं 67% प्रवासी कामगार, 55% तुरंत घर जाना चाहते हैं

अनोखे शोध ने बताया, अपनी गैलेक्सी में और कितने हैं हमारे जैसे ‘बुद्धिमान जीवन’

सुशांत के ट्विटर प्रोफाइल पर लिखा ये वाक्य है अनूठा, जानिए क्या है इसका मतलब

क्या पृथ्वी की गहराइयों में हुई थी जीवन की शुरुआत, इस प्रयोग ने दिए संकेत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading