Home /News /world /

ओमिक्रॉन के खिलाफ चीन की कोरोना वैक्सीन कमजोर, नई रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा

ओमिक्रॉन के खिलाफ चीन की कोरोना वैक्सीन कमजोर, नई रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा

ओमिक्रॉन के खतरे के चलते इस समय दुनिया भर में बू्स्टर डोज को लेकर शोध चल रही है. (फाइल फोटो)

ओमिक्रॉन के खतरे के चलते इस समय दुनिया भर में बू्स्टर डोज को लेकर शोध चल रही है. (फाइल फोटो)

Sinovac-CoronaVac COVID-19 vaccine: ओमिक्रॉन संक्रमण के बीच फाइजर और उसके जर्मन पॉर्टनर बायोनटेक ने कहा कि कंपनी ने वैक्सीन की तीन डोज वाली खुराक का प्रयोगशाला में परीक्षण किया है और रिजल्ट चौंकाने वाले मिले हैं. कंपनी के मुताबिक फाइजर वैक्सीन ओमिक्रॉन वेरिएंट को वेअसर करने में पूरी तरह से कामयाब रही है. इस शोध के बयान में यह नहीं बताया गया कि कितने लोगों पर वैक्सीन की टेस्टिंग की गई थी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron Variant) से इस समय पूरी दुनिया में दहशत का माहौल बना हुआ है. ओमिक्रॉन के तेजी से बढ़ते मामलों की वजह से अब कोविड की तीसरी लहर की संभावना भी तेज हो गई है. ओमिक्रॉन के संक्रमण से बचने के लिए कई देशों में कोविड की बूस्टर खुराक की चर्चा भी तेज होने लगी है. इस बीच चीन की सिनोवैक की कोरोनावैक कोविड बूस्टर वैक्सीन (Sinovac-CoronaVac COVID-19 vaccine) को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. हांगकांग (Hong Kong) के विशेषज्ञों ने अपने शोध में बताया कि ही चीन की सिनोवैक वैक्सीन ओमिक्रॉन के खिलाफ ज्यादा कारगर नहीं है.

    चीन की सिनोवैक कोविड वैक्सीन (Chinese Sinovac Covid Booster) एक तीन खुराक वाली वैक्सीन है. शोधकर्ताओं ने अपने एक बयान में बताया है कि सिनोवैक की कोरोनावैक कोविड-19 वैक्सीन की तीन खुराक कोरोनवायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडी का उत्पादन नहीं करती है.

    शोधकर्ताओं ने यह भी बताया कि सिनोवैक वैक्सीन की तुलना में फाइजर बायोएनटेक वैक्सीन ज्यादा प्रभावी थी. शोधकर्ताओं ने कहा कि फाइजर-बायोएनटेक के तीन डोज या साइनोवैक के दो डोज वैक्सीन लेने के बाद इसकी खुराक लेने पर ओमिक्रॉन के खिलाफ सुरक्षात्मक स्तर की एंटीबॉडी बनती है.

    यह भी पढ़ें- Delhi के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल ने जताई आशंका, Omicron के आ सकते हैं एक लाख तक मरीज…

    ओमिक्रॉन संक्रमण के बीच फाइजर और उसके जर्मन पॉर्टनर बायोनटेक ने कहा कि कंपनी ने वैक्सीन की तीन डोज वाली खुराक का प्रयोगशाला में परीक्षण किया है और रिजल्ट चौंकाने वाले मिले हैं. कंपनी के मुताबिक फाइजर वैक्सीन ओमिक्रॉन वेरिएंट को वेअसर करने में पूरी तरह से कामयाब रही है.

    कोविड वैक्सीन पर हुए इस नए अध्ययन को हांकांग विश्वविद्यालय और हांगकांग चीनी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा आयोजित किया गया था. इस शोध को स्वास्थ्य और चिकित्सा अनुसंधान कोष और हांगकांग सरकार द्वारा वित्तीय सहायता दी गई थी. हालांकि इस शोध के बयान में यह नहीं बताया गया कि कितने लोगों पर वैक्सीन की टेस्टिंग की गई थी.

    आपको बता दें कि इस समय हांगकांग कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सिनोवैक वैक्सीन और फाइजर-बायोनटेक की वैक्सीन का इस्तेमाल कर रहा है. 12-17 साल की आयु वर्ग वाले लोगों को सिर्फ वायोनटेक वैक्सीन दी जा रही है.

    ओमिक्रॉन के खतरे के चलते इस समय दुनिया भर में बू्स्टर डोज को लेकर शोध चल रही है. विशेषज्ञ इस बात को जानने में लगे है कि आखिर सबसे संक्रामक वैक्सीन के संक्रमण को रोकने में सबसे ज्यादा कौन की वैक्सीन कारगर है.

    Tags: Booster Dose, Coronavirus, Omicron

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर