चीनी सैनिकों ने भारत की जमीन पर लिख दिया है चीन, सैटेलाइट फोटो में आया नज़र

चीनी सैनिकों ने भारत की जमीन पर मंदारिन लिपी में चीन लिख दिया. (सैटेलाइट इमेज)
चीनी सैनिकों ने भारत की जमीन पर मंदारिन लिपी में चीन लिख दिया. (सैटेलाइट इमेज)

बीजिंग ने भारत के साथ सीमा के पास विवादित भूमि के एक टुकड़े पर विशाल अक्षरों में मंदारिन भाषा (Mandarin Language) में 'चीन' शब्द लिखकर (Written China Word) अपना दावा जताया है.

  • Share this:
बीजिंग. बीजिंग ने भारत के साथ सीमा के पास विवादित भूमि के एक टुकड़े पर विशाल अक्षरों में मंदारिन भाषा (Mandarin Language) में 'चीन' शब्द लिखकर (Written China Word) अपना दावा जताया है. सैटेलाइट इमेज (Sattelite Image) में साफ़ दिख रहा है कि हिमालय में विवादित क्षेत्र का एक दूरस्थ इलाका पैंगोंग झील (Pangong Lake) के पास मंदारिन लिपि में लिखे गए वर्ण का अर्थ 'चीन' है. पैंगोंग झील विवादित वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास स्थित है जो दो परमाणु-सशस्त्र शक्तियों के बीच की सीमा की पहचान है.

गलवान में चीन कई ठिकाने बना रहा है
चीनी सेना की टुकड़ी ने इस झील के किनारे के हिस्से पर चीन का एक नक्शा भी तैयार किया है जो मई में वापस भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच होने वाली लड़ाई की साइट के करीब है. यह गलवान घाटी के दक्षिण में 75 मील की दूरी पर स्थित एक अन्य क्षेत्र है जहां हाल के महीनों में दोनों देशों के बीच कई झड़पें हुई हैं और जहां चीन अपने कई ठिकानों का निर्माण कर रहा है.

फिंगर जोन्स में बंटा है यह इलाका
भारतीय और चीनी सेना पैंगोंग के आसपास के क्षेत्र को फिंगर्स में बांटते हैं. पैंगोंग झील के फिंगर्स इलाके में पहाड़ों और घाटियों की स्थिति हाथ की उंगलियों की तरह है और इसलिए इसे फिंगर्स एरिया कहा जाता है। यहां LAC की स्थिति पर भारत और चीन में मतभेद है और भारत झील के उत्तर पश्चिम सिरे पर 'फिंगर एक' से लेकर दक्षिणपूर्वी छोर पर 'फिंगर आठ' तक अपना दावा करता है, जबकि चीन 'फिंगर दो' तक अपना दावा करता रहा है.



चीन फिंगर 4 तक अपना दावा जता रहा है
हालांकि चीन ने हाल ही में 'फिंगर आठ' से 'फिंगर फोर' तक के इलाके पर दावा ठोक दिया है जो किनारे से लगभग आधा किमी दूर स्थित है. फिंगर चार की नोक पर दोनों पक्षों के सैनिकों को इस साल की शुरुआत में लड़ाई हो गई थी. भारत अब चीन पर विवादित क्षेत्र पर कब्जा करने का आरोप लगाता है और अपने सैनिकों को 'फिंगर चार' से पीछे हटने से मना कर रहा है. स्थिति 15 जून को सबसे ज्यादा बिगड़ गई जब दोनों देशों के सैनिकों के बीच लड़ाई हुई जिसमें 20 भारतीय सैनिक मारे गए.

ये भी पढ़ें:- 

नेपाल PM ओली को सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया

'गलवान में मारे गए सैनिकों की बात कबूली तो चीन सरकार के खिलाफ विद्रोह का डर'

भारतीय स्टेशन सैटेलाइट चित्रों के विश्लेषण से पता चलता है कि फिंगर चार और फिंगर आठ के बीच के विवादित क्षेत्र में मंदारिन भाषा में यह नक्शा और चीन शब्द लिखा गया है. यह लंबाई में 81 मीटर और चौड़ाई में 25 मीटर हैं और इतने बड़े हैं कि सैटेलाइट तस्वीरों की मदद से इन्हें आसानी से देखा जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज