लाइव टीवी
Elec-widget

दुनिया में स्वच्छता की मिसाल है ये शहर, जहां मुर्दे भी साइकिल से चलते हैं


Updated: November 12, 2019, 12:54 PM IST
दुनिया में स्वच्छता की मिसाल है ये शहर, जहां मुर्दे भी साइकिल से चलते हैं
Casket_on_Cycle

डेनमार्क (Denmark) की राजनधानी कोपेनहेगन (Copenhagen) में साइकिल चलाना परंपरा भी है और लोगों की आदत भी. फिर चाहे मौसम (Weather Update) कैसा भी हो.

  • Last Updated: November 12, 2019, 12:54 PM IST
  • Share this:
कोपेनहेगन. जहां तापमान 5 डिग्री सेल्सियस (Temperature in Celsius) से भी कम हो. हाड़ कंपाने वाली सर्द हवाएं (Chilling Breeze) चुभ रहीं हो. आसमान में बादलों का डेरा और हल्की फुहारें गिर रहीं हो. ऐसे मौसम में साइकिल (Cycling) चलाने की हिम्मत कोई नहीं करेगा. डेनमार्क (Denmark) की राजनधानी कोपेनहेगन (Copenhagen) में साइकिल चलाना परंपरा भी है और लोगों की आदत भी. फिर चाहे मौसम (Weather Update) कैसा भी हो.

एक तरफ जहां न्यू यॉर्क जैसे वैश्विक शहर अपने यहां जलवायु परिवर्तन के दबाव में साइकिल लेन को दुरुस्त करने की जद्दोजहद में लगे हैं. तो दूसरी ओर कोपेनहेगन दुनिया के स्वच्छतम शहरों में शुमार है. इसकी वजह यहां के लोगों की साइकिल चलाने की महत्वाकांक्षा है.

डेनमार्क मे लोग खुद साइकिल चलाने के लिए उत्साहित रहते हैं. यहां उन्हें किसी और से प्रेरणा लेने की जरूरत नहीं होती. समय की भी ऐसी कोई बाध्यता नहीं रखी जाती कि कहीं पहुंचने में विलंब हो जाए. साइकिल डेनमार्क के रोजमर्रा में ऐसे शामिल है कि यहां हर बच्चा, युवा, बुजुर्ग और यहां तक कि मुर्दे भी साइकिल से ही चलते हैं.

Denmark_Cycle

अटलांटिक के दूसरी ओर, न्यूयॉर्क ने साइकिल लेन शहर के अब-जटिल और मुश्किल पैचवर्क का विस्तार करने के लिए $ 1.7 बिलियन खर्च करने के इरादे की घोषणा की है. मिशन को उच्च विचार वाले लक्ष्यों के साथ शुरु किया गया है. इसमें जलवायु परिवर्तन, यातायात को सुनियोजित करना और व्यायाम को बढ़ावा देना शामिल है.

डेनमार्क में ऐसी कई मोर्चरी सेवाएं हैं जो साइकिल पर संचालित की जाती हैं. ये मुर्दे को अंतिम गंतव्य तक पहुंचाता है. लोग हवाई अड्डे पर जाने के लिए भी साइकिल का उपयोग करते हैं, कभी-कभी पहिया लगा सूटकेस रोल करते हुए इन्हें हवाई अड्डे पहुंचते देखा जा सकता है.

copenhagen bike cargo
Loading...

स्कूल और काम जाने वाले 49% लोग साइकिल का इस्तेमाल करते हैं. 55% लोगों का मानना है कि यह दूसरे विकल्पों की तुलना में अधिक सुविधाजनक है. इनमें से केवल 16% ने पर्यावरणीय लाभों का हवाला दिया.

ये भी पढ़ें:

15 साल के बेटे को मां ने दिया जहर, ड्रग ओवरडोज से मौत

पत्रकारों ने जब की महापौर पर सवालों की बौछार, तो ऐसे मिला जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 12:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com