Home /News /world /

पाकिस्‍तान में कोरोना संकट और बढ़ाएगा गरीबी, सरकार ने माना और बद्तर होंगे हालात

पाकिस्‍तान में कोरोना संकट और बढ़ाएगा गरीबी, सरकार ने माना और बद्तर होंगे हालात

पहले से ही आर्थिक तौर पर खराब हालात का सामना कर रहे पाकिस्‍तान के लिए कोरोना संकट ने आर्थिक तौर चुनौती खड़ी कर दी है. फाइल फोटो

पहले से ही आर्थिक तौर पर खराब हालात का सामना कर रहे पाकिस्‍तान के लिए कोरोना संकट ने आर्थिक तौर चुनौती खड़ी कर दी है. फाइल फोटो

बैठक में लॉकडाउन को आंशिक करने के सवाल पर कहा गया कि इससे संक्रमण की दर बढ़ सकती है, जो स्वास्थ्य व्‍यवस्‍था पर एक असहनीय बोझ डाल देगी. ऐसे में हालात और खराब हो जाएंगे.

    इस्लामाबाद. पाकिस्‍तान (Pakistan) में कोरोना वायरस (Corona virus) के प्रभाव की वजह से हो रहे आर्थिक नुकसान का जायजा लिया जाए तो देश इतिहास में अब तक की सबसे खराब आर्थिक स्थिति का सामना कर रहा है, जिसके कारण राजकोषीय घाटा 9.6 फीसदी तक पहुंच गया है. वहीं अगर संकट जारी रहा, तो विनिर्माण और सेवा क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित होने की संभावना है.

    विभिन्न उधारदाताओं के प्रतिनिधियों के साथ बैठक के बाद वित्त सलाहकार डॉ. अब्दुल हफीज शेख ने कहा कि देश इस समय सबसे खराब स्थिति में है. ऐसे में विकास दर सकल घरेलू उत्पाद के 1.57 फीसदी पर नकारात्मक रह सकती है, जबकि देश में गरीबी की स्थिति और भी बदतर होने की आशंका है.

    संकट जारी रहा, तो विनिर्माण और सेवा क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित 
    'डॉन' की खबर के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष के दौरान पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में 3.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी और उम्मीद की जा रही थी कि यह रफ्तार बरकरार रहेगी. डॉ. अब्दुल हफीज शेख की अध्यक्षता में हुई बैठक में विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक, अंतर्राष्ट्रीय विकास विभाग और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के प्रतिनिधियों ने भाग लिया.

    बैठक ने राष्ट्रीय और वैश्विक अर्थव्यवस्था पर वैश्विक महामारी के प्रभाव के कारण आर्थिक मोर्चे पर देश के सामने आने वाली विभिन्न चुनौतियों पर चर्चा की गई. वहीं वित्त मंत्रालय ने कहा कि कोरोना के प्रभाव की वजह से कोई भविष्यवाणी करना समय से पहले होगा, लेकिन अगर संकट जारी रहा, तो विनिर्माण और सेवा क्षेत्रों के साथ-साथ निर्यात क्षेत्र 2020 तक बुरी तरह प्रभावित होने की संभावना है. हालांकि इसका सकारात्मक पक्ष यह है कि पाकिस्तान की कृषि वृद्धि जारी रहने की संभावना नजर आ रही है.

    'लॉकडाउन को आंशिक किया गया तो इससे संक्रमण की दर बढ़ सकती है'
    बैठक में भाग लेने वालों ने कहा कि राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 9.6 प्रतिशत तक बढ़ सकता है, जबकि आर्थिक गतिविधियों पर प्रतिबंध और व्यवसायों को बंद करने से भी गरीबी पर प्रभाव पड़ेगा. बैठक में यह भी बताया गया कि कोरोना के संकट ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को तेजी से प्रभावित किया है, जो 3 फीसदी तक कम हो सकती है.

    वहीं बैठक में लॉकडाउन को आंशिक करने के सवाल पर कहा गया कि इससे संक्रमण की दर बढ़ सकती है, जो स्वास्थ्य व्‍यवस्‍था पर एक असहनीय बोझ डाल देगी. ऐसे में हालात और खराब हो जाएंगे. गौरतलब है कि पहले से ही आर्थिक तौर पर खराब हालात का सामना कर रहे पाकिस्‍तान के लिए कोरोना संकट ने आर्थिक तौर पर एक चुनौती खड़ी कर दी है.

    ये भी पढ़ें - पाकिस्तान में कोरोना से भुखमरी के हालत, आलू भी हुए आम आदमी की पहुंच से दूर

                     जिस मौलाना ने औरतों के छोटे कपड़ों को बताया कोरोना की वजह वो खुद पहले सिंगर था


    Tags: Corona, Islamabad, Pakistan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर