कोरोना : डेनमार्क में पार्टनर के साथ प्रवेश चाहिए, तो देना होगा प्‍यार का सुबूत

पुलिस सबूत के रूप में मैसेज या व्यक्तिगत जानकारी को भी स्वीकार करेगी.
पुलिस सबूत के रूप में मैसेज या व्यक्तिगत जानकारी को भी स्वीकार करेगी.

पुलिस सबूत के रूप में मैसेज या व्यक्तिगत जानकारी को भी स्वीकार करेगी. विशेष रूप से लोगों को यह साबित करने की जरूरत होगी कि संकट से पहले वे नियमित रूप से व्यक्तिगत तौर पर मिला करते करते थे.

  • Share this:
कोपेनहेगन. डेनमार्क (Denmark) के अधिकारियों ने अन्य स्कैंडिनेवियाई देशों और जर्मनी के यात्रियों के लिए कोरोनो वायरस (Corona Virus) के तहत लगाए गए प्रतिबंधों में कुछ ढील दी है. बशर्ते कि यहां आने वाले लोग किसी वैध उद्देश्य के लिए देश का दौरा कर रहे हों. नए नियमों के तहत अब देश में अपने जीवनसाथी या मंगेतर के साथ भी इच्छुक लोगों के लिए प्रवेश की अनुमति होगी. हालांकि यह नियम उन दूसरे जोड़ों पर भी लागू होंगे, जो कम से कम छह महीने से रिश्ते में थे. ऐसे में उन्‍हें अपने रिश्ते और इसकी अवधि के सुबूत पेश करने की जरूरत होगी.

इस संबंध में उप पुलिस प्रमुख एलन दलागर क्लॉसन ने डेनिश ब्रॉडकास्टर से कहा, 'इसके लिए वे एक तस्वीर या एक प्रेम पत्र साथ ला सकते हैं.' उन्होंने आगे कहा, 'हालांकि मुझे पता है कि ये बहुत अंतरंग बातें हैं, लेकिन साथी के साथ जाने का व्‍यक्तिगत निर्णय अंततः इसी पर टिका हुआ है. बाद में सरकार ने कहा कि कुछ दिनों के भीतर डेनमार्क के लोगों को अपनी सीमाओं में रहते हुए प्रवेश के लिए लिखित घोषणा प्रस्तुत करने के लिए कहा जाएगा. वहीं इस मामले में न्याय मंत्री निक हैकरप ने स्थानीय चैनल टीवी 2 को बताया, 'अगर आप कहते हैं कि आप एक रिश्ते में हैं और इसे लिखित रूप में रखें, तो बस इतना काफी है.'

नए नियमों के तहत अब दादा-दादी भी पोते-पोतियों से मिल सकेंगे
पुलिस सबूत के रूप में मैसेज या व्यक्तिगत जानकारी को भी स्वीकार करेगी. विशेष रूप से भागीदारों को यह साबित करने की जरूरत होगी कि संकट से पहले वे नियमित रूप से व्यक्तिगत तौर पर मिला करते करते थे, क्योंकि रिश्तों में केवल लिखित या टेलीफोन बातचीत शामिल थी, जिसे वर्तमान में लागू प्रवेश प्रतिबंधों के संदर्भ में मान्यता नहीं दी जाएगी. उन्होंने कहा, 'यह तय करना आने वाले के अधिकार में होगा कि वह सीमा अधिकारियों को कौन सी जानकारी देगा. हालांकि कुछ विपक्षी सांसदों ने गोपनीयता की चिंताओं को लेकर इसको रद्द कर दिया है.'
वहीं सोशल-लिबरल पार्टी के क्रिस्टियन हेगार्ड ने कहा, 'मैंने कभी ऐसे देश के बारे में नहीं सुना, जहां प्रवेश के लिए किसी साथी को उसके निजी मैसेज या फोटो दिखाने की जरूरत पड़ी हो.' वह आगे कहते हैं, 'हमने अंतत: जोड़ों को एक-दूसरे के साथ यात्रा करने की अनुमति दी, लेकिन निजता के अधिकार को खत्म नहीं किया.' सोमवार से लागू होने वाले नियमों के तहत अब दादा-दादी को भी अपने पोते-पोतियों से मिलने के लिए डेनमार्क में प्रवेश करने की अनुमति होगी. सूची में डेनिश कॉलेजों में शामिल होने वाले छात्र भी शामिल हैं, जो लोग चिकित्सा उपचार के मकसद से यात्रा पर आते हैं. वे अंतिम संस्कार में भाग लेने आए हों या किसी जांच के लिए ही क्‍यों न आए हों. डेनिश सरकार के सप्ताह के अंत तक पर्यटकों के लिए और अधिक व्यापक दिशा-निर्देश जारी करने की उम्मीद है.



ये भी पढ़ें - PAK : विमान हादसे पर भी सियासी रुत्‍बा, बिना पहचान के ही ले गए 36 शव

                पाकिस्‍तान में कोरोना के दौरान हुई शादी, दूल्हा गया जेल, बाराती क्‍वारंटाइन

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज