कोरोना : यूएई में फंसे भारतीय वतन वापसी के इंतजार में तंगी में गुजार रहे जिंदगी

कोरोना : यूएई में फंसे भारतीय वतन वापसी के इंतजार में तंगी में गुजार रहे जिंदगी
कई भारतीय काम की तलाश में यूएई पहुंचे, लेकिन पूंजी खत्म हो जाने के बाद वे अपने घर लौटने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. फाइल फोटो

केरल के कन्नूर जिले के रहने वाले शौकत अली ने कहा, 'मेरा वीजा मई में खत्म होगा. किसी के साथ रहने पर मुझे शर्मिंदगी महसूस हो रही है और मैं वापस जाना चाहता हूं.'

  • Share this:
दुबई. नौकरी की तलाश में संयुक्त अरब अमीरात (UAE) आए कई भारतीय कोरोना वायरस (Corona virus) महामारी की वजह से लगाई गई यात्रा पाबंदियों के कारण यहीं फंसे हुए हैं. जैसे-जैसे उनके पास पैसा खत्म हो रहा है, वतन वापसी को लेकर बेसब्री उतनी ही बढ़ती जा रही है. यही वजह है कि वे अपने घर जाना चाहते हैं.

'काम करने के लिए आए थे, लेकिन अभी तक काम नहीं मिला'
केरल (Kerala) के कन्नूर जिले के निवासी शाहनाद पुलुक्कूल (26) का वीजा एक अप्रैल को खत्म हो चुका है. पुलुक्कूल ने बताया कि वह होर अल अन्ज में एक कमरे के अपार्टमेंट में चार अन्य लोगों को साथ रहते हैं. उन्होंने कहा, 'मेरे भाई ने किराए पर अपार्टमेंट ले रखा है, जिसमें चार अन्य लोग भी हमारे साथ रह रहे हैं. मेरा भाई वाहन चालक है और वही हमारी देखभाल कर रहा है. हम ड्राइवर के तौर पर काम करने के लिए यहां आए थे, लेकिन अभी काम नहीं मिला है.'

काम की तलाश में यूएई आए भारतीयों को घर लौटने का बेसब्री से इंतजार



पुलुक्कूल के अलावा कई अन्य भारतीय काम की तलाश में यूएई आए हैं, लेकिन पास की पूंजी कम होने या खत्म हो जाने के बाद वे अपने घर लौटने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. केरल के कन्नूर जिले के ही रहने वाले शौकत अली (29) भी पुलुक्कूल और उनके भाई के साथ ही रहते हैं. उन्होंने कहा कि उनका एक नौकरी के लिए चयन हो गया था, लेकिन कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते कंपनी ने भर्ती प्रक्रिया ठंडे बस्ते में डाल दी है.



केरल के कन्नूर जिले के ही रहने वाले शौकत अली (29) भी पुलुक्कूल और उनके भाई के साथ ही रहते हैं. अली ने कहा, 'मेरा वीजा मई में खत्म होगा, लेकिन मुझे यहां ठहरने की कोई वजह दिखाई नहीं दे रही. किसी के साथ रहने पर मुझे शर्मिंदगी महसूस हो रही है और मैं वापस जाना चाहता हूं.' महेश पूर्वा भी अपने हालात को लेकर चिंतित हैं. उनका वीजा 30 मार्च को खत्म हो चुका है. उन्हें 25 मार्च को दुबई छोड़ना था. मैंने सुना है कि वीजा से अधिक ठहरने पर लगने वाला जुर्माना माफ कर दिया जाएगा, फिर भी मैं अपने देश वापस लौटना चाहता हूं.'

पूर्वा अपने दोस्त के साथ रह रहे हैं, लेकिन उनका कहना है कि वह लंबे समय तक उनपर बोझ बने रहना नहीं चाहते. केरल के मुसद्दिक एम (27) ने कहा कि वह अपने घर वापस लौटना चाहते हैं क्योंकि यहां ठहरकर नौकरी तलाशने की कोई सूरत नजर नहीं आती. ट्रैवल एजेंट और सामाजिक कार्यकर्ताओं के अनुसार यूएई में फंसे ऐसे कई और लोग भी हैं.

ये भी पढ़ें - सऊदी अरब में पकड़े गए दो फर्जी पाक डॉक्‍टर, कोरोना की दवा बेच रहे थे

              यूएई और कतर से पाकिस्‍तान की फरियाद, रोका जाए नागरिकों का नौकरी से निष्‍कासन

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading