अमेरिका का बुरा हाल, रिकॉर्ड 3300 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है बजट घाटा

अमेरिका का बुरा हाल, रिकॉर्ड 3300 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है बजट घाटा
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

विश्वव्यापी महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) और मंदी के कारण अमेरिका (America) का बजट घाटा रिकार्ड 3,300 अरब डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है. बढ़ते खर्च को देखते हुए सांसद और व्हाइट हाउस पांचवें वायरस राहत पैकेज के आकार को लेकर आपस में उलझ रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 10:43 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी सरकार (America Government) का बजट घाटा रिकार्ड 3,300 अरब डॉलर पहुंच जाने का अनुमान है. कोविड-19 (Covid-19) से निपटने के लिये जारी उपायों पर हो रहे खर्च और अर्थव्यवस्था को गति देने के लिये 2,000 अरब डॉलर से अधिक के प्रोत्साहन उपायों को देखते हुए बजट घाटा रिकार्ड स्तर पर पहुंचने की आशंका है. कांग्रेस बजट कार्यालय ने यह अनुमान जताया है. घाटे में वृद्धि का मतलब है कि संघीय कर्ज अगले साल सालाना सकल घरेलू उत्पाद को पार कर जाएगा. यह स्थिति ठीक वैसी ही होगी जैसा कि विश्व युद्ध-दो के बाद हुई थी. उस समय संचयी कर्ज अर्थव्यवस्था के आकार से भी अधिक हो गया था.

बुधवार को जारी 3,300 अरब डॉलर का अनुमान 2019 के घाटे से तीन गुना से भी अधिक है. वहीं 2008-09 में आयी नरमी के स्तर से दो गुना है. एक तरफ जहां सरकार के खर्च बढ़ रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ मंदी के कारण कर राजस्व कम हुआ है. व्यक्तिगत आयकर संग्रह पिछले साल के मुकाबले 11 प्रतिशत कम है जबकि कंपनी कर संग्रह 34 प्रतिशत कम चल रही है. कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये अर्थव्यवस्था को बंद किया गया था. इसका असर अर्थव्यवस्था और लोगों के रोजगार पर पड़ा. रोजगार से हाथ धने वालों को राहत देने के लिये 1,200 डॉलर का सीधे भुगतान और प्रोत्साहन उपायों की घोषणा की गयी. इससे अल्पकाल में अर्थव्यवस्था को राहत मिली.

ये भी पढ़ें: सख्ती! अमेरिकी चुनाव के एक सप्ताह पहले गलत सूचनाएं हटाएगा फेसबुक



बढ़ते खर्च को लेकर उलझ रहे सांसद और व्हाइट हाउस
बढ़ते खर्च को देखते हुए सांसद और व्हाइट हाउस पांचवें वायरस राहत पैकेज के आकार को लेकर आपस में उलझ रहे हैं. रिपब्लिकन सांसदों में महामारी से निपटने को लेकर बढ़ती लागत को लेकर चिंता बढ़ने लगी है, जबकि डेमोक्रेटिक नियंत्रण वाले सदन ने मई में 3,500 अरब डॉलर के पैकेज को पारित किया था. हालांकि, सदन की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने इस कम कर 2,200 अरब डॉलर करने की इच्छा जतायी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज