अगले तीन साल तक खत्म नहीं होगा कोरोना वायरस- स्टडी में किया गया दावा

अगले तीन साल तक खत्म नहीं होगा कोरोना वायरस- स्टडी में किया गया दावा
जर्मन वैज्ञानिक ने दावा किया है कि कोरोना वायरस विश्व में 2023 तक रहेंगा.

यदि आप सोच रहे है कि अगले साल की शुरुआत में पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Coronavirus) से मुक्त हो जाएगी, तो आप गलत सोच रहे हैं. क्योंकि जर्मनी के वायरोलॉजिस्ट (virologist) हेन्ड्रिक स्ट्रीक ने अपनी स्टडी के आधार पर दावा किया है कि अगले 3 साल तक कोरोना वायरस खत्म नहीं होने वाला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 1:30 PM IST
  • Share this:
बर्लिन. कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया (World) में हाहाकार मचा रखा है. विश्व में इससे 27 मिलियन से ज्यादा लोग संक्रमित (Infected) हो चुके है. कोरोना वायरस संक्रमण पर स्टडी करने वाले जर्मनी के वायरोलॉजिस्ट (virologist ) हेन्ड्रिक स्ट्रीक ने एक चौंकाने वाला दावा किया है. उनके मुताबिक पूरी दुनिया से कोरोना वायरस 2023 से पहले खत्म नहीं हो पाएगा. उन्होंने कहा कि कोरोना से लड़ने और इसके संक्रमण को रोकने के लिए हमें अभ्यस्त होना होगा.

बता दें हेन्ड्रिक स्ट्रीक जर्मनी के इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी एंड एचआईवी रिसर्च के डायरेक्टर हैं. उन्होंने रिसर्च के आधार पर कहा कि यदि कोरोना से लड़ने की वैक्सीन बन भी जाती है तो इसकी कोई गारंटी नहीं है कि वो सभी पर कारगर साबित होगी, इससे बेहतर है कि लोग अपनी जिंदगी में बदलाव लाने के तैयारी करें.

यह भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ जंग में भी मिलेगा रूस का साथ, हथियारों की डील के बाद अब वैक्सीन भी देगा



आपको बता दें एक समय जर्मनी के हेन्सबर्ग में कोरोना संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा था. इस दौरान स्थानीय सरकार ने हेन्ड्रिक स्ट्रीक की मदद से कई महत्वपूर्ण कदम उठाए और कोरोना संक्रमण को काबू में किया. स्ट्रीक ने अपनी टीम के साथ हेन्सबर्ग में एक स्टडी भी की थी. जिसमें उन्होंने पता लगाने की कोशिश की कोरोना वायरस कैसे फैलता है, और वायरस को कैसे रोका जा सकता है. इसके लिए उन्होंने सलाह दी कि घरों में हाउस पार्टी पर पाबंदी लगाकर वायरस के फैलाव को धीमा किया जा सकता है.
यह भी पढ़ें: दावा! ब्रिटेन की ख़ुफ़िया एजेंसी ने किम जोंग का 'खतरनाक' प्लान किया फेल

दूसरी ओर हेन्ड्रिक स्ट्रीक ने अपनी रिसर्च के आधार पर कहा कि वायरस गायब नहीं हो रहा. यह अब हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन चुका है और यह कम से कम अगले तीन साल तक हमारे साथ ही रहेगा. इससे बचने के लिए हमें अलग रास्ते निकालने होंगे या इसके साथ ही जिंदगी गुजारना सीखना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज