Home /News /world /

कोरोना: रूस में फंसे 4 भारतीय एस्ट्रोनॉट, अस्पतालों के बाहर मरीज कर रहे घंटों इंतजार

कोरोना: रूस में फंसे 4 भारतीय एस्ट्रोनॉट, अस्पतालों के बाहर मरीज कर रहे घंटों इंतजार

पुतिन ने कहा- कोरोना का सबसे बुरा दौर गुजर गया है.

पुतिन ने कहा- कोरोना का सबसे बुरा दौर गुजर गया है.

रूस (Russia) में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) की संख्या बढ़कर करेब 1 लाख हो गयी है जबकि 972 लोगों की इससे मौत हुई है. बुधवार को भी रूस में संक्रमण (Covid-19) के 5841 नए केस सामने आए हैं जबकि 105 लोगों की इससे मौत हो गयी है.

    मॉस्को. रूस (Russia) में भी कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के हर रोज़ हज़ारों नए मामले सामने आ रहे हैं. रूस में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर करेब 1 लाख हो गयी है जबकि 972 लोगों की इससे मौत हुई है. बुधवार को भी रूस में संक्रमण (Covid-19) के 5841 नए केस सामने आए हैं जबकि 105 लोगों की इससे मौत हो गयी है. मॉस्को के सबसे बड़े अस्पताल सेंट पीटर्सबर्ग के बाहर एंबुलेंस की लंबी लाइन लगी हुई है. इसी दौरान खबर आ रही है कि स्पेस मिशन की ट्रेनिंग के लिए रूस में मौजूद 4 भारतीय पायलट (IAF Pilots) भी वहीं फंस गए हैं.

    मिली जानकारी के मुताबिक ये चारों भारतीय वायुसेना (IAF) के फाइटर पायलट हैं जो कि देश के पहले मानव स्पेस मिशन की ट्रेनिंग के लिए रूस में हैं. कुछ ही महीनों पहले इन्हें मॉस्को के गैगरीन कॉस्मोनॉट ट्रेनिंग सेंटर (GCTC) में ट्रेनिंग के लिए भेजा गया था. मिल रही खबर के मुताबिक फ़िलहाल इन चारों को संक्रमण के मद्देनज़र कमरों में ही रहने के आदेश जारी किये गए हैं. हालांकि रूस की सरकारी स्पेस बिजनेस कंपनी ग्लावकॉसमॉस जेएससी के डायरेक्टर दिमत्री लोसकुतोव ने बताया है कि चारों पायलट एक ठीक हैं, सिर्फ उनकी सुरक्षा के मद्देनज़र एहतियातन सभी कदम उठाए गए हैं.





    अस्पतालों के बहार लगी लंबी लाइन
    न्यूज़ एजेंसी एएफपी के मुताबिक मॉस्को के सबसे बड़े अस्पताल सेंट पीटर्सबर्ग के बहार एंबुलेंस की लंबी लाइन लगी हुई है. ये कतार इतनी लंबी है कि हॉस्पिटल में एडमिशन के लिए किसी भी मरीज को एंबुलेंस में ही 12 घंटे तक इंतज़ार करना पड़ रहा है. अस्पताल के मेडिकल स्टाफ ने बताया कि ऐसा नहीं है कि अस्पताल में जगह नहीं है लेकिन कोरोना संक्रमितों को बाकी मरीजों से अलग रखना काफी ज़रूरी है. ऐसे में एडमिशन प्रोसेस में सामान्य से ज्यादा वक़्त लग रहा है और एक बार में एक मरीज को ही दाखिल किया जा रहा है.

    11 मई तक बढ़ाए गए प्रतिबंध
    स्तिथि की गंभीरता को देखते हुए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने देश में काम पर लगे गए प्रतिबंध (Non-working Period) को अब 11 मई तक के लिए बढ़ा दिया है. पुतिन ने सरकार के बड़े अधिकारियों और क्षेत्रीय प्रमुखों के साथ एक टेलीवाइज्ड मीटिंग में मंगलवार को देश में कोरोना संक्रमण के हालातों का जायजा लिया. इस मीटिंग में फैसला लिया गया कि 5 मई के बाद से लॉकडाउन में कुछ छूट देना शुरू की जा सकती हैं लेकिन लोगों की सुरक्षा के मद्देनज़र नॉन वर्किंग पीरियड को 11 मई तक बढ़ा दिया जाए. इससे पहले पुतिन ने कहा था कि लॉकडाउन को अप्रैल के आखिरी हफ्ते में हटा लिया जाएगा, हालांकि तेजी से बढ़ते संक्रमण के मामलों के बीच अब ये संभव नज़र नहीं आ रहा है.



    ये भी पढ़ें:

    कोरोना से बचाने के लिए पुरुषों को क्यों दिया जा रहा है महिलाओं का सेक्स हार्मोन
    इस अमेरिकी महिला सैनिक को माना जा रहा कोरोना का पहला मरीज
    उत्तर कोरिया में किम जोंग के वो चाचा कौन हैं, जो सत्ता का नया केंद्र बनकर उभरे हैं

    Tags: Corona, Corona Virus, Russia, Vladimir Putin

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर