लाइव टीवी

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 1,110

भाषा
Updated: February 12, 2020, 9:30 AM IST
चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 1,110
कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या और बढ़ी

चीन (China) में अभी तक कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित 44,200 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है और मरने वालों की संख्या बढ़कर 1,110 पर पहुंच गई.

  • Share this:
बीजिंग. चीन में घातक कोरोना वायरस (Coronavirus) से मरने वालों की संख्या बुधवार को 1,110 हो गई और इसके अभी तक 44,200 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. हुबेई के स्वास्थ्य आयोग (National Health Commission) ने बताया कि हुबेई प्रांत में इससे 94 और लोगों की जान चली गई, जहां इस विषाणु के कारण अब तक सबसे अधिक लोग मारे गए हैं.

उसने बताया कि इसके 1,638 नए मामले भी सामने आए है और चीन में अभी तक इसके 44,200 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है. ऐसा माना जा रहा है कि यह वायरस पिछले साल हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान के उस बाजार से फैला था, जहां जंगली जानवर बेचे जाते हैं.

वहीं डब्ल्यूएचओ के प्रमुख तेदरोस अदहानोम गेब्रेयसेस ने मंगलवार को कहा था कि हालांकि इसके 99 प्रतिशत मामले चीन में है लेकिन यह पूरे विश्व के लिए एक बड़ा खतरा है. उन्होंने सभी देशों से इस संबंध में किए किसी भी शोध की जानकारी साझा करने की अपील भी की थी.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूचओ) के अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों की एक टीम ब्रुस एलवर्ड (आपात स्वास्थ्य स्थितियों के दिग्गज) के नेतृत्व में सोमवार रात यहां पहुंची थी. टीम ने मंगलवार को कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने को लेकर चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ चर्चा शुरू की.

चीन अधिकारियों ने मंगलवार को हुबेई से दो वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारियों को बर्खास्त कर उसकी राजधानी वुहान में प्रतिबंध कड़े कर दिए थे. वहां पहले से ही करोड़ों लोग प्रतिबंधों के दायरे में है.

कोरोना वायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है लेकिन इनमें से केवल छह विषाणु ही लोगों को संक्रमित करते हैं. इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है लेकिन ‘सिवीयर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम’ (सार्स) ऐसा कोरोनावायरस है जिसके प्रकोप से 2002-03 में चीन और हांगकांग में करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें: चीन में जला दिए गए 10000 मरीजों के शव? सैटेलाइट इमेज से आशंका को मिला बल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 9:30 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर