लाइव टीवी

कोरोना वायरस की वजह से अब पूरी दुनिया में कॉन्डम की कमी का संकट

News18Hindi
Updated: March 28, 2020, 11:51 PM IST
कोरोना वायरस की वजह से अब पूरी दुनिया में कॉन्डम की कमी का संकट
कोरोना वायरस की वजह से कॉन्डम बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी का प्रोडक्शन बंद पड़ा है.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की वजह से कॉन्डम (Condom) बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बंद पड़ी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2020, 11:51 PM IST
  • Share this:
क्वालालंपुर: कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से पूरी दुनिया को अब नए तरह के संकट का सामना करना पड़ सकता है. वायरस के संक्रमण की वजह से अब पूरी दुनिया में कॉन्डम (Condom) की कमी हो सकती है. संक्रमण की वजह से कॉन्डम बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बंद पड़ी है. इसकी वजह से दुनियाभर के देशों को कॉन्डम की कमी का सामना करना पड़ सकता है.

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस के संक्रमण के वजह से मलेशिया में कॉन्डम बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी का प्रोडक्शन ठप पड़ा है. पूरी दुनिया में ये कंपनी कॉन्डम की सप्लाई करती है. एक आंकड़े के मुताबिक दुनियाभर के हर 5 में से एक कॉन्डम मलेशिया की कंपनी Karex Bhd का होता है. पिछले एक हफ्ते से इस कंपनी की तीन फैक्ट्रियों ने एक भी कॉन्डम नहीं बनाया है. सरकार के आदेश के बाद कंपनी में लॉक डाउन है. इसकी वजह से अब पूरी दुनिया में कॉन्डम की कमी हो सकती है.

कई देशों में सप्लाई की जाती है मलेशिया से कॉन्डम
मलेशिया की कंपनी ड्यूरेक्स ब्रांड नेम से दुनियाभर में कॉन्डम की सप्लाई करती है. कहा जा रहा है कि पहले से ही 100 मिलियन यानी 10 करोड़ कॉन्डम की कमी है. ड्यूरेक्स ब्रांड नेम से कंपनी ब्रिटेन की हेल्थ सर्विस को भी कॉन्डम की सप्लाई करती है. इसके साथ ही यूएन के पॉपुलेशन कंट्रोल प्रोग्राम के तहत भी इस कंपनी के कॉन्डम बांटे जाते हैं.



शुक्रवार को कंपनी को अपना प्रोडक्शन दोबारा से शुरू करने की इजाजत मिली है. लेकिन कंपनी सिर्फ अपनी क्षमता का सिर्फ 50 फीसदी प्रोडक्शन ही कर सकती है. जरूरी सामानों की सप्लाई जारी रहने के मद्देनजर कंपनी को अफनी फैक्ट्री दोबारा से चलाने की अनुमति मिली है.



कंपनी की तरफ से कहा गया है कि फैक्ट्री के अचनाक प्रोडक्शन शुरू करने में वक्त लगेगा. हम लोग डिमांड को पूरा करने के लिए संघर्ष करेंगे. हालांकि हमें अपनी आधी क्षमता का उपयोग करने की ही इजाजत मिली है.

कॉन्डम की कमी महीनों के लिए हो सकती है
कंपनी की तरफ से कहा गया है कि हम लोग हर जगह कॉन्डम की कमी देख रहे हैं. ये बहुत डरावना है. सबसे चिंताजनक बात ये है कि कई जगहों पर मानवीय प्रोग्राम चलाए जा रहे हैं. खासकर अफ्रीका में. कॉन्डम की कमी एक-दो हफ्ते या एकाध महीने के लिए नहीं होगी, ये महीनों बनी रह सकती है.

दक्षिणीपूर्वी एशिया के देशों में मलेशिया कोरोना वायरस से बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. यहां कोरोना वायरस के संक्रमण के अब तक 2,161 मामले सामने आ चुके हैं. वायरस की वजह से 26 लोगों की मौत हो चुकी है. मलेशिया में 14 अप्रैल तक लॉक डाउन है.

कॉन्डम के अन्य उत्पादक देशों में चीन आगे हैं. चीन में वायरस संक्रमण की वजह से फैक्ट्रियां बंद हैं. भारत और थाईलैंड भी कॉन्डम उत्पादक देशों में हैं. लेकिन यहां भी पिछले दिनों वायरस संक्रमण तेजी से फैला है. मलेशिया में लॉक डाउन की वजह से कॉन्डम के साथ मेडिकल ग्लव्स जैसी जरूरी मेडिकल सामानों का भी प्रोडक्शन रुका पड़ा है.
ये भी पढ़ें:

इटली को बचाने के लिए आगे आए दुनियाभर के देश, रूस की मदद के पीछे पावर पॉलिटिक्स
कोरोना के इलाज पर दुनियाभर के देशों को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दी ये चेतावनी
मैसेजिंग ऐप पर 'सेक्स गुलाम' थीं लड़कियां, ऑनलाइन हो रही थीं ब्लैकमेल
सिर्फ 75 रुपए में होगा कोरोना का टेस्ट, 10 मिनट में मिलेगा रिजल्ट
न्यूयॉर्क में हर 17 मिनट में एक मरीज की मौत, 9 दिन में बर्बाद हो जाएगा हेल्थ सिस्टम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए साउथ एशिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 11:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading