दुनिया में कोरोना: डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन अब नहीं करेंगे चुनावी रैली

दुनिया में कोरोना: डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन अब नहीं करेंगे चुनावी रैली
बीते 24 घंटे में दुनिया भर में कोरोना संक्रमण से 5000 से ज्यादा मौतें

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव (US Presidential Election) के डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन (Joe Biden) ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते वे अब कोई रैली नहीं करेंगे. बाइडेन ने मंगलवार को डेलावेयर प्रांत में एक कार्यक्रम के दौरान यह घोषणा की.

  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका (US), ब्राजील (Brazil) और भारत (India) में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) ने लगातार भारी तबाही मचाई हुई है. मंगलवार को दुनिया भर में संक्रमण के 1 लाख 74 हज़ार नए केस सामने आए जिसके बाद कुल मामले बढ़कर 1 करोड़ 5 लाख से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में संक्रमण (Covid-19) से करीब 5 हज़ार लोगों ने जान गंवा दी और कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर अब 5 लाख 13 हज़ार पहुंच गया है. अमेरिका में 46 हज़ार, ब्राजील में 37 हज़ार और भारत में 18 हज़ार से ज्यादा नए केस सामने आए हैं.

#COVID-19: डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन अब चुनावी रैली नहीं करेंगे
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते वे अब कोई रैली नहीं करेंगे. बाइडेन ने मंगलवार को डेलावेयर प्रांत में एक कार्यक्रम के दौरान यह घोषणा की. उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर मैं डॉक्टर्स के आदेशों का पालन करने जा रहा हूं. यह केवल मेरे लिए ही नहीं बल्कि देश के लिए भी बेहतर होगा. इसका मतलब मैं अब चुनाव प्रचार के लिए कोई रैली नहीं करूंगा.

#कोविड-19: ऑस्ट्रेलिया में फिर से लॉकडाउन



संक्रमण के मामले बढ़ते देख ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे बड़े शहर मेलबर्न में फिर से लॉकडाउन लगा दिया गया है. यहां के 3.20 लाख लोगों को घर से न निकलने की सलाह दी गई है. लॉकडाउन बुधवार रात 12 बजे से लागू होगा. मेलबर्न में लॉकडाउन चार हफ्तों के लिए लगाया गया है. शहर में जाने वाली सभी फ्लाइट्स को भी रद्द कर दिया गया है. लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा गया है.



#COVID-19: चीन में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 83,534

कोरोना वायरस महामारी के चीन में मंगलवार को तीन नये मामले सामने आये हैं जिससे संक्रमितों की संख्या 83,534 पर पहुंच गई. स्वास्थ्य आयोग ने बुधवार को अपनी दैनिक रिपोर्ट में कहा कि तीनों घरेलू मामले बीजिंग के है. आयोग के अनुसार मंगलवार को इस संक्रमण से कोई मौत नहीं हुई. मंगलवार को 10 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई. 421 मरीजों का इलाज चल रहा है और सात की हालत गंभीर है। आयोग ने कहा अब तक कुल 78,479 बीमारी से ठीक हो चुके है और इससे अब तक 4,634 लोगों की मौत हो चुकी है.

#COVID-19: इस वैक्सीन ट्रायल को मिली 94 फीसदी सफलता

अमेरिका की बायोटेक फर्म इनोवियो (Inovio) ने कहा है कि कोरोना वायरस वैक्सीन की टेस्टिंग के दौरान उत्साहजनक रिजल्ट मिले हैं. फर्म ने दावा किया कि INO-4800 नाम की वैक्सीन 40 लोगों पर किए गए ट्रायल के दौरान 94 फीसदी सफल रही है. इनोवियो के मुताबिक, ये वो लोग थे जिनका पहले चरण का क्लिनिल ट्रायल पूरा हो चुका था. मतलब इन्हें चार सप्ताह में दो इंजेक्शन दिए गए थे. इनोवियो के इस टीके को INO-4800 कहा जाता है, इसे एक व्यक्ति के डीएनए को इंजेक्ट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, ताकि SARS-CoV-2 वायरस के खिलाफ एक विशिष्ट प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया निर्धारित की जा सके.

#दक्षिण कोरिया में 'चर्च' को संक्रमण के लिए सबसे जोखिम भरा बताया
दक्षिण कोरिया धार्मिक स्थानों को भी नाइट क्लब, बार और कराओके कक्षों वाली उसी सूची में शामिल करने पर विचार कर रहा है जिन्हें कोरोना वायरस संक्रमण के फैलने के संबंध में 'उच्च जोखिम' वाले स्थानों के तौर पर चिन्हित किया गया है. कोरोना वायरस संक्रमण के कई ऐसे मामले सामने आए जिनका संबंध गिरजाघरों में प्राथर्नासभाओं से था, जिसके चलते इस कदम पर विचार किया जा रहा. दक्षिण कोरिया के प्रधानमंत्री चुंग सेय क्यून ने वायरस को लेकर बुधवार को हुई एक बैठक के दौरान कहा कि देश में पिछले तीन दिन में सामने आए 40 प्रतिशत से ज्यादा मामले उपासना स्थलों से जुड़े पाए गए हैं. उन्होंने लोगों से धार्मिक सभाओं में न जाने की अपील की और बचाव संबंधी उचित उपाय लागू करने में विफल रहने के लिए गिरजाघरों एवं अन्य स्थलों की आलोचना की. चुंग ने कहा, 'अगर धार्मिक स्थल वायरस की रोकथाम संबंधी उपाय लागू करने में विफल रहते हैं और संक्रमण फैलने का जोखिम बढ़ाते हैं तो सरकार के लिए उन्हें उच्च जोखिम वाले स्थानों के तौर पर चिन्हित करना और सख्त प्रतिबंध लगाना आवश्यक हो जाएगा.'

#कोविड-19 पर पहले प्रस्ताव के लिए सहमति बनाने की कोशिश में UNSC
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद फरवरी में कोविड-19 के दुनियाभर में फैलने के बाद से इस महामारी पर पहले प्रस्ताव पर सहमति बनाने की फिर से कोशिश कर रही है. दरअसल अमेरिका और चीन के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन के संदर्भ को लेकर चल रहे विवाद के कारण इस प्रस्ताव पर सहमति नहीं बन पा रही है. फ्रांस और चीन द्वारा संशोधित प्रस्ताव के मसौदे को मंगलवार को मतदान के लिए पेश किया गया और इसके नतीजे बुधवार को आने की संभावना है. इस प्रस्ताव के मसौदे में महासचिव एंतोनियो गुतारेस की 23 मार्च की उस अपील का समर्थन किया गया है कि इस महामारी से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर युद्ध विराम हो. उन्होंने सीरिया, यमन, लीबिया, दक्षिण सूडान तथा कांगो समेत सभी संघर्ष वाले क्षेत्रों में 'शत्रुता को फौरन रोकने' की मांग की है.

इसमें सभी संघर्षरत पक्षों से कम से कम लगातार 90 दिनों के लिए संघर्षविराम की अपील की गई है ताकि मानवीय और चिकित्सीय सहायता अबाधित रूप से मुहैया कराई जा सके. मसौदा प्रस्ताव के मुताबिक यह आतंकवादी संगठनों इस्लामिक स्टेट तथा अलकायदा और उनसे संबंधित संगठनों के खिलाफ जारी सैन्य अभियानों पर लागू नहीं होगा. सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करने की निरंतर कोशिशें विश्व स्वास्थ्य संगठन का संदर्भ आने पर बाधित रही हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अप्रैल की शुरुआत में डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली आर्थिक सहायता पर रोक लगाते हुए उस पर इस विषाणु को तब रोकने में नाकाम रहने का आरोप लगाया जब सबसे पहले यह चीन में सामने आया था. उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए और उन्होंने डब्ल्यूएचओ पर चीन की करतूतों पर पर्दा डालने का आरोप लगाया. वहीं चीन ने डब्ल्यूएचओे का कड़ा समर्थन किया है और उसने कहा कि कोविड-19 पर वैश्विक कार्रवाई में उसकी भूमिका को प्रस्ताव में शामिल किया जाना चाहिए.

#अमेरिका ने मार्केट से खरीद ली सारी रेमेडेसिविर दवा
कोरोना से ब्राजील में 60 हजार लोगों की मौत हुई है, जिसके बाद अमेरिका ने ग्लोबल मार्केट से  remdesivir दवा के लगभग पूरे स्टॉक खरीद लिए हैं. अमेरिका में कोरोना संक्रमितों के इलाज में ये दवा काफी कारगर साबित हो रही है.

#अमेरिका में हर रोज आ सकते हैं संक्रमण के एक लाख मामले
संक्रामक बीमारियों के विशेषज्ञ और टास्क फ़ोर्स के सदस्य डॉक्टर एंथनी फॉसी ने कहा है कि अमरीका में अब भी कोरोना वायरस की महामारी को पूरी तरह से नियंत्रित नहीं किया जा सका है. फॉसी ने कहा कहा कि अमेरिका आने वाले समय में और अधिक मुसीबत में घिरने जा रहा है. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना शुरू नहीं किया और मास्क पहनना शुरू नहीं किया तो अमरीका में हालात और ख़राब हो जाएंगे. मौजूदा समय में अमरीका में हर रोज़ संक्रमण के क़रीब 40 हज़ार मामले सामने आ रहे हैं. फॉसी ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर एहतियात नहीं बरती गई तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि आने वाले समय में अमेरिका में हर रोज़ एक लाख से अधिक मामले आएंगे.

#यूरोपीय संघ ने अमेरिकी पर्यटकों के लिए नहीं खोली सीमाएं
यूरोपीय संघ (ईयू) ने मंगलवार को घोषणा की कि वह 14 देशों के यात्रियों के लिए अपनी सीमाओं को फिर से खोल रहा है लेकिन अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण अधिकतर अमेरिकियों को कम से कम दो सप्ताह तक प्रवेश नहीं दिया जाएगा. रूस, ब्राजील और भारत जैसे अन्य कई बड़े देशों के यात्रियों को भी प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. यूरोप की अर्थव्यवस्था कोरोना वायरस के कारण काफी प्रभावित हुयी है. यूनान, इटली और स्पेन जैसे दक्षिणी यूरोपीय संघ के देश धूप पसंद करने वाले पर्यटकों को आकर्षित करने तथा प्रभावित पर्यटन उद्योगों में जान डालने के लिए बेचैन हैं.

एक अनुमान के तहत हर साल 1.5 करोड़ से अधिक अमेरिकी यूरोप की यात्रा करते हैं. यूरोपीय संघ के 27 सदस्य देशों में जिन देशों के नागरिकों को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी उनमें अल्जीरिया, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जॉर्जिया, जापान, मोंटेनेग्रो, मोरक्को, न्यूजीलैंड, रवांडा, सर्बिया, दक्षिण कोरिया, थाईलैंड, ट्यूनीशिया और उरुग्वे शामिल हैं. यूरोपीय संघ के अनुसार इस सूची को हर 14 दिनों में अपडेट किया जाना है और इसमें नए देशों को जोड़ा जा सकता है या कुछ देशों को सूची से हटाया जा सकता है. यह इस बात पर निर्भर करेगा कि वे अपने यहां इस बीमारी पर काबू पा रहे हैं या नहीं.

#नेपाल में कोरोना वायरस के 316 नये मामले
नेपाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 313 नये मामले सामने आये और इसके साथ ही देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ कर13564 हो गयी है . स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि 313 नये मामलों में से 245 पुरूष जबकि 71 महिलायें हैं. इसने बताया कि देश में कोविड-19 से अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है. मंत्रालय ने बताया कि 316 नये मामले सामने के आने के साथ ही संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 13 हजार 564 हो गयी है. इसके अनुसार देश में अब तक तीन हजार 194 कोरोना वायरस मरीज ठीक हो चुके हैं जबिक 10341 कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है. स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि देश में अब तक 228,341 नमूनों की जांच की जा चुकी है.

#चीन में सामने आया फ्लू का नया वायरस
चीन का कहना है कि वह अपने देश के सूअरों में वैज्ञानिकों द्वारा पहचाने गए नए फ्लू को फैलने से रोकने के लिए हर संभव इंतजाम कर रहा है क्योंकि यह फ्लू महामारी का रूप ले सकता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी चीन को कड़ी निगरानी रखने और कोविड-19 की तरह महामारी का रूप लेने की क्षमता रखने वाली इस फ्लू को रोकने को कहा है. जॉन हॉप्किंस विश्वविद्यालय के अनुसार, चीन पहला देश है जहां दिसंबर, 2019 में कोविड-19 का पहला मामला सामने आया था जो धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैल गया और अभी तक इस कोरोना वायरस से 10,424,992 लोग संक्रमित हुए हैं वहीं 509,706 लोग इस संक्रमण से मरे हैं. चीन में इससे अभी तक 83,531 लोग संक्रमित हुए हैं और 4,634 लोग की संक्रमण से मौत हुई है. आधिकारिक मीडिया में मंगलवार को आयी खबर के अनुसार, चीन के अनुसंधानकर्ता पहले ही चेतावनी जारी कर चुके हैं कि कोविड-19 महामारी के बाद सूअरों से फैलने वाला एक इंफ्लूएंजा भी महामारी का रूप ले सकता है.

#भारत ने कोविड-19 महामारी से संबंधित संयुक्त राष्ट्र की पहल का समर्थन किया
कोविड-19 महामारी से संबंधित फर्जी खबरों और गलत सूचनाओं को सोशल मीडिया पर फैलने से रोकने वाली संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस की वैश्विक पहल का भारत समर्थन कर रहा है. साथ ही भारत ने कोविड-19 महामारी से संबधित सूचनाओं में हेर-फेर से निपटने के लिए एक बयान भी जारी किया है. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन ने ट्वीट किया, ' हम एंतोनियो गुतारेस की संयुक्त राष्ट्र संचार प्रतिक्रिया पहल 'वेरिफाइड' का समर्थन करते हैं और कोविड-19 महामारी के इस समय में इससे संबंधित गलत सूचनाओं से निपटने के लिए वैश्विक कार्रवाई का आह्वान करते हैं.'

भारत के साथ ही आस्ट्रेलिया, चिली, फ्रांस, जॉर्जिया, इंडोनेशिया, लेबनान, मॉरिशस, नार्वे और दक्षिण अफ्रीका समेत अब तक 132 देश इस पहल के साथ जुड़ चुके हैं जोकि कोरोना वायरस पर गलत सूचना को दूर करने के लिए तथ्य-आधारित सामग्री उपलब्ध कराने की आवश्यकता पर ध्यान केंद्रित करता है. संयुक्त राष्ट्र ने 'वेरिफाइड' पहल की शुरुआत की थी. इसका उद्देश्य कोविड-19 के बारे में फैलाई जा रही गलत सूचनाओं के बढ़ते प्रवाह से निपटने के लिए इससे संबंधित सटीक और विश्वसनीय सूचनाओं का अधिक से अधिक प्रसार करना है.

#ब्रिटेन में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पर परीक्षण की अनुमति मिली
ब्रिटेन की चिकित्सा नियामक एजेंसी ने मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का कोविड-19 के लिए परीक्षण बहाल करने की अनुमति दे दी है. परीक्षण में यह देखा जाएगा कि यह दवा लेने पर स्वास्थ्यकर्मियों का कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव होता है या नहीं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी इस दवा के फायदे गिना चुके हैं. दवा और स्वास्थ्य देखभाल उत्पाद नियामक एजेंसी ने पिछले महीने प्रतिष्ठित पत्रिका ‘लांसेट’ में एक शोध के छपने के बाद इस दवा के परीक्षण पर रोक लगा दी थी. शोध में कहा गया था कि दवा के इस्तेमाल से मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है. पता चला कि इस शोध के लिए जिन आंकड़ों का इस्तेमाल हुआ वो सही नहीं थे.

पूर्व में ब्रिटेन में बड़े स्तर पर परीक्षण में पाया गया कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन कोविड-19 से मरीजों की मौत को रोकने में कारगर नहीं साबित हुई. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी ब्रिटेन और दूसरी जगहों के उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर दवा पर अपने परीक्षण को स्थगित कर दिया था. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि एहतियाती तौर पर पहले ही हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा दी जाए तो संक्रमण से बचाव होगा या नहीं इसका पता अभी नहीं लग पाया है.

#पाकिस्तान में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,846 नए मामले
पाकिस्तान में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,846 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या देश में 209,337 हो गई. वहीं इस अवधि में 118 लोगों की मौत भी हुई जिसके बाद मृतकों की संख्या 4,304 पहुंच गयी. कुल संक्रमितों में से सबसे ज्यादा 81,985 मामले सिंध प्रांत से, पंजाब से 75,501 मामले, खैबर-पख्तुनख्वा में 26,115, इस्लामाबाद में 12,775, बलूचिस्तान में 10,426, गिलगित-बाल्तिस्तान में 1,470 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 1,065 मामले हैं. राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 2,846 नए मामले आए हैं और 118 लोगों की मौत हो चुकी है. अब तक कुल 98,503 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं और 2,689 की हालत नाजुक है.

#मिस्र के अस्पताल में लगी आग, कोरोना वायरस से संक्रमित सात लोगों की मौत
मिस्र के एक अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई में आग लगने से कोविड-19 के सात मरीजों की मौत हो गई. अलेक्जेंड्रिया के गवर्नर मेाहम्मद अल शरीफ ने बताया कि मिस्र के उत्तरी तट के पास अलेक्जेंड्रिया में एक निजी अस्पताल के कोरोना वायरस कक्ष में आग लग जाने से छह पुरुषों एवं एक महिला की मौत हो गई. नागरिक सुरक्षा विभाग ने कहा कि यह आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी. लोक अभियोजकों ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है, लेकिन शुरुआती रिपोर्ट में संकेत मिला है कि सबसे पहले आग कक्ष के एयर कंडिशनर में लगी. बाडरावी अस्पताल ने एक बयान में कहा, 'कुछ ही सेकंड में भयानक आग लग गई और तेजी से आग फैलने के कारण हमारा कोई कर्मी हालात पर काबू नहीं कर पाया.' अभियोजकों ने बताया कि अन्य एक मरीज झुलस गया और शेष को बाहर निकाल लिया गया है.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading