दुनिया में कोरोना: 24 घंटे में 2 लाख 76 हज़ार नए केस, हांगकांग ने सालभर के लिए टाले चुनाव

दुनिया में कोरोना: 24 घंटे में 2 लाख 76 हज़ार नए केस, हांगकांग ने सालभर के लिए टाले चुनाव
बीते 24 घंटे में दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के 2 लाख 76 हज़ार मामले सामने आए

गुरूवार को दुनिया भर में संक्रमण (Covid-19) के 2 लाख 76 हज़ार नए केस सामने जिसके बाद कुल मामले बढ़कर अब 1 करोड़ 74 लाख से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में करीब 6200 लोगों की संक्रमण से मौत हो गयी और कुल मौतों की संख्या बढ़कर 6 लाख 75 हज़ार हो गयी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 31, 2020, 10:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका (US), ब्राजील (Brazil), भारत (India) और साउथ अफ्रीका (South Africa) में लगातार कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की मार जारी है. गुरूवार को दुनिया भर में संक्रमण (Covid-19) के 2 लाख 76 हज़ार नए केस सामने जिसके बाद कुल मामले बढ़कर अब 1 करोड़ 74 लाख से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में करीब 6200 लोगों की संक्रमण से मौत हो गयी और कुल मौतों की संख्या बढ़कर 6 लाख 75 हज़ार हो गयी है. अमेरिका में 68 हज़ार, ब्राजील में 58 हज़ार, भारत में 54 हज़ार और साउथ अफ्रीका में 11 हज़ार नए मामले सामने आए हैं.

#ब्रिटेन में लॉकडाउन पाबंदियों में और छूट देने पर रोक
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने देश में लॉकडाउन पाबंदियों में और ढील दिये जाने पर शुक्रवार को इस आशंका के चलते रोक लगा दी कि कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है. लॉकडाउन में इस सप्ताहांत और ढील दी जानी थी. जॉनसन ने लंदन के डाउनिंग स्ट्रीट में एक ब्रीफिंग को संबोधित करते हुए कहा, 'हमें वायरस को नियंत्रण में रखने के लिए और सख्ती अपनानी होगी.' उन्होंने यह भी घोषणा की कि सार्वजनिक परिवहन और सिनेमाघरों के अलावा कई और सार्वजनिक स्थलों पर फेस मास्क लगाना अनिवार्य हो जाएगा. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (ओएनएस) के आंकड़ों का हवाला देते हुए जॉनसन ने कहा, 'ब्रिटेन में मई के बाद पहली बार समुदाय में वायरस का संक्रमण बढ़ने की आशंका है.' ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने हालांकि इस बात पर जोर दिया कि कोरोना वायरस के खिलाफ प्रगति जारी है, प्रतिदिन और सप्ताह में होने वाली मौतों की संख्या में कमी आ रही है, लेकिन साथ ही चेतावनी दी है कि कुछ यूरोपीय देश इसे नियंत्रित करने के लिए "संघर्ष" कर रहे हैं. उन्होंने कहा, 'ब्रिटेन को प्रतिक्रिया के लिए तैयार रहना चाहिए.' जॉनसन ने हालांकि, इस बात से इनकार किया कि पहली बार लॉकडाउन पाबंदियां हटाने में ब्रिटेन ने बहुत तेजी दिखायी. उन्होंने घातक वायरस के संक्रमण से बचने के लिए स्वच्छता और सामाजिक दूर बनाये रखने जैसी सावधानी बरतने की अपील की.

# हांगकांग में कोरोना वायरस के कारण एक साल तक टाले गए चुनाव
हांगकांग की नेता कैरी लाम ने शुक्रवार को घोषणा की कि सरकार कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से फैलने के मद्देनजर बहुप्रतीक्षित विधान परिषद चुनावों को एक साल के लिए स्थगित करेगी. हॉन्ग कॉन्ग सरकार चुनाव स्थगित करने के लिए आपातकालीन अध्यादेश लागू कर रही है. लाम ने कहा कि इस निर्णय में उन्हें चीन सरकार का समर्थन प्राप्त है. लाम ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'मुझे आज जो घोषणा करनी पड़ी है, वह मेरे लिए पिछले सात महीने में सबसे मुश्किल फैसला था.' उन्होंने कहा कि लोगों का स्वास्थ्य, उनकी सुरक्षा और चुनावों की निष्पक्षता सुनिश्चित करने की आवश्कता है. चुनाव स्थगित किए जाने का फैसला लोकतंत्र समर्थक विपक्ष के लिए बड़ा झटका है. विपक्ष इस चुनाव में चीनी समर्थकों से जनता का मोहभंग होने का लाभ उठाने की आस लगाए बैठा था. इस घोषणा से पहले 22 नेताओं ने एक बयान जारी करके सरकार पर आरोप लगाया था कि वह चुनाव में देरी करने के लिए संक्रमण का बहाना बना रही है. हॉन्ग कॉन्ग में शुक्रवार तक कोरोना वायरस संक्रमण के 3,273 मामले सामने आ चुके हैं.



# नेपाल सरकार ने काठमांडू में रात में यात्री वाहनों के प्रवेश पर रोक लगाई
नेपाल सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के मामलों में तीव्र वृद्धि के मद्देनजर रात के वक्त शहरों में यात्री वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी है. गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि बृहस्पतिवार से शाम सात बजे से लेकर सुबह सात बजे तक काठमांडू में यात्री वाहनों की प्रवेश की इजाजत नहीं होगी. यह निर्णय तब लिया गया है जब यह देखा गया कि हाल के दिनों में काठमांडू पहुंचने वाले लोगों में बहुत सारे कोविड-19 से संक्रमित पाये गए. राजधानी में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस के 45 नये मामले सामने आये। उसी दिन अन्य जिलों से यहां पहुंचे 24 लोग इस वायरस से संक्रमित पाये गए थे. अधिकारियों का कहना है कि लेकिन इस नियम से जरूरी और अन्य मालों की ढुलाई पर असर नहीं पड़ेगा. सरकार ने काठमांडू के तीन प्रवेश मार्गों पर जरूरी जांच सुविधाएं और कर्मी तैनात किए हैं.

# ब्रिटेन ने ईद के मद्देनजर कड़े लॉकडाउन नियमों की घोषणा की
मैनचेस्टर, ब्रैडफोर्ड और लीसेस्टर शहरों समेत उत्तरी इंग्लैंड में लाखों परिवारों को ब्रिटेन के बाकी हिस्सों की तुलना में शुक्रवार से कड़े लॉकडाउन नियमों का सामना करना पड़ेगा. ब्रिटेन में कोविड-19 मामलों की संख्या बढ़ने की आशंका में ईद के मद्देनजर कड़े लॉकडाउन नियमों की घोषणा की गई है. नियमों के तहत एक साथ घर से बाहर निकलने पर प्रतिबंध शामिल है. ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने बताया, 'हम कोरोना वायरस के प्रसार के नवीनतम आंकड़ों को लगातार देख रहे हैं, और दुर्भाग्यवश हमने उत्तरी इंग्लैंड के कुछ हिस्सों में संक्रमण की बढ़ती दर देखी है.' उन्होंने कहा, 'संक्रमण का प्रसार काफी हद तक घरों में मिलने-जुलने और सामाजिक दूरी बनाये रखने संबंधी नियम का पालन नहीं करने के कारण होता है.' स्वास्थ्य और सामाजिक देखभाल विभाग ने कहा, 'मस्जिदों और अन्य पूजा स्थलों को प्रार्थना के लिए फिर से खोल दिया गया है, लेकिन कोविड-19 से बचने के लिए सामाजिक दूरी बनाये रखनी होगी.'

# ब्रिटेन में अब 300 लोगों को कोरोना वायरय से प्रतिरक्षण के लिए टीके लगाएंगे वैज्ञानिक
इंपीरियल कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने कहा कि वे कोरोना वायरस से प्रतिरक्षण के लिए सैकड़ों लोगों को प्रयोग्यात्मक टीका लगाएंगे. टीके के अभी तक के परीक्षणों में इसके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक ना होने की बात सामने आने के बाद यह कदम उठाया जा रहा है. कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. रॉबिन शैट्टॉक ने बताया कि उन्होंने और उनके सहकर्मियों ने टीके की कम खुराक पहले कुछ लोगों को दी, जिसके बाद अब वे करीब 300 लोगों को यह टीका लगाएंगे. उन लोगों में से कुछ की उम्र 75 साल से अधिक है. उन्होंने कहा, 'इसका कोई हानिकारक प्रभाव नहीं है. 'इंपीरियल में टीके संबंधी अनुसंधान का नेतृत्व कर रहे शैट्टॉक ने कहा कि हम अब भी इस पर अध्ययन कर रहे हैं. वह अक्टूबर में कई हजार लोगों को टीका लगाने के लिए पर्याप्त सुरक्षा डेटा हासिल करना चाहते हैं. शैट्टॉक ने कहा कि ब्रिटेन में कोविड-19 के मामलों में अचानक से कमी आने के कारण, टीका काम करेगा या नहीं इसका यहां पता लगाना मुश्किल हो गया है, इसलिए वह और उनका दल अब कहीं और टीके का परीक्षण करेगा.

#अमेरिका की संसद में सांसदों का मास्क पहनना अनिवार्य
अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (संसद का निचला सदन) की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने अपने सभी सदस्यों और स्टाफ को मास्क पहनने का आदेश दिया है. उन्होंने कहा कि नियम तोड़ने वालों को सदन से बाहर निकाल दिया जाएगा. सदन में अक्सर बिना मास्क के नजर आने वाले टेक्सास रिपब्लिकन लुई गोमर्ट बुधवार को संक्रमित पाए गए. इसके बाद उन्होंने यह फैसला लिया. सदस्यों को तभी मास्क उतारने की अनुमति होगी, जब वे सदन में बोल रहे हो. अमेरिका में अब तक तीन डेमोक्रेट और सात रिपब्लिकन संक्रमित हो चुके हैं.

#अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति कैंडिडेट का निधन
अमेरिका का राष्ट्रपति बनने की दौड़ में शामिल रहे हरमन कैन का कोरोना के चलते निधन हो गया. वे 74 साल के थे. 2012 में वे राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन कैंडिडेट थे. राष्ट्रपति ट्रंप की ओक्लाहोमा की चुनावी रैली (20 जून) में शामिल होने के बाद वे संक्रमित हुए थे. इस महीने की शुरुआत में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

#बोलसोनारो की पत्नी भी संक्रमित
ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो की पत्नी और फर्स्ट लेडी मिशेल बोल्सोनारो गुरुवार को संक्रमित पाए गए. राष्ट्रपति ऑफिस के मुताबिक, उनकी हालत बेहतर है और वे सभी प्रोटोकॉल को फॉलो कर रही हैं. मिशेल को आखिरी बार बुधवार दोपहर सार्वजनिक रूप से देखा गया था. वे अपने पति के साथ ब्रासीलिया में एक प्रोग्राम में शामिल हुई थीं. राष्ट्रपति बोल्सोनारो सात जुलाई को संक्रमित पाए गए थे. करीब दो हफ्ते के बाद शनिवार को उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी.

ब्राजील के साइंस और टेक्नोलॉजी मंत्री मार्कोस पोटेंस ने गुरुवार को घोषणा की कि उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. उन्होंने ट्वीट किया- वे बेहतर हैं. मार्कोस राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो प्रशासन के पांचवें मंत्री हैं, जो पॉजिटिव हैं. इससे पहले इंटरनल सिक्योरिटी मिनिस्ट्री ऑगस्टो हेलनो, माइंस एंड इनर्जी मिनिस्ट्री बेंटो अल्बुकर्क, नारिकता मंत्री गोमेद लॉरेंजोनी और शिक्षा मंत्री मिल्टन रिबेरो पॉजिटिव आए हैं. वहीं, देश में अब तक 90 हजार से ज्यादा जान जा चुकी है, जबकि 25 लाख से ज्यादा संक्रमित हैं.

#ब्रिटेन में अब 7 नहीं 10 दिन का होगा क्वारंटीन
ब्रिटेन में जो लोग कोविड-19 से संक्रमित हैं या जिनमें इसके कुछ लक्षण दिखायी देते हैं, उनके लिये पृथक-वास की अवधि एक सप्ताह से बढ़ाकर 10 दिन कर दी गई है. यह बात ब्रिटेन के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों की ओर से बृहस्पतिवार को जारी अद्वतन दिशानिर्देश में कही गई है. अभी तक जिन लोगों में लगातार खांसी, तापमान में बढ़ोतरी, गंध या स्वाद नहीं आने जैसे लक्षण दिखायी देते थे उन्हें खुद ही सात दिन के लिए पृथक-वास में चले जाने के लिए कहा जाता था. इस अवधि को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लयूएचओ) के दिशा-निर्देशों के अनुरूप 10 दिन कर दिया गया है.

इंग्लैंड, उत्तरी आयरलैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों (सीएमओ) ने एक संयुक्त बयान में कहा, 'लक्षण वाले व्यक्तियों में लक्षण दिखने शुरू होने से पहले और शुरूआती कुछ दिनों के दौरान कोविड-19 अधिक संक्रामक होता है. लक्षण वाले लोगों के लिये स्वयं ही पृथकवास में जाना और जांच कराना बहुत जरूरी है जिससे उनके सम्पर्क में आये लोगों का पता लगाने में मदद मिलेगी.' उन्होंने कहा, 'इसको लेकर साक्ष्य, हालांकि अभी भी सीमित हैं, लेकिन ये दिखाते हैं कि हल्के लक्षण वाले कोविड-19 मरीज जो अधिक बीमार नहीं हैं और ठीक हो रहे हैं, उनसे संक्रमण फैलने की गुंजाइश कम होती है, लेकिन बीमारी की शुरुआत के बाद सात और नौ दिनों के बीच संक्रमण फैलने की असल में संभावना होती है.'

#नेपाल में कोविड-19 के 274 नए मामले सामने आए
नेपाल में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण तीन और मरीजों की मौत होने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 52 हो गई जबकि संक्रमण के 274 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 19,547 पहुंच गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता जगेश्वर गौतम ने बताया कि मोरंग और पारस जिलों में 45,70 और 68 वर्ष के तीन मरीजों की संक्रमण के कारण मौत हो गई. संक्रमण के 274 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 19,547 पहुंच गई है. देश में अब भी 5,227 लोग संक्रमित हैं.

#अमेरिका ने पाकिस्तान को 100 वेंटिलेटर दान किए
अमेरिका ने कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने में मदद करने के लिए पाकिस्तान को बृहस्पतिवार को 100 वेंटिलेटर मुहैया कराए. पाकिस्तान में इस महामारी से 2,77,000 से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और करीब 6,000 लोगों की मौत हो चुकी है. इस्लामाबाद में अमेरिकी दूतावास ने एक बयान में कहा कि 'कोविड-19 से निपटने के लिए मिलकर काम करने' के प्रतीक के तौर पर 100 वेंटिलेटर पाकिस्तान के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को सौंपे गए.

बयान में बताया गया कि 'यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट' के जरिए मुहैया कराए गए वेंटिलेंटर 28 जुलाई को इस्लामाबाद पहुंचे और उन्हें पाकिस्तान के अस्पतालों में उपलब्ध कराया जाएगा. दूतावास ने कहा कि (अमेरिका के) राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने (पाकिस्तान के) प्रधानमंत्री इमरान खान से महामारी से निपटने में पाकिस्तान की मदद करने एवं अतिरिक्त अत्यंत आवश्यक आपूर्ति मुहैया कराने का वादा किया था और इसी वादे के तहत ये वेंटिलेटर उपलब्ध कराए गए. इससे पहले, 100 वेंटिलेटरों की पहली खेप तीन जुलाई को पहुंची थी और उन्हें पाकिस्तान के अस्पतालों एवं स्वास्थ्यसेवा सुविधाओं में पहुंचा दिया गया है.

#अमेरिका में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 150,000 के पार
अमेरिका में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1,50,000 के पार चली गई है. विश्व में इस वायरस के कारण सबसे अधिक लोगों की जान अमेरिका में ही गई है. जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार अमेरिका में बुधवार तक कोरोना वायरस की वजह से 150,676 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, देश में 4,426,000 मामले हैं और वायरस से यह दुनिया का सबसे ज्यादा प्रभावित देश है. अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से पहली मौत 29 फरवरी को हुई थी. 23 अप्रैल तक यानी 54 दिन बाद 50,000 लोगों की मौत हुई और इसके 34 दिन यानी 27 मई तक 100,000 लोगों की मौत हो गई. वहीं, इसके 63 दिन बाद 50,000 और लोगों की मौत हुई.

हार्वर्ड ग्लोबल हेल्थ इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉक्टर आशीष झा ने कहा, 'मेरा मानना है कि एक देश के रूप में हम इस पर नियंत्रण नहीं कर सके, हम मौतों को रोकने की प्राथमिकता तय नहीं कर सके, जो कि अफसोसजनक है.' झा ने सीएनएन से कहा, 'इसलिए, मेरे लिए यह निराशाजनक है, दुखद है. अगले 150,000 मौतों को कैसे रोका जाए इसके रास्ते तलाशने के लिए संकल्प लेना होगा.' उन्होंने कहा, 'मेरा मानना है कि हम कर सकते हैं लेकिन हमें इसके लिए वास्तव में काम करना होगा.' संक्रामक रोग विशेषज्ञों का कहना है कि अमेरिका एक नाजुक मोड़ पर है और इसी बीच देश में स्कूलों को खोले जाने और बच्चों के आने पर बहस छिड़ी हुई है.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्फेक्शस डिजीजेज के निदेशक एंथनी फाउची ने कई गवर्नरों के साथ बातचीत में कहा कि महामारी अपने आप कम नहीं होने वाला है. इसके लिए जो लोग सामान्य स्थिति चाहते हैं, उन्हें और अनुशासित होने की जरूरत है. वहीं, जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य सुरक्षा केंद्र ने एक मीडिया रिपोर्ट में कहा कि अमेरिका को संघीय, राज्य और स्थानीय स्तर पर इस महामारी को नियंत्रण में करने के लिए नीतिगत कदम उठाने होंगे.

#कोरोना वायरस के साए में मुकम्मल किया जा रहा है हज
सऊदी अरब में बृहस्पतिवार को हज यात्री पवित्र शहर मक्का के निकट अराफात की पहाड़ी पर पहुंचे और इबादत की. पैगंबर मोहम्मद ने लगभग 1,400 साल पहले अराफात की पहाड़ी पर ही आखिरी खुतबा (उपदेश) दिया था. अराफात में इबादत हज यात्रा का अहम पड़ाव है. यहां इबादत करने के अगले दिन ईद-उल-अजहा का त्योहार मनाया जाता है. कोरोना वायरस के चलते इस बार अभूतपूर्व ढंग से हज यात्रा का आयोजन किया गया. हर साल जहां दुनियाभर के 25 लाख हज यात्री सऊदी अरब आते थे, वहीं इस साल सऊदी अरब में रह रहे केवल एक हजार से 10 हजार यात्रियों को ही हज के लिये चुना गया था. इस बार अराफात की पहाड़ी पर हज का मंजर पूरी तरह अलग दिखाई दे रहा है. बीते साल तक यहां अहराम पहने हज यात्रियों का सैलाब उमड़ता था, लेकिन इस साल हज यात्री काफी दूरी बनाकर इबादत करते नजर आ रहे हैं.

हज यात्रियों के जत्थे बृहस्पतिवार दोपहर बस के जरिये अराफात की पहाड़ी पर पहुंचे. वे कोरोना वायरस पाबंदियों का पालन करते हुए 20-20 लोगों के छोटे समूह में यात्रा कर रहे हैं. हज यात्रा शुरु करने से पहले उनकी कोविड-19 जांच की गई थी. साथ ही उन्हें पृथक-वास में भी रखा गया था. बीते वर्षों की तरह इस बार हज यात्रियों को दुनियाभर के मुसलमानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होने की अनुमति नहीं है. इस बार हज यात्रियों ने सऊदी स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से प्रदान किये गए कलाई पर बांधे जाने वाले पट्टे पहन रखे हैं. यात्रियों के मोबाइल फोन को इन पट्टों से जोड़कर उनकी निगरानी की जा रही है और सामाजिक दूरी के नियम का पालन सुनिश्चित किया जा रहा है.

#चीन में दूसरे दिन भी कोरोना वायरस संक्रमण के 100 से ज्यादा नए मामले
चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार दूसरे दिन 100 से ज्यादा आए हैं. वहीं दक्षिण अफ्रीका 4,71,000 संक्रमितों के साथ दुनिया में सबसे ज्यादा वायरस से प्रभावित पांचवा देश बन गया है. चीन में सौ से ज्यादा नए मामलों के सामने आने से देश में इस खतरनाक वायरस पर नियंत्रण की उम्मीद को झटका लग रहा है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने बृहस्पतिवार को बताया कि 105 नए मामलों में से 102 स्थानीय संक्रमण के हैं. इनमें से ज्यादातर मामले शिनजियांग प्रांत के मुस्लिम बहुल उइगर क्षेत्र से है. बुधवार तक देश में कुल संक्रमितों की संख्या 84,165 है। वहीं 574 लोगों का इलाज चल रहा है जिनमें से 33 की हालत गंभीर है. अब तक 78,957 लोग स्वस्थ हो चुके हैं.

दक्षिण अफ्रीका में इस खतरनाक वायरस से संक्रमितों की संख्या 4,71,000 हो गई. इस आंकड़े के साथ देश कोरोना वायरस से बेहद प्रभावित पांचवा देश बन गया है. वहीं अफ्रीकी महाद्वीप के कुल मामलों में से आधे दक्षिण अफ्रीका में हैं. अफ्रीका के 54 देशों में कुल संक्रमितों की संख्या 8,91,000 है. वहीं यहां कम संख्या में जांच का मतलब है कि संक्रमितों की संख्या काफी ज्यादा है. दक्षिण अफ्रीका चिकित्सा अनुसंधान परिषद की एक नई रिपोर्ट में बताया गया है कि छह मई से 21 जुलाई के बीच प्राकृतिक कारणों से 22,000 ज्यादा मौतें हुई हैं. ये मौतें कोविड-19 से या अन्य बीमारियों की वजह से हो सकती है, जिसे दर्ज नहीं किया जा सका. अराफात के पहाड़ पर दिन में इबादत करने के बाद हज यात्री इससे लगभग नौ किलोमीटर दूर मुजदलिफा जाएंगे, जहां वे आराम करेंगे और परंपरा के अनुसार कंकड़ चुनेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading