दुनिया में कोरोना: 24 घंटे में 2 लाख नए केस, मौत के मामलों में लैटिन अमेरिका का बुरा हाल

दुनिया में कोरोना: 24 घंटे में 2 लाख नए केस, मौत के मामलों में लैटिन अमेरिका का बुरा हाल
दुनिया भर में रविवार को कोरोना संक्रमण से 5000 की मौत

Coronavirus Update: रविवार को भी दुनिया भर में संक्रमण (Covid-19) के 2 लाख नए मामले सामने आए जिसके बाद कुल मामले बढ़कर 1 करोड़ 30 लाख से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में संक्रमण (Coronavirus) से 5 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत भी गयी जिसके बाद कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर अब 5 लाख 71 हज़ार से भी ज्यादा हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 13, 2020, 11:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीते 5 दिनों से दुनिया भर में संक्रमण (Coronavirus) के 2 लाख से भी ज्यादा नए केस रोजाना सामने आ रहे हैं. रविवार को भी दुनिया भर में संक्रमण (Covid-19) के 2 लाख नए मामले सामने आए जिसके बाद कुल मामले बढ़कर 1 करोड़ 30 लाख से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में संक्रमण से 5 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत भी गयी जिसके बाद कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर अब 5 लाख 71 हज़ार से भी ज्यादा हो गया है. रविवार को सबसे ज्यादा 61 हज़ार नए केस अमेरिका (US) में सामने आए जबकि भारत (India) में 29 हज़ार और ब्राजील (Brazil) में 25 हज़ार नए केस मिले.

#यूरोप के बाद लैटिन अमेरिका में सबसे ज्यादा मौतें
कोरोना संक्रमण से मौतों के मामले में लैटिन अमेरिका ने अमेरिका और कनाडा को पीछे छोड़ दिया है. लैटिन अमेरिका में अब तक 1 लाख 44 हजार 758 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि अमेरिका और कनाडा में 1 लाख 44 हजार 23 लोगों की मौत हुई है. वहीं, अब तक यूरोप में सबसे ज्यादा 2 लाख 2 हजार 505 मौतें हुई हैं.

#मैक्सिको में मौतों का आंकड़ा इटली से ज्यादा
मैक्सिको में मौतों का आंकड़ा रविवार को इटली से ज्यादा हो गया है. अब तक यहां 35 हजार 6 मौतें हुई हैं और 2 लाख 95 हजार 268 केस आए हैं. यहां कुछ हफ्ते पहले ही लॉकडाउन में ढील दी गई थी. इसके बाद से मामले बढ़ने लगे हैं. हालांकि, राष्ट्रपति एंड्रेस मैन्युएल लोपेज ने रविवार को कहा कि देश में महामारी कमजोर पड़ रही है. मीडिया इसे बेवजह तूल दे रही है.



#बोलिविया के वित्त मंत्री संक्रमित
बोलिविया के वित्त मंत्री ऑस्कर ऑरिट्ज संक्रमित पाए गए हैं. ऑरिट्ज देश के चौथे ऐसे नेता हैं जो पिछले चार दिनों में संक्रमित मिले हैं. यहां की राष्ट्रपति जेनिन ऐनेज की रिपोर्ट भी चार दिन पहले पॉजिटिव आई थी. इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री मारिया इडी रोका, खनन मंत्री जॉर्ज फर्नांनडो ओरोपेजा और प्रेसिडेंसी मिनिस्टर येर्को नुनेज नेग्रेट्‌टे भी संक्रमित मिले थे. बोलिविया में अब तक 47 हजार 200 मामले सामने आए हैं और 1 हजार 754 लोगों की जान गई है.

#फ्लोरिडा में एक दिन में संक्रमण के सर्वाधिक 15,299 नए मामले आए सामने
अमेरिका के फ्लोरिडा में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में सर्वाधिक 15,000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं. स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार रविवार को 15,299 लोग संक्रमित पाए गए और 45 लोगों की मौत हुई. फ्लोरिडा में औसत मृतक दर लगातार बढ़ रही है. देश में किसी राज्य में एक दिन में सामने आए यह सर्वाधिक नए मामले हैं। इससे पहले बुधवार को कैलिफोर्निया में 11,694 नए मामले सामने आए थे। वहीं न्यूयॉर्क में 15 अप्रैल को 11,571 नए मामले सामने आए थे. फ्लोरिडा में पिछले सप्ताह 514 लोगों की मौत हुई थी, यानी रोजाना औसतन 73 लोगों की यहां जान गई, जबकि तीन सप्ताह पहले रोजाना औसतन 30 लोगों की जान जा रही थी. फ्लोरिडा में कोरोना वायरस से 4,346 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं राज्य में 2,69,811 लोग अब तक संक्रमित पाए गए हैं.

#कोविड पार्टी में शामिल हुए शख्स की कोरोना से मौत
अमेरिका के न्यूयॉर्क में ‘कोविड पार्टी’ में शामिल 30 साल के व्यक्ति की मौत हो गई. यह पार्टी एक संक्रमित व्यक्ति की ओर से दी गई थी. सैन अंटोनियो के मेथडिस्ट अस्पताल के मेडिकल ऑफिसर के मुताबिक इस व्यक्ति ने समझा कि कोरोना अफवाह है. यह गलत है कि कोई संक्रमित पाया जाए और उसके बाद वह पार्टी में दोस्तों को यह देखने के लिए बुलाए कि वह कोरोना को हरा सकते हैं या नहीं.

#अमेरिका में स्कूल खुलने से बढ़ेगा कोविड-19 फैलने का खतरा: पेलोसी
अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नेंसी पेलोसी ने कोरोना वायरस संकट के दौरान स्कूलों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को खोलने के ट्रंप प्रशासन के निर्णय का रविवार को विरोध किया. पेलोसी ने कहा कि कक्षाओं को पुनः शुरू करने से बीमारी फैलने का खतरा बढ़ सकता है. कुछ दिन पहले ही राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि वह स्कूलों को खोलने के लिए राज्यों पर दबाव बनाएंगे. सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार में पेलोसी ने कहा, “स्कूलों को दोबारा खोलने से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ सकता है. वे स्कूल खोलने के लिए विज्ञान और शासन व्यवस्था की अनदेखी कर रहे हैं। यदि सीडीसी के दिशा निर्देश हैं तो उनका पालन किया जाना चाहिए.' हालांकि शिक्षा सचिव बेट्सी डेवोस ने फॉक्स न्यूज चैनल पर कहा कि बच्चों को स्कूल भेजना आवश्यक है.

डेवोस ने कहा, 'हम जानते हैं कि बच्चों के लिए स्कूल जाना, सीखना, शिक्षकों के साथ रहना वास्तव में जरूरी है. पूरी तरह से स्कूल खोलने का अर्थ है कि बच्चे वापस आएंगे और अगर चार परिवार अपने बच्चों को सप्ताह में पांच दिन स्कूल भेजना चाहते हैं तो यही एक उपाय है.' उन्होंने कहा, 'मुद्दा यह है कि बच्चे फिर से पूरी तरह पढ़ाई और सीखना कब से शुरू करें और हम यह कैसे सुनिश्चित करें कि उनकी सालभर की पूरी पढ़ाई का नुकसान न हो? हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि जब भी संभव हो और जैसे भी संभव हो वे कक्षा में वापस आएं और पढ़ाई पूरी तरह चालू हो.' पेलोसी ने कहा कि डेवोस की टिप्पणी गलत है और अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए की गई है. उन्होंने कहा, “हम सभी चाहते हैं कि हमारे बच्चे स्कूल जाएं. शिक्षक, बच्चे और माता पिता भी चाहते हैं. लेकिन उन्हें सुरक्षित माहौल में जाना चाहिए. प्रशासन को अपनी विफलताओं का कोई मलाल नहीं है जिसके कारण स्थिति यहां तक पहुंची है.' डेवोस ने फॉक्स न्यूज पर कहा कि ऐसे आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं जिनसे यह पता चले कि बच्चों का स्कूल जाना खतरनाक है.

#अमेरिका में फिर बढ़ी कोरोना से मौत की दर
अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण रोजाना होने वाली मौत की दर कम होने के बाद फिर से बढ़नी शुरू हो गई है. देश में पिछले कुछ महीनों से संक्रमण के कारण मौत के मामलों की संख्या में रोजाना गिरावट आ रही थी. फ्लोरिडा और टेक्सास जैसे उन राज्यों में भी मृतक संख्या कम हो रही थी, जहां संक्रमण के मामले और अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या बढ़ी है. वैज्ञानिकों ने सचेत किया था कि रोजाना कम हो रही मृतक संख्या कुछ दिनों बाद बढ़नी शुरू हो जाएगी। उनका कहना था कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कई सप्ताह बाद व्यक्ति की मौत होती है। विशेषज्ञों ने पूर्वानुमान जताया था कि संक्रमण के मामलों और अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि के कारण एक समय बाद मृतक संख्या बढ़ेगी और अब यही हो रहा है.

'हार्वर्ड यूनिवर्सिटी' में संक्रामक रोग विशेषज्ञ विलियम हानागे ने कहा, 'मृतक संख्या लगातार बढ़ रही है और जिस समय तक मृतक संख्या बढ़ने का अनुमान जताया जा रहा था, यह उसी समय बढ़ रही है.' 'जॉन्स हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी' के आंकड़ों के ‘एसोसिएटेड प्रेस’ द्वारा किए गए विश्लेषण के अनुसार अमेरिका में 10 जून को रोजाना मृतक संख्या पिछले सात दिन में औसतन 664 रही है, जबकि दो सप्ताह पहले यह 578 थी. इस समयावधि में रोजाना मरने वाले लोगों की संख्या 27 राज्यों में बढ़ी है. कैलिफोर्निया में रोजाना औसतन 91 और टेक्सास में 66 लोगों की संक्रमण से मौत हो रही है. इनके अलावा फ्लोरिडा, एरिज़ोना, इलिनोइस, न्यू जर्सी और साउथ कैरोलिना में भी रोजाना मृतक संख्या बढ़ रही है. मियामी के ‘केंडेल रीजनल मेडिकल सेंटर’ में नर्स रुबलास रुइज ने कहा, 'हमारे आईसीयू में चार दिन से भी कम समय में 10 मरीजों की मौत हुई और उसके बाद मैंने गिनना ही बंद कर दिया क्योंकि मृतक संख्या तेजी से बढ़ी.'

#अलग बेडरूम में सो रहे, वीडियो कॉल से बैठकें कर रहे हैं बोलसोनारो
कुछ महीनों पहले तक शारीरिक दूरी और मास्क लगाने की सलाहों का उल्लंघन करते हुए कोविड-19 के खतरे को कमतर करके आंक रहे ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो अब राजधानी ब्रासीलिया में अपने आधिकारिक आवास में इन्हीं नियमों का पालन कर रहे हैं. बोलसोनारो (65) ने मंगलवार को घोषणा की थी कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं और उन्हें बुखार, दर्द और बेचैनी की शिकायत है. उन्होंने अपनी यात्राओं को रद्द कर दिया है और इस हफ्ते होने वाली उनकी सभी बैठकों को वीडियो कॉल्स में बदल दिया गया है. कंजर्वेटिव पीटीबी पार्टी के अध्यक्ष रॉबर्टो जेफरसन ने कहा कि वह राष्ट्रपति आवास गए थे और एक बड़े टेलीविजन के सामने बैठे जहां वह बोलसोनारो को उनके आवास में बनाए अस्थायी कार्यालय में देख सकते थे.

जेफरसन ने शनिवार को कहा, 'मैंने पाया कि राष्ट्रपति की सेहत ठीक है.' कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद बोलसोनारो लगभग हर रोज डिजिटल बैठकें कर रहे हैं. बोलसोनारो ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए मेयरों और गवर्नरों द्वारा लगाई पाबंदियों का मजाक उड़ाते हुए कहा था कि उनकी अर्थव्यवस्था पर इसका जो असर पड़ेगा वह इस वायरस से भी ज्यादा खराब होगा. वह बार-बार इसे एक 'छोटा-सा फ्लू' बताते रहे हैं. राष्ट्रपति की चिकित्सा टीम के एक सदस्य ने बताया कि बोलसोनारो ने सोमवार से शुक्रवार पांच दिन तक हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन गोलियां ली. ब्राजील के राष्ट्रपति आवास के प्रेस कार्यालय ने एक बयान में बताया कि बोलसोनारो को उनके इलाज में कोई चिकित्सीय दिक्कत नहीं हुई.

#कोरोना वायरस के मद्देनजर सियोल के मेयर का अंतिम संस्कार आज
सियोल के मेयर पार्क वोन-सून का अंतिम संस्कार कोरोना वायरस चिंताओं को ध्यान में रखते हुए बहुत ही कम लोगों की मौजूदगी में सोमवार को किया जायेगा और अंत्येष्टि कार्यक्रम का ऑनलाइन प्रसारण किया जायेगा. पार्क का शव उनके लापता होने के कुछ घंटों बाद शुक्रवार तड़के मिला था. वह यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे थे. सांसद पार्क होंग-क्यून ने पत्रकारों को बताया कि सोमवार की सुबह सियोल सिटी हॉल में पार्क का अंतिम संस्कार ऑनलाइन किया जायेगा. उन्होंने बताया कि समिति का उद्देश्य सरकार के कोरोना वायरस विरोधी अभियान का समर्थन करना है और इसलिए इस ढंग से अंतिम संस्कार किया जायेगा.

उन्होंने बताया कि दिवंगत पार्क वोन-सून के परिवार के सदस्यों समेत लगभग 100 लोगों के अंतिम संस्कार में शामिल होने की उम्मीद है और इसका सीधा प्रसारण यूट्यूब पर किया जायेगा. सियोल के एक स्थानीय चैनल ने खबर दी थी पार्क की एक सचिव ने कथित यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए बुधवार रात उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करायी थी. पुलिस ने इस बात की पुष्टि की थी कि पार्क के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई गई थी लेकिन इस संबंध में उन्होंने विस्तृत जानकारी देने से इनकार कर दिया था.

#कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी के बाद राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री की चुनावी रैलियां रद्द
श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने देश में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि को देखते हुए अपनी सभी चुनावी रैलियां रद्द कर दी हैं. देश में संसदीय चुनाव पांच अगस्त को होने वाले हैं. अभी तक कोविड-19 के 2511 मामले सामने आए हैं और 11 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. श्रीलंका पीपुल्स पार्टी (एसएलपीपी) ने एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे की 12, 13 और 14 जुलाई को होने वाली सभी चुनावी रैलियों को रद्द कर दिया गया है. इस हफ्ते के मध्य से देश में कोविड-19 के मामले में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. श्रीलंका में शुक्रवार को कोरोना वायरस के मामले एक दिन में सर्वाधिक 300 दर्ज किए गए. शनिवार को 57 और नये मामले सामने आए. पांच अगस्त को 225 सदस्यीय संसद के सदस्यों को निर्वाचित करने के लिए चुनाव होंगे.

#फेफड़ों के बाहर कोविड-19 के लक्षणों के प्रभाव का पता चला
वैज्ञानिकों ने फेफड़ों के बाहर कोविड-19 के प्रभावों की पहली गहन समीक्षा उपलब्ध कराई है और अनुशंसा की है कि फिजिशियन इसका इलाज शरीर के विभिन्न तंत्रों को प्रभावित करने वाली बीमारी के तौर पर करें जिसमें खून के थक्के जमना, किडनी का काम न करना और बेहोशी जैसे न्यूरोलॉजिकल लक्षण शामिल हैं। इनमें भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं. अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए अध्ययन की सह लेखिका आकृति गुप्ता ने कहा, 'मैं शुरुआत से ही अग्रिम मोर्चे पर थी. मैंने पाया कि मरीजों में खून के थक्के बहुत ज्यादा जम रहे हैं, उन्हें मधुमेह नहीं होने के बावजूद उनके खून में शुगर की मात्रा बहुत ज्यादा दिख रही थी और कई के दिल और गुर्दे को नुकसान हो रहा था.'

'नेचर मेडिसिन' पत्रिका में छपे अध्ययनों की समीक्षा के मुताबिक, कोविड-19 के कई रोगियों को गुर्दा, दिल और मस्तिक संबंधी समस्या होती है. अनुसंधानकर्ताओं ने अनुशंसा की है कि चिकित्सक श्वसन बीमारी के साथ ही इन स्थितियों का भी इलाज करें. गुप्ता ने कहा, 'डॉक्टरों को कोविड-19 को बहुत से अंगों को प्रभावित करने वाली बीमारी के रूप में देखने की जरूरत है.' अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक ज्यादातर अध्ययनों में गैर श्वसन संबंधी एक बड़ी समस्या खून के थक्के जमना है और खून के थक्के जमने से दिल का दौरा पड़ सकता है.

अध्ययन के एक अन्य सह-लेखक अमेरिका में हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के कार्तिक सहगल ने कहा, 'पूरी दुनिया के वैज्ञानिक यह समझने का प्रयास कर रहे हैं कि यह वायरस किस तरह से सामान्य तौर पर सुरक्षित शारीरिक व्यवस्था को जकड़ लेते हैं. हमें उम्मीद है कि भविष्य में इससे कोविड-19 के प्रभावी इलाज में ज्यादा मदद मिल सकेगी.' वैज्ञानिकों के मुताबिक एक और आश्चर्यजनक निष्कर्ष यह पता चला कि आईसीयू में भर्ती कोविड-19 के मरीजों में किडनी क्षतिग्रस्त होने की समस्या ज्यादा अनुपात में है. उन्होंने बताया कि अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में आईसीयू में भर्ती करीब 50 फीसदी रोगियों के किडनी फेल होने की समस्या थी. गुप्ता ने कहा, 'करीब पांच से दस फीसदी रोगियों को डायलिसिस की जरूरत है. यह काफी ज्यादा संख्या है.'

#कोविड-19 की वजह से डेंगू की रोकथाम के प्रयास हो रहे प्रभावित
कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकारों ने लॉकडाउन लगाए, कई तरह की गतिविधियों पर रोक लगाई और कई तरह के कदम उठाए, हालांकि इन पाबंदियों के चलते डेंगू की रोकथाम के प्रयास प्रभावित हो रहे हैं. सिंगापुर और इंडोनेशिया जैसे दक्षिणूपर्वी एशियाई देशों को इस साल डेंगू के साथ-साथ कोरोना वायरस का भी सामना करना पड़ रहा है. पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक ब्राजील में जहां कोविड-19 के 16 लाख से अधिक मामले हैं वहीं डेंगू के कम से कम 11 लाख मामले हैं और इसके कारण करीब 400 लोगों की मौत हो चुकी है.

बरसात का मौसम शुरू होने के साथ क्यूबा, चिली और कोस्टा रिका जैसे लातिन अमेरिकी देशों और भारत तथा पाकिस्तान जैसे दक्षिण एशियाई देशों में डेंगू के भी मामले बढ़ेंगे. डेंगू यूं तो जानलेवा नहीं होता है लेकिन गंभीर मामलों में मरीज को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ती है. इसे रोकने के लिए अब भी एहतियात बरतना ही सर्वश्रेष्ठ कदम है जैसे कि मच्छरों को पनपने से रोकना, कूड़ा-कचरा हटाना और पानी ठहरने नहीं देना. कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन और अन्य पाबंदियों के कारण हालांकि इस दिशा में प्रयास कम हो गए हैं या कई देशों में तो पूरी तरह से रुक गए हैं.

#पाकिस्तान में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 2,48,872 हुए
पाकिस्तान में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,521 नए मामले सामने आने से देश में संक्रमण के मामले बढ़ कर 2,48,872 पर पहुंच गए हैं. वहीं संक्रमण से मरने वालों की संख्या 5,197 हो गई है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने की दर बढ़ रही है क्योंकि अब तक कुल 63 प्रतिशत लोग संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. मंत्रालय ने बताया कि अब तक कुल 1,56,700 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं. इसने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,521 नए मामले सामने आने से देश में संक्रमण के मामले बढ़ कर 2,48,872 पर पहुंच गए हैं. इनमें से सिंध में अधिकतम 1,03,836 मामले, पंजाब में 86,556, खैबर-पख्तूनख्वा में 30,078, इस्लामाबाद में 14,023, बलोचिस्तान में 11,157, गिलगित-बाल्तिस्तान में 1,658 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 1,564 मामले सामने आए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading