अपना शहर चुनें

States

कोरोना: इस देश में सैनिटाइजर हुआ ख़त्म, अस्पताल इस्तेमाल कर रहे हैं शराब

गोदामों से गायब हुई शराब
गोदामों से गायब हुई शराब

कोरोना (Coronavirus) का इलाज कर रहे मेडिकल स्टाफ को सैनिटाइजर ख़त्म होने जैसी आपातकालीन स्थिति में उन सभी शराबों (Alcohol) का इस्तेमाल करने की अनुमति है जिनमें अल्कोहल प्रतिशत 70 से 83 तक है

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2020, 2:19 PM IST
  • Share this:
टोक्यो. जापान (Japan) में भी कोरोना संक्रमण (Coronavirus) तेजी से फ़ैल रहा है और अब तक इसके 8,100 मामले सामने आ चुके हैं जबकि 147 लोगों की इसे मौत हो गयी है. जापान में भी PPE, मास्क, दस्ताने और सैनिटाइजर की भारी कमी बनी हुई है, यहां तक कि अस्पतालों में भी अब सैनिटाइजर ख़त्म हो गया है. अब जापान की सरकार ने इमरजेंसी की स्थिति देखते हुए अस्पतालों में सैनिटाइजर की जगह शराब (Alcohol) का इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी है.

जारी आदेश में कहा गया है कि कोरोना का इलाज कर रहे मेडिकल स्टाफ को सैनिटाइजर ख़त्म होने जैसी आपातकालीन स्थिति में उन सभी शराबों का इस्तेमाल करने की अनुमति है जिनमें अल्कोहल प्रतिशत 70 से 83 तक है. डॉक्टर्स भी मानते हैं कि 70% से ऊपर अल्कोहल प्रतिशत वाली शराब से सैनिटाइज किया जा सकता है. हालांकि जापान में कुछ वोडका के ही ऐसे ब्रांड्स हैं जिनमें इतना अल्कोहल प्रतिशत मिलता है. जापान में मिलने वाली आम शराब में अधिकतम 22 से 45% तक ही अल्कोहल होता है.

कुछ शराब कंपनियां मदद के लिए आगे आयीं
जापानी मीडिया के मुताबिक सैनिटाइजर की कमी के बाद कुछ शराब कंपनियों ने खासतौर पर ऐसी शराब बनाना शुरू किया है जो अस्पतालों में सैनिटाइजर के रूप में भी काम आ सके. बता दें कि कुछ जापानी कंपनियां अभी भी अमेरिका को सैनिटाइजर निर्यात कर रहीं हैं, माना जा रहा है कि अगर किल्लत बनी रही तो इस पर प्रतिबन्ध लगाया जा सकता है. जापान में बनाए जा रहे सैनिटाइजर से मानकों के मुताबिक 76 से 81% तक कोरोना जैसे वायरस से मुक्ति मिल जाती है.
जापान में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का आदेश


जापान ने लोगों से बार, क्लब और रेस्तरां से दूर रहने की अपील की है. प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने राष्ट्रीय कोरोना वायरस कार्य बल की बैठक में कहा है, 'संक्रमण के कई मामलों की पुष्टि उन स्थानों पर की गई है जहां लोग रात में जाते हैं और यह देशभर में फैला हुआ है.' जापान में सात अप्रैल को आपातकाल लगाया गया, जिसमें कोई दंड का प्रावधान नहीं है, लेकिन लोगों को यथासंभव घर पर रहने के लिए कहा गया है. आबे ने एक बार फिर कंपनियों से अपील की कि वे लोगों को घर से काम करने की इजाजत दें. उन्होंने कहा कि ट्रेन यात्रियों की भीड़ कम हो गई है, लेकिन इसे और भी कम करने की जरूरत है. डिपार्टमेंट स्टोर और सिनेमाघर बंद हो गए हैं, लेकिन कुछ खुदरा दुकानें अभी खुली हैं.

 

ये भी पढ़ें: 

अगर अमेरिका नहीं रोकता तो 4 साल पहले ही बन चुकी होती कोराना वायरस की वैक्‍सीन

Corona: कैसे रेड, ऑरेंज, ग्रीन जोन में बांटा जाएगा देश, कहां कितनी मिलेगी छूट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज