अमेरिका में कोरोना का कहर जारी, मौत का आंकड़ा हुआ 50 हज़ार के पार, 9 लाख से ज्यादा संक्रमित

अमेरिका में कोरोना  का कहर जारी, मौत का आंकड़ा हुआ 50 हज़ार के पार, 9 लाख से ज्यादा संक्रमित
ट्विटर ने फिर मार्क किया ट्रंप का ट्वीट

दुनिया भर में संक्रमण (Coronavirus) के सबसे अधिक मामले अमेरिका (US) में ही सामने आए हैं. यहां संक्रमित लोगों की संख्या 8,80,000 से भी ज्यादा हो गयी है जबकि इससे मरने वालों की संख्या 50000 का आंकड़ा पार कर गयी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2020, 11:30 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (US) में भले ही कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में थोड़ी कमी दर्ज की गयी हो लेकिन अभी भी इस संक्रमण (Covid-19) से औसत 2000 से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा रहे हैं. दुनिया भर में संक्रमण के सबसे अधिक मामले अमेरिका में ही सामने आए हैं. यहां संक्रमित लोगों की संख्या 9 लाख से भी ज्यादा हो गयी है जबकि इससे मरने वालों की संख्या 50000 का आंकड़ा पार कर गयी है.

अमेरिका में कोरोना संक्रमित हुए करीब 90,000 लोग ठीक होकर घरों को लौट चुके हैं. देश भर में अभी भी 7,50,000 से ज्यादा एक्टिव केस हैं जिनका इलाज जारी है. कुल एक्टिव केस में से करीब 15,000 ऐसे हैं जिनकी हालत काफी गंभीर है औ उन्हें वेंटिलेटर या ICU में रखा गया है.

जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से जारी किए गए ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक़, दुनिया भर में संक्रमण के मामले बढ़कर 27,09, 408 हो गए हैं. वहीं मरने वालों की संख्या 1,9,000 से भी ज्यादा हो गयी है. वहीं इटली दूसरा सबसे अधिक प्रभावित देश है. जहां मरने वालों की संख्या 25,549 हो गई है. देश में संक्रमण के कुल 189,973 मामलों की पुष्टि हुई है. स्पेन में मरने वालों की संख्या 22,157 है और फ्रांस में कोरोना वायरस के कारण अभी तक 21,856 लोगों की मौत हो चुकी है.



अमेरिका लगातार चीन को दे रहा है दोष
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार चीन पर कोरोना वायरस के मामले में हमलावर बने हुए हैं. गुरूवार को एक प्रेस कांफ्रेस में उन्होंने कोरोना को अमेरिका के ऊपर हमला तक बता दिया. सिर्फ ट्रंप ही नहीं अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने भी आरोप लगाया है कि चीन को कोरोना वायरस के बारे में नवंबर से ही पता था. इसी के साथ उन आरोपों को एक बार फिर बल मिला है कि चीन वायरस की जानकारी देने को लेकर पारदर्शी नहीं रहा है.

पोम्पिओ ने गुरुवार को एक इंटरव्यू में कहा,' आप याद करें तो इस तरह के पहले मामले के बारे में चीन को संभवत: नवंबर में ही पता चल गया था और मध्य दिसंबर तक तो निश्चित तौर पर. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) समेत विश्व में किसी और को इस बारे में बता पाने में बहुत देर की.' पोम्पिओ ने कहा कि अमेरिका को चीन के वुहान शहर में पैदा हुए सार्स-सीओवी-2 वायरस के मूल नमूने के साथ ही और अधिक सूचनाओं की दरकार है. चीन ने शुरुआत में वायरस की सूचना को बाहर नहीं आने दिया और इसका भंडाफोड़ करने वालों को हिरासत में ले लिया.

 

ये भी पढ़ें:

कोरोना वायरस से निपटने में महिला लीडर्स ने किया है सबसे बढ़िया काम, कम हुईं मौतें

कोरोना वायरस संकट के बीच दुनिया पर कैसे हावी हो रहा है चीन, 5 प्‍वाइंट्स में समझें

प्‍लाज्‍मा थेरेपी से कोरोना पॉजिटिव का इलाज करने वाले डॉक्‍टर ने बताया, कैसे काम करती है ये तकनीक

जानें 3 से 5 संदिग्‍धों का सैंपल मिलाकर लैब में क्‍यों किया जा रहा है कोरोना टेस्‍ट, क्‍या हैं फायदे-नुकसान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading