कोरोना: घर से बाहर निकले तो होगी 90 दिनों की जेल, 3 लाख 75 हजार का जुर्माना

कोरोना: घर से बाहर निकले तो होगी 90 दिनों की जेल, 3 लाख 75 हजार का जुर्माना
वाशिंगटन में घर से बाहर निकलने पर हो सकती है 90 दिनों की जेल

वाशिंगटन (Washington) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए गए हैं. घर से बाहर निकलने पर 90 दिनों की जेल हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2020, 7:43 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन: अमेरिका (America) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कड़े कदम उठाए गए हैं. वाशिंगटन (Washington) में अगर लोग अपने घरों से बाहर निकलते हैं तो उन्हें 90 दिनों की जेल हो सकती है. साथ ही उन पर 5 हजार डॉलर यानी करीब 3 लाख 75 हजार रुपए का जुर्माना देना पड़ सकता है. वाशिंगटन डीसी की मेयर ने इस बारे में ऐलान किया है.

वाशिंगटन में कोरोना वायरस के संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए ये कदम उठाया गया है. डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसके पहले वाशिंगटन के पड़ोस में मैरीलैंड और वर्जिनिया में इसी तरह के आदेश जारी किए गए हैं.

अपने घर में रहकर लोग सकते हैं कोरोना से लड़ने में मदद
वाशिंगटन की मेयर मुरील बेशर ने कहा है कि हमारा संदेश बिल्कुल साफ है. लोग अपने घरों में रहें. मेयर ने कहा है कि ‘घर में रहना कोरोना वायरस से सुरक्षा का सबसे अच्छा उपाय है. आप खुद, अपने परिवार और अपने पूरे समाज को इसके जरिए बचा सकते हैं. कई लोग ये सवाल पूछते हैं कि मौजूदा वक्त में वो कैसे मदद कर सकते हैं. सभी लोगों के लिए एक ही जवाब है- अपने घर में रहकर.’



मेयर ने कहा है कि अगर हम कोरोना वायरस के संक्रमण को धीमा करने में कामयाब होते हैं तो हम अपने हॉस्पिटल और हेल्थ केयर फैसिलिटी को सुरक्षित रख पाएंगे. हमें कम संसाधनों में बेहतर रिजल्ट देना है. ज्यादा से ज्यादा हॉस्पिटल के बेड खाली रखने है, ताकि जरूरतमंदों के लिए इसे इस्तेमाल में लाया जा सके.



जरूरी सामान लेने के लिए बाहर निकलने की होगी छूट
किराना के सामानों की खरीद के लिए और इमरजेंसी सेवा में लगे लोगों को घरों से बाहर निकलने की छूट दी गई है. लोगों को खुले में एक्सरसाइज करने की छूट दी गई है लेकिन उन्हें दूसरों से करीब 6 फीट की दूरी बनाए रखनी होगी. या फिर एक ही परिवार के सभी सदस्य एकसाथ एक्सरसाइज कर सकते हैं.

लोग मेडिकल सेवा की सहायता ले सकते हैं. लेकिन 10 या 10 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर बैन लगा है. हालांकि अमेरिका की राजधानी में बाकि अमेरिकी शहरों की तुलना में अभी तक संक्रमण के कम मामले सामने आए हैं. वाशिंगटन डीसी में अभी तक संक्रमण के 401 मामले दर्ज किए गए हैं.

वाशिंगटन डीसी के घरों में रहने के आदेश की सिविल राइट्स के लिए काम करने वाले लोग आलोचना कर रहे हैं. मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस आदेश का मतलब है कि वो लोग जहां सोचते हैं, हमें वहां रहना होगा. इनका कहना है कि आदेश की बजाए ये लोगों को स्वयं के निर्णय पर छोड़ देना चाहिए. लोगों को गिरफ्तार करने से समस्या का हल नहीं होगा. अगर कोई व्यक्ति घर से बाहर निकलता है तो उसे समझाबुझा कर घर के अंदर किया जा सकता है.

वाशिंगटन के बेघर लोगों का क्या होगा?
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के रणनीतिक संचार के पूर्व निदेशक ने भी इस आदेश की आलोचना की है. उन्होंने कहा है कि ये अमानवीय है. घर से बाहर निकलने को आपराधिक कृत्य बनाना ठीक नहीं है.

अभी इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि पहली बार घर से बाहर निकलने वालों को क्या चेतावनी देकर छोड़ दिया जाएगा या उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा. वाशिंगटन में करीब 6500 लोग बेघर हैं. इनके बारे में भी अभी साफ दिशा निर्देश नहीं हैं.

ये भी पढ़ें:

कोरोना के दौरान प्रवासियों और शरणार्थियों को नागरिकता के सारे अधिकार देगा पुर्तगाल

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए चीन से मेडिकल उपकरण और वेंटिलेटर्स खरीदेगा भारत

कोरोना: अमेरिका के सबसे ग्लैमरस शहर में लोग खुले पार्किंग स्पेस में सोने को मजबूर

कोराना: अमेरिका में 9/11 से भी ज्यादा मौतें, एक्सपर्ट बोले- अभी इससे भी बुरा होगा

कोरोना: न्यूयॉर्क में 1200 मौतों के बाद ट्रंप से बोले गवर्नर- ये राजनीति करने और फोटो खिंचवाने का वक़्त नहीं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading