Home /News /world /

Coronavirus Update: सीधा दिमाग पर असर कर रहा है कोविड, हल्की बीमारी वाले भी हो रहे 'ब्रेन फॉग' का शिकार

Coronavirus Update: सीधा दिमाग पर असर कर रहा है कोविड, हल्की बीमारी वाले भी हो रहे 'ब्रेन फॉग' का शिकार

जानकार यह जानते हैं कि लॉन्ग कोविड का शिकार हुए मरीज ध्यान रखने में मुश्किलों का सामना कर सकते हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

जानकार यह जानते हैं कि लॉन्ग कोविड का शिकार हुए मरीज ध्यान रखने में मुश्किलों का सामना कर सकते हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Side Effects: स्टडी के दौरान आए नतीजों की तुलना कंट्रोल ग्रुप से की गई. जानकारों का कहना है कि कोविड समूह ने शॉर्ट टर्म मैमोरी वर्किंग और प्लानिंग यानि योजना के मामले में अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन पिछली घटनाओं की याद और समय पर ध्यान बनाए रखने के मामले में उनका स्कोर काफी खराब रहा. कोविड का शिकार हो चुके लोगों ने पाया कि एक 'ब्रेन गेम' में उनकी एक्युरेसी तीन मिनट के भीतर 75.5 फीसदी से घटकर 67.8 प्रतिशत पर आ गई. वहीं, संक्रमित नहीं होने वाले लोगों में यह आंकड़ा 78.5 प्रतिशत से 75.4 प्रतिशत पर आ गया.

अधिक पढ़ें ...

लंदन. कोरोना वायरस (Coronavirus) मरीजों के दिमाग पर भी गंभीर असर डाल रहा है. इस बात के संकेत हाल ही में हुई स्टडी में मिली है. पता चला है कि हल्की बीमारी का सामना कर रहे कोविड मरीज अभी भी ‘ब्रेन फॉग’ का सामना कर सकते हैं, जो 9 महीनों तक बना रह सकता है. हालांकि, जानकार यह जानते हैं कि लॉन्ग कोविड का शिकार हुए मरीज ध्यान रखने में मुश्किलों का सामना कर सकते हैं.

डेली मेल के मुताबिक, ब्रेन कम्युनिकेशन्स जर्नल में प्रकाशित स्टडी के अनुसार, 135 लोगों का विश्लेषण किया गया था. स्टडी के दौरान इन सभी लोगों को दिमाग से जुड़े 12 ‘ब्रेन गेम्स’ में शामिल किया गया. 40 फीसदी लोगों ने बताया कि वे कोविड संक्रमित हो चुके हैं. संक्रमित हो चुके लोगों में से 7 ने गंभीर लक्षणों का सामना किया था. वहीं, दो लोगों ने बताया कि उन्हें लॉन्ग कोविड हुआ था. जबकि, अन्य लोगों ने कहा कि उन्हें थकान, सांस लेने में परेशानी, दर्द समेत लॉन्ग कोविड से जुड़ी अन्य परेशानियां नहीं हुईं.

स्टडी के दौरान आए नतीजों की तुलना कंट्रोल ग्रुप से की गई. जानकारों का कहना है कि कोविड समूह ने शॉर्ट टर्म मैमोरी वर्किंग और प्लानिंग यानि योजना के मामले में अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन पिछली घटनाओं की याद और समय पर ध्यान बनाए रखने के मामले में उनका स्कोर काफी खराब रहा. कोविड का शिकार हो चुके लोगों ने पाया कि एक ‘ब्रेन गेम’ में उनकी एक्युरेसी तीन मिनट के भीतर 75.5 फीसदी से घटकर 67.8 प्रतिशत पर आ गई. वहीं, संक्रमित नहीं होने वाले लोगों में यह आंकड़ा 78.5 प्रतिशत से 75.4 प्रतिशत पर आ गया.

यह भी पढ़ें: कोरोना कर रहा दिमाग पर वार: हल्‍के में न लें सरदर्द, ये है न्‍यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर

सभी प्रतिभागियों को शुरुआती जांच के दो महीनों के बाद दोबारा बुलाया गया. इस बार इन्हें 11 और खेलों के लिए कहा गया. इस दौरान शामिल लोगों की Immediate Memory और Delayed Memory के प्रदर्शन को लेकर जांच की गई. एक खेल में व्यक्ति को 20 ऑब्जेक्ट्स के बारे में ध्यान रखना था. दोनों समूहों ने Immediate memory के मामले में औसतन 60 फीसदी के आसपास स्कोर किया.

यह भी पढ़ें: क्या है ब्रेन फॉग? मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी इस बीमारी के लक्षण और सावधानियां जानें

हालांकि, 30 मिनट बाद हुए लॉन्ग मेमोरी टेस्ट में कोविड संक्रमित हो चुके लोगों को याद करने में गिरावट का सामना करना पड़ा. जबकि, दूसरे समूह के मामले में यह नतीजे एकदम विपरीत रहे. रिपोर्ट के अनुसार, कई लोगों की याददाश्त और ध्यान 6-9 महीनों के बाद सामान्य पर आ गए.

ऑक्सफोर्ड में एक्सपेरिमेंटल साइकोलॉजिस्ट डॉक्टर शिजिया झाओ ने कहा, ‘हैरानी वाली बात यह है कि भले ही कोविड से उबर चुके लोग जांच के समय लक्षणों का सामना नहीं कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने कम ध्यान और याददाश्त का प्रदर्शन किया.’

Tags: Coronavirus, Omicron

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर