अलर्ट! चीन की एक महिला को 6 महीने के भीतर दूसरी बार हुआ कोरोना संक्रमण

6 महीने में दूसरी बार संक्रमित पाई गयी महिला

Covid-19: चीन(China) के वुहान (Wuhan) के पास जिंगझोऊ शहर (Jingzhou city) में रहने वाली एक 68 वर्षीय महिला 6 महीने में दूसरी बार कोरोना संक्रमित पाई गई है.

  • Share this:
    बीजिंग. चीन (China) की एक 68 वर्षीय महीला सिर्फ 6 महीने बार एक बार फिर कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित पाई गयी है. ये महिला पहली बार 8 फरवरी को कोरोना संक्रमित (Covid-19) पाई गयी थी. इसके बाद इसका इलाज हुआ और ये ठीक होकर घर चली गयीं थीं. अब 9 अगस्त को एक बार फिर बुखार होने पर जब इन्होने टेस्ट कराया तो ये फिर संक्रमित पाई गयीं हैं. ये महिला वुहान (Wuhan) के ही पास जिंगझोऊ शहर में रहतीं हैं.

    डेली मेल की खबर के मुताबिक जिंगझोऊ की स्थानीय सरकार ने इस मामले को मीडिया के सामने रखा है और स्थानीय नागरिकों के लिए एडवाइजरी भी जारी की है. इससे पहले इजराइल का एक डॉक्टर भी कुछ ही महीनों के भीतर दूसरी बार संक्रमित पाए गए थे. चीन में सामने आए इस केस ने हर्ड इम्युनिटी और एंटीबॉडीज को लेकर जारी सभी दावों को फिर संशय के घेरे में ला दिया है. इजराइल वाले मामले में दूसरी बार संक्रमित होने ने बीच वक़्त कम था इसलिए टेस्ट किट की खराबी और अन्य सवाल उठाए गए थे. हालांकि चीन की ये महिला 6 महीने पहले संक्रमित हुई फिर ठीक होने के बस 15 दिन क्वारंटीन में भी रही थी.



    वैज्ञानिकों को दूसरी बार संक्रमित होने के बारे में कुछ नहीं पता
    बता दें कि फिलहाल वैगयानिक इस बात को नहीं मानते हैं कि संक्रमण ठीक होने के बाद कोई भी व्यक्ति इसका दूसरी बार शिकार हो सकता है. ज्यादातर मामलों में इस ख़राब टेस्ट किट, अस्पतालों का आलसी रवैया या फिर कोई अनजान वजह के चलते माना जाता है. माना जाता है कि इलाज की प्रोसेस में ही कोई गलती हुई होगी क्योंकि एंटीबॉडी विकसित होने के बाद फिर से बीमारी होना मुश्किल है. सामान्य भाषा में कहें तो कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति की शारीरिक इम्युनिटी विकसित हो जाती है जिससे वह फिर से संक्रमित नहीं हो सकता. हालांकि कोरोना वायरस के संदर्भ में दुनिया के कई हिस्सों में फिर से संक्रमित होने के कई मामले सामने आ चुके हैं. अमेरिका के मेसाचुसेट्स में भी 79 वर्षीय एक शख्स 2 हफ्ते बार फिर से संक्रमित पाया गया था.

    अमेरिकन जर्नल ऑफ़ इमरजेंसी मेडिसिन के मुताबिक ज्यादातर मामलों में व्यक्ति पहली बार ही पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाता है और कुछ दिन बाद फिर से बीमार हो जाता है. ऐसा टेस्टिंग में खराबी की वजह से भी होता है क्योंकि उसी से स्थिति का आकलन किया जाता है. वहां नेगेटिव आने के बॉस अक्सर इलाज रोक दिया जाता है लेकिन वायरस कुछ दिनों में फिर असर दिखाने लगता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.