COVID-19: पाकिस्तान में 24 घंटों के लिए 1292 इलाकों में लगा 'स्मार्ट लॉकडाउन'

स्मार्ट लॉकडाउन एकमात्र विकल्प था: पीएम इमरान खान
स्मार्ट लॉकडाउन एकमात्र विकल्प था: पीएम इमरान खान

नेशनल कमांड एंड आपरेशन सेंटर (National Command and Operation Centre) ने शनिवार को बताया कि पाकिस्तान के 1,292 इलाकों में कोविड-19 (Covid-19) के संक्रमण को रोकने के लिए पिछले 24 घंटों से स्मार्ट लॉकडाउन (Smart Lockdown)लगा दिया गया था.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान के 1,292 इलाकों में कोविड-19 (Covid-19) के संक्रमण को रोकने के लिए पिछले 24 घंटों से स्मार्ट लॉकडाउन (Smart Lockdown) लगा दिया गया है. नेशनल कमांड एंड आपरेशन सेंटर (National Command and Operation Centre) ने शनिवार को यह जानकारी दी. इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को कहा कि उन्हें पहले से ही पता था कि समय बीतने के साथ कोरोना के मामलों और मौतों की संख्या बढ़ जाएगी, लेकिन पाकिस्तान के लिए इस बीमारी से निपटने के लिए 'स्मार्ट लॉकडाउन' एकमात्र विकल्प था.

इस्लामाबाद की 60 हजार आबादी हुई प्रभावित

एनसीओसी को यह भी बताया गया कि विभिन्न क्षेत्रों में स्मार्ट लॉकडाउन लगाए जाने के कारण कुल 3,08,600 लोग प्रभावित हुए हैं. राजधानी इस्लामाबाद के साथ करांची के जी-9/2 और G-9/3 में स्मार्ट लॉकडाउन लगाया गया था. फोरम को यह बताया गया था कि राजधानी इस्लामाबाद के कुल 10 इलाके की 60,000 आबादी स्मार्ट लॉकडाउन के दायरे में थी.



अधिकारियों को दिए गए थे इस बारे में विशेष निर्देश
यह भी बताया गया था कि संघीय और प्रांतीय प्राधिकारी ट्रैक, ट्रेस और क्वारंटाइन (TTQ) रणनीति को आगे बढ़ाने के अलावा स्वास्थ्य दिशानिर्देशों और विशेष रूप से कार्यस्थलों के लिए निर्देशों, औद्योगिक क्षेत्र, परिवहन, बाजारों और दुकानों के अनुपालन को सुनिश्चित करने में जुटे हुए थे.

विपक्ष चाहता था कि अधिक लोग वायरस से संक्रमित हों: इमरान

प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा था कि यह सुनिश्चित करने के लिए सख्त निगरानी रखी जाएगी कि लोग मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) का पालन करें, सरकार उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई करेगी. उन्होंने ऐसे सभी परिसरों को सील करने की चेतावनी दी थी, जहां से घातक वायरस का प्रसार हुआ. उन्होंने कहा कि अगर जनता ने एहतियाती कदम नहीं उठाए तो कोरोना के मामलों की संख्या बढ़ जाएगी. पीएम खान ने आरोप लगाया कि विपक्ष चाहता था कि अधिक लोग वायरस से संक्रमित हों, ताकि वह सरकार की आलोचना कर सकें और यही कारण है कि विपक्षी नेता लंदन से देश लौट आए हैं.

भारत की तरह नहीं लगाया लॉकडाउन: इमरान खान

इमरान ने कहा, 'मैं आपको बताना चाहता हूं कि हम दबाव में नहीं झुके और भारत सहित कुछ अन्य देशों में लगाए गए लॉकडाउन के समान लॉकडाउन लागू नहीं किया. उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिल्वेनिया, शिकागो विश्वविद्यालय आदि के विशेषज्ञों द्वारा एक सर्वेक्षण प्रकाशित किया गया है. सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि भारत में 84 प्रतिशत लोगों को वित्तीय हानि का सामना करना पड़ा है और 34 फीसदी परिवार बिना वित्तीय सहायता के अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर सकते हैं. यह भी पता चला है कि 30 मिलियन लोगों ने नौकरी खो दी है, लेकिन अमीर वर्ग को कोरोना के कारण नुकसान नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें: नेपाल ने नया नक्शा पास किया, अपमानित महिला सांसद ने कहा-बांग्लादेश जैसी हो जाएगी हालत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज