कोविड-19 टीका का संबंध बिना लक्षण वाले कम संक्रमण से है : अध्ययन

अध्ययन सेंट जूड के 5217 लोगों पर किया गया जो 17 दिसंबर 2020 और 20 मार्च 2021 के बीच टेनेसी राज्य के दिशानिर्देशों के मुताबिक टीकाकरण के पात्र थे.

अध्ययन सेंट जूड के 5217 लोगों पर किया गया जो 17 दिसंबर 2020 और 20 मार्च 2021 के बीच टेनेसी राज्य के दिशानिर्देशों के मुताबिक टीकाकरण के पात्र थे.

Corona Vaccine: अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन की पत्रिका में छपा शोध पहला ऐसा शोध है जो कोविड-19 फाइजर -बायोएनटेक टीकाकरण में संबंध को दर्शाता है और बिना लक्षण वाले कम संक्रमण को दिखाता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. अमेरिका के एक अस्पताल में फाइजर का कोविड-19 टीका (Pfizer Covid-19 Vaccine) लगवाने वाले लोगों में टीका नहीं लगवाने वाले लोगों की तुलना में संक्रमण के कम लक्षण थे और उनमें बिना लक्षण वाले संक्रमण (एसिम्पटोमैटिक) भी कम थे.

अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन की पत्रिका में छपा शोध पहला ऐसा शोध है जो कोविड-19 फाइजर -बायोएनटेक टीकाकरण में संबंध को दर्शाता है और बिना लक्षण वाले कम संक्रमण को दिखाता है. अमेरिका में सेंटर जूड चिल्ड्रेंस रिसर्च अस्पताल के डिएगो हिजानो ने कहा, ‘‘इसमें और शोध की जरूरत है, जिन लोगों में संक्रमण के लक्षण नहीं है उन सहित अन्य लोगों में इसकी ज्यादा संभावना है कि टीकाकरण सार्स-कोव-2 के संचरण में कमी लाएगा.’’

5217 लोगों पर किया गया अध्ययन

अध्ययन सेंट जूड के 5217 लोगों पर किया गया जो 17 दिसंबर 2020 और 20 मार्च 2021 के बीच टेनेसी राज्य के दिशानिर्देशों के मुताबिक टीकाकरण के पात्र थे.


फाइजर के टीके को भारत में जल्द मंजूरी की उम्मीद

फाइज़र ने कहा है कि भारत में उसकी वैक्सीन को जल्द ही मंजूरी मिलने की उम्मीद है. अमेरिकी कंपनी ने जानकारी दी है कि वह अपनी वैक्सीन को जल्द से जल्द मंजूरी दिलाने के लिए भारत सरकार से बात कर रही है. कंपनी ने आज ही यह एलान भी किया है कि वह भारत में कोरोना विस्फोट पर काबू पाने में मदद के लिए अपनी तरफ से करीब 7 करोड़ डॉलर यानी 510 करोड़ रुपये से ज्यादा मूल्य की दवाएं मुफ्त भेज रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज