Covid19: पाकिस्तान में छह महीने बाद फिर खुले सभी स्कूल-कॉलेज

पाकिस्तान में सभी स्कूल-कॉलेज खुले
पाकिस्तान में सभी स्कूल-कॉलेज खुले

Covid-19 in Pakistan: कोरोना संक्रमण के घटते मामलों के मद्देनज़र अब पाकिस्तान में सभी स्कूल-कॉलेज को खोल दिया गया है. कोरोना महामारी के चलते पाकिस्तान में भी बीते छह महीने से प्राइमरी स्कूल बंद थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 11:28 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) में कोविड-19 (Covid-19) की वजह से करीब छह महीने बंद रहे सभी शैक्षणिक संस्थान बुधवार को फिर खुल गए. बता दें कि देश में संक्रमण (Coronavirus) के तीन लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं, हालांकि बीते 15 दिनों से लगातार मामले कम हुए हैं. निजी और सरकारी दोनों स्कूल कई पाबंदियों के साथ खोले गए हैं और अधिकारियों से कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करने को कहा गया है.

संघीय शिक्षा मंत्री शफ्कत महमूद ने बताया कि प्राथमिक विद्यालयों में सबसे अधिक छात्र आए और संस्थानों के बंद होने के कारण उन्हें सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ा था. उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस की स्थिति का व्यापक रूप से विश्लेषण करने के बाद ही सभी शैक्षणिक संस्थानों को खोलने का निर्णय किया गया. महमूद ने पत्रकारों से कहा, 'प्रथम चरण के तहत शिक्षा संस्थानों के 15 सितम्बर को दोबारा खुलने के बाद से कोरोनो वायरस के 1,71,436 परीक्षण किए गए, जिनमें शिक्षण संस्थानों में केवल एक प्रतिशत संक्रमण पाया गया.' उन्होंने कहा 'इन आंकड़ों पर गौर करने के बाद प्राथमिक कक्षाओं को खोलने को निर्णय किया गया.' पाकिस्तान के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में 747 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 3,12,263 हो गए हैं.

चीन ने वैक्सीन ट्रायल में कई देशों को शामिल किया
उधर चीन ने अपने प्रायोगिक कोविड-19 टीकों के अंतिम चरण के परीक्षण में एक दर्जन से अधिक और देशों के शामिल किया है ताकि वह वैश्विक आबादी को प्रतिरक्षित करने की अंतरराष्ट्रीय दौड़ में आगे रहते हुए खुद पर लगे आरोप मिटा सके. हांगकांग स्थित साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने मंगलवार को टीका बनाने वाली कंपनी, सरकारी बयानों और मीडिया में आ रहीं खबरों के हवाले से खबर दी कि पेरू, अर्जेंटीना, ब्राजील, बहरीन, यूएई, मिस्र, पाकिस्तान, तुर्की, मोरक्को, सऊदी अरब, बांग्लादेश, इंडोनेशिया और रूस समेत कई देशों में हजारों लोगों को प्रायोगिक तौर पर चीन में टीका बनाने की दौड़ में शुरुआती तीन स्थानों पर चल रहीं कंपनियों का टीका लगाया जा रहा है. इनमें से कुछ देशों में तो टीके के अंतिम चरण के नैदानिक परीक्षण को मंजूरी दी जा चुकी है. इन देशों में इसे टीका जल्द हासिल करने के माध्यम के तौर पर देखा जा रहा है. कई अमीर देश पहले ही टीका खरीद चुके हैं, जिन्हें मंजूरी मिलनी बाकी है.




UN ने कोरोना से बढ़ रही मौतों पर जताई चिंता
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण 10 लाख से ज्यादा लोगों की मौत एक “दुखदायी पड़ाव” है जिसे इस “बीमारी की निर्दयता” ने और बदतर बना दिया है. महामारी से मौत के आंकड़े के 10 लाख के पार पहुंच जाने के बाद जारी एक बयान में गुतारेस ने इसे “स्तब्ध करने वाला आंकड़ा” करार दिया. बयान में उन्होंने कहा, “वे माता, पिता, पत्नी, पति, भाई और बहन थे. दोस्त और सहकर्मी थे. इस बीमारी के बरकरार रहने से दर्द कई गुना बढ़ गया है. संक्रमण के जोखिम की वजह से परिवार घरों में ही रह रहे हैं. और जीवन में दुख या आनंद मनाना अक्सर असंभव हो रहा है.'





गुतारेस ने चेतावनी दी, 'विषाणु के प्रसार, नौकरियों के जाने और शिक्षा में व्यवधान तथा हमारी जिंदगी में महामारी के कारण आई मुश्किलें खत्म होती नजर नहीं आ रहीं.'उन्होंने कहा कि इसके बावजूद जिम्मेदार नेतृत्व , सहयोग और विज्ञान के साथ सामाजिक दूरी का पालन करने और मास्क लगाने जैसे ऐहतियात बरतकर इससे बचा जा सकता है. उन्होंने कहा कि कोई भी दवा बनती है तो वह “सभी के लिये उपलब्ध व वहनीय होनी चाहिए.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज