हमलावरों को मुख्यधारा में लाने के लिए AK-47 के बदले दी जा रही हैं एक जोड़ी गाय

हमलावरों को मुख्यधारा में लाने के लिए AK-47 के बदले दी जा रही हैं एक जोड़ी गाय
हमलावरों को नाईजीरियाई सरकार ने गाय दान करने का बीड़ा उठाया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

नाइजीरिया के उत्तर-पश्चिम ज़म्फ़ारा राज्य की सरकार ने आपराधिक गिरोहों द्वारा खूनी हमलों (To Stop Bloody Attack) को रोकने के लिए आत्मसमर्पण करने वालों को AK-47 (AK-47) के बदले दो गाय (One Pair Of Cow) देने की पेशकश की है.

  • Share this:
जम्फारा. नाइजीरिया के उत्तर-पश्चिम ज़म्फ़ारा राज्य की सरकार ने आपराधिक गिरोहों द्वारा खूनी हमलों  (To Stop Bloody Attack) को रोकने के लिए आत्मसमर्पण करने वालों को AK-47 (AK-47 Rifels) के बदले दो गाय (One Pair Of Cow) देने की पेशकश की है. ज़म्फ़ारा के गवर्नर बेल्लो माटावले ने गुरूवार को कहा कि सरकार की इस नई पहल के तहत "पश्चाताप करने वाले डकैतों को हर राइफल के लिए दो गायों का मुआवजा दिया जाएगा. इस पशुधन देने के पीछे कई उद्देश्य है जिसमें पहला उद्देश्य उन्हें मुख्यधारा में लाना है और दूसरा उनके लिए आमदनी का स्रोत खोलना था ताकि वे कहीं फिर से हथियार खरीदने के लिए प्रेरित न हो सके.

घात लगाकर हमला करते हैं ये मवेशी सरगना

नाइजीरिया में ये मोटरसाइकिल सवार मवेशी सरगना और अपहरणकर्ताओं के सशस्त्र समूह के रूप में घात लगाकर हमला करते हैं. इनके घातक छापों से इस इलाके के दूरदराज के समुदायों को बहुत नुकसान हो रहा था. इन्हें रोकने के लिए बहुत से सैन्य अभियान भी चलाये गए और स्थानीय अधिकारियों ने शान्ति स्थापना के लिए वार्ता की कोशिशें की.



उत्तर पश्चिमी नाइजीरिया में अशांति का माहौल
उत्तर पश्चिमी नाइजीरिया में अशांति फैली हुई है. इसके प्रमुख कारण अधिक जनसंख्या और जलवायु परिवर्तन का होना है. वर्ष 2011 के बाद से अब तक केब्बी, सोकोट, ज़मफ़ारा और पड़ोसी देश नीज़ेर में अनुमानित 8,000 लोगों की मौत हो गई है और 200,000 लोग अपने घरों से भाग गए. राष्ट्रपति मुहम्मदु बुहारी ने पड़ोसी राज्य कैटासिना में बढ़ते हमलों के बाद इन हत्याओं को समाप्त करने के लिए नए सिरे से कदम उठाने का वादा किया है. ये डकैत मुख्य रूप से फुलानी चरवाहा समुदाय से से आते हैं जो लंबे समय से पशुपालन करते रहे हैं. लेकिन यह समुदाय अपने पर लगे आरोपों को नकारता रहा है.

ये भी पढ़ें: COVID-19: अमेरिका में 24 घंटे में रिकॉर्ड 77 हजार केस आए, ब्राजील में 20 लाख हुए मरीज

पाकिस्तान के मंत्री ने कहा, इस्लामाबाद में मंदिर निर्माण के लिए हिंदुओं का स्वागत है

ये डकैत घने जंगलों से अपना नेटवर्क चलाते हैं और पड़ोस के राज्यों में लूटमार करते हैं. ये अक्सर दुकानें, जानवर, अनाज लूटते हैं और फ़िरौती के लिए लोगों को बंधक बनाते हैं.ज़मफ़ारा में हाल ही में हुई एक घटना में इन हथियारबंद डकैतों ने टलाटा मफ़ारा में 21 लोगों की हत्या कर दी थी. संसाधनों को लेकर सालों से चली आ रही लड़ाई इन हमलों के पीछे प्रमुख उद्देश्य है, जो जातीय फ़ुलानी चरवाहे समूह और किसान समुदायों के बीच है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading