कोरोना के प्रकोप से नहीं बच पाया खजूर भी, मांग में 60 फीसदी की गिरावट

 पिछले साल की तुलना में इस साल खजूर की दरों में 25 से 30 प्रतिशत की कमी आई है.
पिछले साल की तुलना में इस साल खजूर की दरों में 25 से 30 प्रतिशत की कमी आई है.

पिछले साल की तुलना में इस साल दरों में 25 से 30 प्रतिशत की कमी आई है. कुछ खजूरों का एक कार्टन चालीस रियाल में बेचा जाता था, लेकिन अब यह तीस रियाल में उपलब्ध है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2020, 6:35 PM IST
  • Share this:
इस्‍लामाबाद. कोरोना वायरस (Corona virus) संकट से खजूर (Date palm) का कारोबार भी प्रभावित होने लगा है. रमजान शुरू हो गया है, लेकिन अभी तक थोक का कारोबार ठंडा है. 'अकाज' की खबर के मुताबिक कुछ खजूर व्यापारियों ने कहा है कि इस साल खजूर की मांग में 60 फीसदी की गिरावट आई है.

कोरोना संकट की वजह से खजूर की मांग में कमी आई है
थोक के व्यापारी जहां रमज़ान से बहुत पहले ही खजूरों के बहुत बड़े-बड़े सौदे कर लेते हैं, मगर इस साल ऐसा नहीं है. वहीं इस कारोबार के एक निवेशक सुल्तान अल-हरबी ने कहा कि 'रमजान आने तक मक्का में खजूरों का सौदा 70 से 80 मिलियन रियाल तक होता है. यहां के खजूरे बेचने के लिए 120 विशेष केंद्र हैं.' वह कहते हैं कि 'हालांकि कोरोना महामारी के बावजूद खजूरों की कीमत में बहुत बदलाव नहीं हुआ है. मगर कुछ प्रकार की खजूरों की कीमतों में 15 फीसदी की गिरावट आई है.' वहीं एक व्यापारी जकी अल-महदी ने कहा कि 'कोरोना संकट की वजह से खजूर की मांग में कमी आई है. खजूरों के कारखानों ने स्‍पेशल ऑफर देकर बाजार को जुटाने की कोशिश की थी, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.'

पिछले साल की तुलना में इस साल दरों में 25 से 30 प्रतिशत की गिरावट
अल-महदी ने कहा कि पिछले साल की तुलना में इस साल दरों में 25 से 30 प्रतिशत की कमी आई है. कुछ खजूरों का एक कार्टन चालीस रियाल में बेचा जाता था, लेकिन अब यह तीस रियाल में उपलब्ध है. एक अन्य निवेशक अली अल-तरिदी ने कहा कि मस्जिदों और इफ्तार खेमों में बड़ी मात्रा में खजूर का इस्‍तेमाल किया जाता था, मगर इस साल ऐसा कुछ नहीं होगा. पिछले साल की तुलना में खजूर की मांग बहुत कम है.



ये भी पढ़ें - पाकिस्‍तान में कोरोना के संदिग्‍ध ने अस्‍पताल की तीसरी मंजिल से कूद कर दी जान

                  पाकिस्‍तान : पूर्व गवर्नर के थे साली के साथ अवैध संबंध, किताब में खुलासा

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज