लाइव टीवी

दाऊद को लगा झटका, डी कंपनी में 'नंबर दो' जाबीर को अमेरिका को सौंपेगा ब्रिटेन

भाषा
Updated: February 6, 2020, 9:13 PM IST
दाऊद को लगा झटका, डी कंपनी में 'नंबर दो' जाबीर को अमेरिका को सौंपेगा ब्रिटेन
जाबीर मोती को मादक पदार्थों की तस्करी और धनशोधन के आरोपों का सामना करने के लिए अमेरिका प्रत्यर्पित किया जाएगा. फोटो. एएनआई/twitter

दाऊद इब्राहीम (Dawood Ibrahim) की डी कंपनी (D Company) में ‘नंबर दो’ बताए जाने वाले पाकिस्तानी नागरिक जाबीर मोती (Jabir Moti) को मादक पदार्थों की तस्करी और धनशोधन के आरोपों का सामना करने के लिए अमेरिका (America) प्रत्यर्पित किया जाएगा.

  • Share this:
लंदन. दाऊद इब्राहीम (Dawood Ibrahim)  की डी कंपनी (D Company) में ‘नंबर दो’ बताए जाने वाले पाकिस्तानी नागरिक जाबीर मोती (Jabir Moti) को मादक पदार्थों की तस्करी और धनशोधन के आरोपों का सामना करने के लिए अमेरिका (America) प्रत्यर्पित किया जाएगा. ब्रिटेन (Britain) की एक अदालत ने गुरुवार को कहा कि उसके प्रत्यर्पण पर कोई रोक नहीं है. लंदन के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के न्यायाधीश जॉन जैनी ने अपना फैसला दो हिस्सों में लिखा है. फैसले का एक हिस्सा सार्वजनिक किया जा सकता है, जबकि दूसरे हिस्से को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है, क्योंकि पिछले साल प्रत्यर्पण के मामले पर सुनवाई के दौरान अदालत को बंद कमरे में कुछ ‘संवेदनशील सबूत’सौंपे गए थे.

न्यायाधीश ने कहा, “मैं आपकी सारी चुनौतियों को खारिज करता हूं. मैंने उन्हें सावधानी से पढ़ा था, लेकिन मैंने प्रत्यर्पण पर फैसला लेने के लिए मामले को विदेश मंत्री को भेजने का फैसला किया है.”ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल को दो महीने के अंदर प्रत्यर्पण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए अदालत के आदेश को मंज़ूरी देनी होगी. अमेरिका ने प्रत्यर्पण के अपने अनुरोध में कहा था कि मोति उर्फ मोतिवाला उर्फ जाबीर सिद्दीक दाऊद को सीधे रिपोर्ट करता है, जो घोषित आतंकवादी है और मुंबई में 1993 में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों के लिए भारत में वांछित है.

अपील की कोशिश करेगा मोती
इस बीच, मोती की कानूनी टीम ने संकेत दिया कि वे हाई कोर्ट में अपील के लिए इजाज़त मांग सकते हैं, जो पटेल के प्रत्यर्पण आदेश पर हस्ताक्षर के बाद होगा. भारत-ब्रिटेन प्रत्यर्पण संधि के विपरीत, अमेरिका- ब्रिटेन की प्रत्यर्पण संधि में प्रत्यर्पण के लिए अपेक्षाकृत सरल कानूनी प्रक्रिया है. प्रत्यर्पण के लिए अनुरोध करने वाले देश को ब्रिटिश अदालतों के समक्ष अभियुक्तों के खिलाफ पहली नज़र में मामला स्थापित करने की आवश्यकता नहीं है.

न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा कि अमेरिका की ओर से दिए गए प्रत्यर्पण अनुरोध में कहा गया है कि 53 वर्षीय मोती ‘डी कंपनी’ नाम के अंतरराष्ट्रीय अपराध संगठन का अहम सदस्य है जो पाकिस्तान, भारत और यूएई में है. संग‍ठन अमेरिका में आपराधिक गतिविधियां करता है, जिनमें मादक पदार्थ तस्करी, धन शोधन और ब्लैकमेलिंग शामिल है.

यह भी पढ़ें...

चीन से दुनियाभर को मिला कोरोना वायरस, 30 घंटे का नवजात गर्भ में ही बन गया मरीजपाकिस्तान के पूर्व प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर का एक्सीडेंट, हालत गंभीर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 9:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर