लेखक तारेक फतेह का आरोप- इमरान के इशारे पर क़त्ल की धमकी दे रही है पाकिस्तानी सेना

तारेक फतह को मिल रहीं हैं जान से मारने की धमकियां

तारेक फतह को मिल रहीं हैं जान से मारने की धमकियां

तारेक फतह (Tarek Fatah) ने ट्वीट कर बताया कि अमेरिका में रहने वाले ये रिटायर पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारी मुझ पर राजद्रोह का आरोप लगाना चाहते हैं और फांसी देना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 1:45 PM IST
  • Share this:

इस्लामाबाद. पाकिस्तानी मूल के लेखक तारेक फतेह (Tarek Fateh) ने मंगलवार को इमरान खान (Imran Khan) और पाकिस्तानी सेना (PAK Army) पर गंभीर आरोप लगाए. तारेक ने आरोप लगाया है कि अमेरिका में रहने वाले पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारी उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. तारेक ने 14 लोगों की एक लिस्ट भी जारी की है और बताया है कि उन्हें इन लोगों से जान का खतरा है.

तारेक फतह ने ट्वीट कर बताया कि अमेरिका में रहने वाले ये रिटायर पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारी मुझ पर राजद्रोह का आरोप लगाना चाहते हैं और फांसी देना चाहते हैं. इसके अनुसार, अमेरिका में रहने वाले पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारियों (Retired Pakistani Military Officers) द्वारा मौत की धमकी दी गई है. उन्‍होंने पाकिस्‍तान के लिए सबसे अधिक खतरनाक बताते हुए 14 लोगों के नाम वाली एक लिस्‍ट जारी की है. पिछले महीने तारेक फतेह ने फ्रांस में हुए आतंकी हमले की निंदा की थी. इस क्रम में उन्‍होंने पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर भी हमला बोला था. तारेक अक्सर इस्लाम को बदनाम कर रहे कट्टरपंथियों और बलूचिस्‍तान में मानवाधिकार हनन जैसे संवेदनशील मुद्दों पर अपनी बेबाक राय जाहिर करते रहते हैं.


कोविड-19 के मद्देनजर पाकिस्तान में शैक्षणिक संस्थान फिर से बंद किये गए
उधर पाकिस्तान में कोविड-19 में मामलों में वृद्धि के मद्देनजर सभी शैक्षणिक संस्थानों को 26 नवंबर से 10 जनवरी तक फिर से बंद करने का निर्णय सोमवार को लिया गया. गौरतलब है कि दो महीने से कुछ दिन पहले ही स्कूल कालेज खोले गए थे. देश में अब तक 3.7 लाख लोग कोरोना वायरस संक्रमण के शिकार हो चुके हैं और 7,700 मरीज कोविड-19 से अपनी जान गंवा चुके हैं. पाकिस्तान के शिक्षा मंत्रियों की एक बैठक में यह निर्णय लिया गया. संघीय शिक्षा मंत्री शफकत महमूद ने चारों प्रांत के शिक्षा मंत्रियों और पाक के कब्जे वाले कश्मीर तथा गिलगित बल्तिस्तान के प्रतिनिधियों की बैठक की अध्यक्षता की.


महमूद ने कहा, "निर्णय लिया गया है कि सभी स्कूल, कालेज तथा विश्वविद्यालय ऑनलाइन माध्यम से पठन पाठन जारी रखेंगे और सभी शैक्षणिक संस्थानों को 26 नवंबर से 24 दिसंबर तक बंद रखा जाएगा.' उन्होंने कहा, 'सर्दी की छुट्टियां 25 दिसंबर से 10 जनवरी तक होंगी. संस्थान 11 जनवरी को खुलेंगे लेकिन जनवरी के पहले सप्ताह में स्थिति की समीक्षा के लिए बैठक की जाएगी.' महामारी की शुरुआत में बंद किये गए शैक्षणिक संस्थानों को छह महीने बाद 15 सितंबर को खोला गया था. मंत्री ने कहा कि परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं और जनवरी में संस्थान खुलने के बाद इनका आयोजन होगा. उन्होंने कहा कि प्रवेश परीक्षाएं तय समय पर होंगी. पाकिस्तान में पिछले चौबीस घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,756 नए मामले सामने आए जिसके बाद सोमवार को कुल मामले बढ़कर 3,76,929 हो गए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज