एस्ट्राजेनेका वैक्‍सीन से ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत, डेनमार्क समेत इन देशों ने लगाई रोक

फ्रांस, इटली और जर्मनी ने एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन पर रोक लगा दी है.  (सांकेतिक तस्वीर)

फ्रांस, इटली और जर्मनी ने एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन पर रोक लगा दी है. (सांकेतिक तस्वीर)

डेनमार्क (Denmark) की ओर से ये जानकारी दी गई है कि कोरोना वैक्‍सीनेशन (Corona Vaccination) के बाद ब्लड क्लॉट (Blood Clot) बनने का मामला सामने आया है. ब्लड क्लॉट के कितने मामले कहां मिले हैं, इसकी पूरी जानकारी अभी नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 10:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के खात्‍मे को लेकर वैक्‍सीन (Vaccine) अभियान चलाया जा रहा है. हर किसी को उम्‍मीद है कि वैक्‍सीन से कोरोना वायरस को हराया जा सकता है. कोरोना वैक्‍सीनेशन (Vaccination) के बीच डेनमार्क से एक डराने वाली खबर सामने आई है. डेनमार्क (Denmark) ने एस्ट्राजेनेका वैक्‍सीन (AstraZeneca Vaccine) लेने के बाद ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत मिलने के बाद एस्ट्राजेनेका वैक्‍सीन पर अस्‍थायी रूप से रोक लगा दी है. डेनमार्क की ओर से ये जानकारी दी गई है कि कोरोना वैक्‍सीनेशन के बाद ब्लड क्लॉट बनने का मामला सामने आया है. ब्लड क्लॉट के कितने मामले कहां मिले हैं, इसकी पूरी जानकारी अभी नहीं है.

जानकारी के मुताबिक ऑस्ट्रिया में भी ब्लड क्लॉटिंग से एक व्यक्ति की मौत हो गई है, जिसके बाद एस्ट्राजेनेका वैक्‍सीन के इस्तेमाल पर अस्‍थायी रूप से रोक लगा दी गई है. यही नहीं एस्ट्राजेनेका वैक्‍सीन के कारण मिल रही शिकायतों को ध्‍यान में रखते हुए अब यूरोप के अन्य छह देशों में भी कोविड वैक्सीन पर अस्थायी रोक लगा दी गई है. डेनिश हेल्‍थ अथॉरिटी के निदेशक सोरेनब्रोस्‍ट्रोम ने कहा, डेनमार्क और यूरोप के देशों में वैक्‍सीन के बाद से कुछ गंभीर परिणाम देखने को मिले हैं. हम डेनिश मेडिसिन एजेंसी के साथ मिलकर कोई जवाब देंगे.

इसे भी पढ़े :- कोरोना वैक्‍सीन के बाद फिर बजेगा भारत का डंका, अब विदेशों को देगा 319 मिलियन सिरिंज
हेल्थ एजेंसी ने कहा कि एस्ट्राजेनेका वैक्‍सीन के टीकाकरण पर फिलहाल 14 दिनों के लिए रोक लगा दी गई है. डेनमार्क में जिस व्यक्ति को ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत हुई है, उसके बारे में हेल्थ एजेंसी ने कोई भी जानकारी साझा करने से इनकार कर दिया है.



इसे भी पढ़े :- महाराष्ट्र: कोरोना वैक्सीन की दूसरे डोज लेने के कुछ ही देर बाद शख्स की मौत, कारण तलाशने में जुटे डॉक्टर

हालांकि इस पूरे मामले पर एस्ट्राजेनेका ने कहा, हमारी वैक्सीन में गुणवत्ता को लेकर किसी भी तरह की कोई कोताही नहीं बरती गई है. हमने वैक्‍सीन को तैयार करने में हर मानदंडों का पालन किया गया है. अभी तक हमारी वैक्सीन के साइड इफेक्ट के किसी गंभीर मामले की पुष्टि नहीं हुई है. डेनमार्क और ऑस्टिया से जैसी जानकारी सामने आई है उसके बाद हमारी टीम वहां के अधिकारियों के संपर्क में है. हम सही कारणों का पता लगाएंगे और हर संभव मदद देंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज