Home /News /world /

हिरासत, लापता या फिर मौत: चीन में कोरोना पर रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकारों को मिल रही ये खौफनाक सजा

हिरासत, लापता या फिर मौत: चीन में कोरोना पर रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकारों को मिल रही ये खौफनाक सजा

चीन में कोरोना पर रिपोर्टिंग की कीमत कई पत्रकार और एक्टिविस्ट चुका चुके हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

चीन में कोरोना पर रिपोर्टिंग की कीमत कई पत्रकार और एक्टिविस्ट चुका चुके हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

ड्रैगन लगातार अपने यहां कोरोना से संबंधित जानकारी बाहरी दुनिया में जाने से रोकता रहा है. कई पत्रकार और एक्टिविस्ट कोरोना पर रिपोर्टिंग की भारी कीमत चुका चुके हैं. महिला पत्रकार झांग झान को भी कोरोना पर रिपोर्टिंग के लिए 4 साल की कैद सुनाई गई है. झांग ने वुहान के ढेरों अस्पतालों में जाकर रिपोर्टिंग की, जब कोरोना अपने पीक पर था. साथ ही उन्होंने पत्रकारों के अरेस्ट के खिलाफ भी रिपोर्टिंग की, जो कोरोना के चलते स्थानीय प्रशासन की कैद में थे.

अधिक पढ़ें ...

    बीजिंग. कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) की शुरुआती जानकारी दुनिया के सामने ठीक तरीके से न रखने को लेकर चीन (China) हमेशा आलोचना शिकार होता रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की स्पेशल टीम को भी चीन ने सही तरीके से जांच नहीं करने दी थी. दरअसल ड्रैगन लगातार अपने यहां कोरोना से संबंधित जानकारी बाहरी दुनिया में जाने से रोकता रहा है. कई पत्रकार (Journalist) और एक्टिविस्ट (Activist) कोरोना पर रिपोर्टिंग की भारी कीमत चुका चुके हैं. एक्सपर्ट्स ने कहा है कि चीन ने स्वतंत्र पत्रकारिता के खिलाफ जंग छेड़ रखी है. वो लगातार उन लोगों को प्रताड़ित कर रहा है जो कोरोना को लेकर सच्चाई उजागर कर रहे हैं.

    द गार्जियन की एक रिपोर्ट के मुताबिक इंडोनेशिया में रहने वाले चीन के नागरिक चेन कुन को जानकारी मिली चीन की पुलिस पूछताछ के लिए उन्हें वापस अपने देश लेकर जा रही है. चेन कुन को तुरंत समझ आ गया कि उनके भाई की एक वेबसाइट की वजह से यह सब कुछ हो रहा है. दरअसल चेन के भाई चीन में टर्मिनस 2049 नाम की एक वेबसाइट चलाते हैं जिसमें मी टू मूवमेंट और अप्रवासी अधिकार समेत कोरोना पर रिपोर्टिंग का बड़ा डेटा मौजूद है. चीनी सरकार की इस वेबसाइट पर सख्त निगाह है. बीते कुछ महीने से ये वेबसाइट कोरोना को लेकर चीनी सरकार की पोल खोल रही है. अब चीनी प्रशासन लगातार वेबसाइट संचालकों के परिवारवालों को परेशान कर रहा है.

    महिला पत्रकार को पहुंचाया सलाखों के पीछे
    महिला पत्रकार झांग झान को भी कोरोना पर रिपोर्टिंग के लिए 4 साल की कैद सुनाई गई है. उनका अपराध है- लड़ाई-झगड़ा और मुश्किलें पैदा करना. झांग ने वुहान के ढेरों अस्पतालों में जाकर रिपोर्टिंग की, जब कोरोना अपने पीक पर था. साथ ही उन्होंने पत्रकारों के अरेस्ट के खिलाफ भी रिपोर्टिंग की, जो कोरोना के चलते स्थानीय प्रशासन की कैद में थे. 37 साल की झांग पेशे से एक वकील और शंघाई की रहने वाली हैं. वो फरवरी 2020 में वुहान पहुंचीं, जब वहां कोरोना संक्रमण अपने चरम पर था. सैटेलाइट तस्वीरों से पता चल रहा था कि चीन के इस हिस्से में लगता श्मशान घाट चालू हैं. हालांकि खुद चीन ने ऐसा कोई खुलासा नहीं किया.

    ये भी पढ़ें: कोराेना से लड़ने में बहुत काम आते हैं ये गैजेट, क्‍या आपके घर पर हैं ये?

    बंद हो रहे हैं मीडिया संस्थान
    दरअसल प्रेस की स्वतंत्रता पर चीन का दमनकारी रुख लगातार जारी है. हांगकांग में सिटीजन न्यूज नाम के एक और मीडिया हाउस को सोमवार को बंद कर दिया गया. इस ग्रुप के मालिकों और पत्रकारों का कहना है कि वो सुरक्षित नहीं महसूस कर रहे हैं. दरअसल सिटीजन न्यूज को बंद करने का फैसला एक अन्य मीडिया हाउस के पत्रकारों पर राजद्रोह का मुकदमा लगाए जाने के बाद किया गया है.

    सिटीजन न्यूज हांगकांग की सबसे लोकप्रिय वेबसाइट में से एक है. इसके सोशल मीडिया पर करीब आठ लाख फॉलोअर हैं. सिटीजन न्यूज तीसरी मीडिया कंपनी है, जिसने हाल फिलहाल में अपना कामकाज बंद किया है. दरअसल चीन की तानाशाही सरकार की तरफ से लगातार हांगकांग के मीडिया हाउसेज पर दबाव बनाया जाता है. पत्रकारों पर बेवजह मुकदमे चलाए जाते हैं.

    Tags: China, COVID 19

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर