क्या डेटॉल के इस्तेमाल से नहीं होता है कोरोना वायरस? कंपनी ने दी सफाई

क्या डेटॉल के इस्तेमाल से नहीं होता है कोरोना वायरस? कंपनी ने दी सफाई
कंपनी ने सफाई देते हुए कहा कि नए वायरस (कोरोना वायरस) के बारे में कंपनी को पता नहीं है और इसकी कोई टेस्टिंग फिलहाल नहीं हुई है.

चीन (China) से फैले कोरोना वायरस (Corona Virus) से दुनिया भर में 10 हज़ार से ज़्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि अब तक साढ़े तीन सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2020, 11:12 AM IST
  • Share this:
लंदन. दुनिया भर में लोग हाथ धोने के लिए किसी न किसी लिक्विड सोप का इस्तेमाल करते हैं. कंपनियां दावा करती है कि इससे कीटाणु दूर भागते हैं. पिछले दिनों ब्रिटेन (Britain) में कुछ लोगों ने यह दावा किया कि डेटॉल (Dettol) के इस्तेमाल से कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सकता है. डेटॉल की गिनती लिक्विड सोप बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में की जाती है, लेकिन जैसे ही ये अफवाह फैली डेटॉल को इस पर सफाई देनी पड़ी. कंपनी ने कहा कि उसके लिक्विड सोप के इस्तेमाल से खतरनाक कोरोना वायरस (Coronavirus) को नहीं भगाया जा सकता है.

कैसे फैली अफवाह?
ब्रिटेन की बेवसाइट 'द सन' के मुताबिक, वहां के कुछ स्टोर में डेटॉल के ऐसे डब्बे देखे गए जिस पर एक अलग से लेबल लगा था. इस पर कई और बीमारियों के साथ कोरोना वायरस का नाम लिखा था. इस लेबल के जरिये ये दावा किया गया कि डेटॉल के इस्तेमाल से कोरोना वायरस को खत्म किया जा सकता है. लोगों ने डेटॉल के डब्बों को सोशल मीडिया पर शेयर करना शुरू कर दिया. कुछ डब्बों के लेबल पर नीचे मैन्युफैक्चरिंग डेट पर साल 2019 की तारीख थी. लोग सोशल मीडिया पर इस बात से हैरान थे कि आखिर कंपनी को इस वायरस के बारे में पहले कैसे पता चल गया, जबकि इस बीमारी की गिरफ्त में लोग जनवरी में आने शुरू हुए.





कंपनी की सफाई
डेटॉल को दुनिया भर में रेकिट बेंकिज़ेर (Reckitt Benckiser) नाम की कंपनी बनाती है. कंपनी ने सफाई देते हुए कहा कि नए वायरस (कोरोना वायरस) के बारे में कंपनी को पता नहीं है और इसकी कोई टेस्टिंग फिलहाल नहीं हुई है, लेकिन जैसे ही इसके स्टेरेन हमें मिलेंगे इस पर डेटॉल के असर को हम टेस्ट करेंगे.

ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों का दावा
पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने जानलेवा कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में बड़ी उपलब्धी मिलने का दावा किया. ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने बताया कि उन्होंने चीन के बाहर एक सैंपल विकसित किया है और इससे जल्द ही कोरोना वायरस का इलाज में ढूंढा जा सकेगा. मेलबर्न में द डोहर्टी इंस्टिट्यूट ने बताया कि एक मरीज के सेल कल्चर (जांच) के दौरान कोरोना वायरस का सैंपल विकसित किया गया है.

ये भी पढ़ें:

कोरोना वायरस: चीन ने बस 8 दिन में तैयार किया 1000 बेड का अस्पताल, देखें वीडियो

विदेश में काम कर रहे भारतीयों के लिए बदले इनकम टैक्स नियम, जानें सबकुछ

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading