अपना शहर चुनें

States

ट्रंप की मुश्किलें बढ़ीं, डॉयचे बैंक ने कारोबारी रिश्ता ख़त्म करने का निर्णय लिया

ट्रंप के मानसिक स्वास्थ्य को लेकर विपक्ष एकदम से हमलावर हुआ
ट्रंप के मानसिक स्वास्थ्य को लेकर विपक्ष एकदम से हमलावर हुआ

Deutsche Bank Cut Ties With Donald Trump: जर्मनी के Deutsche Bank ने डोनाल्ड ट्रंप की कंपनियों के साथ व्यापारिक रिश्ते ख़त्म करने का फैसला लिया है. कैपिटल हिल हिंसा के बाद कई संगठन ट्रंप और उनके व्यापार से दूरी बना रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 8:16 AM IST
  • Share this:
बर्लिन. अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) भले ही अपनी जिद पर अड़े हों और हिंसा उकसाने के जिम्मेदार अपने बयानों को सही बता रहे हों लेकिन उन्हें अब इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है. जर्मनी के डॉयचे बैंक (Deutsche Bank) ने ट्रंप और उनकी कंपनियों से व्यापारिक रिश्ता ख़त्म करने की घोषणा की है. डॉयचे बैंक ट्रंप की कंपनियों के लोन का एक बहुत बड़ा स्रोत है और बैंक का यह फ़ैसला ट्रंप के व्यापार के लिए बहुत बड़ा धक्का हो सकता है. डॉयचे बैंक ने ऐसे समय में यह फ़ैसला किया है जब कई दूसरे संगठन भी ट्रंप से अपने रिश्ते ख़त्म कर रहे हैं.

इससे पहले ट्विटर से लेकर प्रोफ़ेशनल गोल्फ़र्स एसोसिएशन ने ट्रंप से संबंध तोड़ लेने का ऐलान किया था. इन सभी कंपनियों ने ट्रंप ब्रैंड को बनाने में अहम भूमिका निभाई थी. बैंक ने इस बारे में आधिकारिक रूप से कोई बयान नहीं दिया है लेकिन रिपोर्ट का कहना है कि बैंक अब ट्रंप के साथ कोई भी बिज़नेस नहीं करेगा. 90 के दशक में जब ट्रंप दिवालिया होने के कगार पर थे तो डॉयचे बैंक अकेला बैंक था जिसने ट्रंप को लोन दिया था. ट्रंप समूह को अभी डॉयचे बैंक को अगले कुछ सालों में 34 करोड़ डॉलर का लोन चुकाना है. ट्रंप समूह के एक और बैंकर सिग्नेचर बैंक ने कहा है कि वो ट्रंप के दो निजी बैंक खाते को बंद कर रहा है.

ट्रंप अभी भी खुद को सही बतया रहे!
अमेरिकी संसद पर अपने समर्थकों के हमले के ठीक पहले दिए भाषण का राष्ट्रपति ट्रंप ने बचाव किया है. एंड्रयू एयरफ़ोर्स बेस पर पत्रकारों से बात करते हुए ट्रंप ने कहा, "आपको हमेशा हिंसा से बचना चाहिए. हमें बहुत समर्थन है, शायद ऐसा समर्थन है जैसा इससे पहले किसी ने देखा नहीं होगा." लेकिन पत्रकारों ने जब उनसे पूछा कि संसद भवन में जो कुछ हुआ उसमें उनकी व्यक्तिगत ज़िम्मेदारी कितनी थी, तो उनका जवाब था, अगर आप मेरा भाषण सुनेंगे और कई लोगों ने सुना है और मैंने अख़बारों और टीवी में देखा है. इसका आकलन किया गया है और लोगों को लगता है कि मैंने जो भी कहा था वो बिल्कुल वाजिब था.
ट्रंप ने आगे कहा, वरिष्ठ नेताओं समेत कई लोगों ने कहा है कि पुलिस हिरासत में जॉर्ज फ़्लॉयड की मौत के बाद पिछले साल हुए विरोध प्रदर्शन और दंगे वाशिंगटन में हुए दंगों से ज़्यादा चिंताजनक थे. ट्रंप के भाषण के बाद जब उनके समर्थकों ने पुलिस पर हमले शुरू कर दिए थे उससे दो घंटे पहले ट्रंप ने भीड़ से कहा था, ''हमलोग जहन्नम की तरह लड़ते हैं. और अगर आप जहन्नम की तरह नहीं लड़ते हैं तो फिर आप इस देश को नहीं बचा पाएंगे.'' डेमोक्रैट्स का कहना है कि ट्रंप के शब्द बग़ावत की एक कोशिश थी.



संसद पर हमला करने वालों में अब तक 170 की पहचान
अमेरिका में एफ़बीआई का कहना है कि पिछले हफ़्ते संसद पर हमला करने वालों में से 170 लोगों की पहचान कर ली गई है. एफ़बीआई ने कहा है कि 70 लोगों के ख़िलाफ़ मुक़दमा भी दर्ज कर लिया गया है. एफ़बीआई के अनुसार उसने संसद पर हुए हमले के अब तक एक लाख से ज़्यादा डिजिटल सुराग़ लोगों ने भेजे हैं.



इस बीच एफ़बीआई ने संसद पर हमले में शामिल लोगों को सामने आकर सरेंडर करने के लिए कहा है. एफ़बीआई ने कहा है कि अगर आपने वाशिंगटन छोड़ दिया है तो भी राज्यों में हमारे एजेंट आपको ढूंढ निकालेंगे. FBI और होमलैंड सिक्योरिटी ने एक नयी चेतावनी जारी कर कहा है कि ट्रंप समर्थक 20 जनवरी को जो बाइडन (Joe Biden) के शपथ ग्रहण समारोह को निशाना बनाने की फिराक में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज