लाइव टीवी

क्या चीन के इस लैब से फैला कोरोना वायरस? ब्रिटिश सरकार को मिली खुफिया रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: April 5, 2020, 2:02 PM IST
क्या चीन के इस लैब से फैला कोरोना वायरस? ब्रिटिश सरकार को मिली खुफिया रिपोर्ट
कोरबा का कटघोरा इलाका कोविड-19 संक्रमण का हॉट स्पॉट बन गया है . (प्रतीकात्मक)

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की वुहान लैब में इबोला, निपाह, सार्स और दूसरे घातक वायरसों पर रिसर्च कर रहे वैज्ञानिक अपने माइक्रोस्कोप में एक अजीब सा वायरस नोटिस कर रहे थे. मेडिकल हिस्ट्री में ऐसा वायरस पहले कभी नहीं देखा गया था.

  • Share this:
लंदन. दुनिया भर के तमाम देश इस वक्त कोरोना महामारी (Coronavirus) से लड़ रहे हैं. ये खतरनाक वायरस आखिर कहां से फैला इसे लेकर कई देशों की सरकारें पता लगाने की कोशिश कर रही हैं. इस बीच ब्रिटेन सरकार को खुफिया सूत्रों से जानकारी मिली है कि कोरोना वायरस का संक्रमण पहले चीन के लैब से जानवरों में हुआ और उसके बाद वह इंसानों में फैला. अब ये वायरस घातक रूप ले चुका है.

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की वुहान लैब में इबोला, निपाह, सॉर्स और दूसरे घातक वायरसों पर रिसर्च कर रहे वैज्ञानिक अपने माइक्रोस्कोप में एक अजीब सा वायरस नोटिस कर रहे थे. मेडिकल हिस्ट्री में ऐसा वायरस पहले कभी नहीं देखा गया था. इसके जेनेटिक सीक्वेंस को गौर से देखने पर पता चल रहा था कि ये चमगादड़ में पाए जाने वाले वायरस के करीबी हो सकते हैं. वैज्ञानिक हैरान थे क्योंकि इस वायरस में वो सार्स वायरस के साथ समानता को देख पा रहे थे, जिसने 2002-2003 में चीन में महामारी ला दी थी और दुनिया भर में 700 से ज़्यादा लोग मारे गए थे. उस वक्त भी ये बताया गया था कि सार्स छूने और संक्रमित व्यक्ति के छींकने या खांसने से फैलता है, लेकिन तब चीन इस वायरस को छुपा ले गया था.

ब्रिटेन के जासूसों को क्या मिला?
डेली मेल की खबर के मुताबिक, भले ही अब तक वैज्ञानिकों का यही मानना रहा है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान के पशु बाजार से इंसानों में फैला, लेकिन चीनी लैब से हुई लीक की बात को भी एकदम से नकारा नहीं जा सकता. रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन की बनाई गई इमरजेंसी कमिटी कोबरा के एक सदस्य ने कहा कि पिछली रात मिली खुफिया सूचना मिली, जिसके मुताबिक इस बात को लेकर कोई संदेह नहीं है कि वायरस जानवरों से ही फैला है. हालांकि, ये भी साफ होता जा रहा है कि वुहान के लैब से होकर ही ये वायरस इंसानों में फैलना शुरू हुआ था.



वुहान में कैसी लैब है?


डेली मेल की खबर के मुताबिक, वुहान में इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी है, जहां कई तरह की टेस्टिंग होती है. चीन में यह सबसे एडवांस लैब बताया जाता है. यह इंस्टिट्यूट जानवरों के बाजार से महज 10 मील दूर बना है. इसके अलावा वुहान सेटंर फॉर डिजिज कंट्रोल भी वुहान के पशु बाजार से करीब तीन मील दूर है. बता दें कि चीन के अखबार पीपल्स डेली ने 2018 में कहा था कि यह घातक इबोला वायरस जैसे माइक्रोऑर्गेनिजम पर टेस्टिंग करने की काबिलियत रखता है.

रिपोर्ट में ये कहा गया है कि इंस्टिट्यूट के कर्मचारियों के खून में सबसे पहले कोरोना का इन्फेक्शन हुआ और फिर इसने स्थानीय आबादी को संक्रमित किया है.

चीन में कोरोना से कितनी मौतें?
चीन में कोरोना वायरस के संक्रमण के 81,639 पॉजिटव मामले सामने आए हैं. कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आकर 3,326 लोगों की मौत हुई है. लेकिन, अंतरराष्ट्रीय मीडिया में ये आंकड़ा कहीं ज्यादा है. ज्यादातर मरने वाले चीन के हुबेई प्रांत के हैं, जहां पहली बार इस वायरस का संक्रमण फैला था. हुबेई में कोरोना वायरस के संक्रमण के कुल 67,803 मामले दर्ज किए गए, इसमें करीब 50,008 मामले वुहान के थे.

ये भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ जंग में चीन के 95 पुलिसकर्मियों और 46 मेडिकल स्टाफ की मौत

कोरोना वायरस: न्यूयॉर्क में एक ही दिन में 630 लोगों की मौत, अगले 2 हफ्ते में लग सका है लाशों का ढेर
First published: April 5, 2020, 12:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading