9/11 हमला : कैंसर का शिकार हो रहे हैं लोग, क्या आतंकियों ने किसी खतरनाक केमिकल का किया था इस्तेमाल?

News18Hindi
Updated: September 11, 2019, 11:11 AM IST
9/11 हमला : कैंसर का शिकार हो रहे हैं लोग, क्या आतंकियों ने किसी खतरनाक केमिकल का किया था इस्तेमाल?
साल 2001 में हुआ था हमला

दावा किया जा रहा है कि इस हमले के बाद अमेरिका (America) के वर्ल्ड ट्रेड टावर (World Trade Tower) के आस-पास के इलाकों में जहरीला धुंआ फैल गया था, जिसका असर सालों बाद तक दिखा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2019, 11:11 AM IST
  • Share this:
11 सितंबर 2001 ये वो तारीख है जिस दिन अमेरिका (America) में दुनिया का सबसे बड़ा आतंकी हमला (Terror Attack) हुआ था. आतंकियों ने दो विमानों को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर (World Trade Center) से टकरा दिया था. इस हमले में 3 हज़ार से ज्यादा लोग मारे गए थे. 18 साल बाद भी इस हमले का असर अमेरिका में रहने वाले लोगों पर दिख रहा है. कई लोग वहां कैंसर जैसी घातक बीमारी का शिकार हो रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि इस हमले के बाद यहां आस-पास के इलाकों में जहरीला धुंआ फैल गया था, जिसका असर सालों बाद तक दिखा.

कैंसर के शिकार
हमले के 15 साल बाद जैकलिन फैब्रिलेट मेटास्टैटिक कैंसर (Metastatic Cance) का शिकार हुई थीं. उन्होंने कहा कि वो हमले के वक्त वहां मौजूद थीं. इसके बाद भी वो यहां हर रोज ऑफिस जाती रहीं. 37 साल के रिचर्ड फहरेर को हाल में कॉलोन कैंसर (Colon Cancer) का पता चला. इस तरह के कैंसर आमतौर पर बूढ़े लोगों में होता है. रिचर्ड फहरेर हमले के वक्त वहां नहीं थे. लेकिन उन्होंने 2001 से 2003 तक लैंड सर्वेयर के तौर पर वहां काम किया था.

हवा में खतरनाक केमिकल 

कहा जा रहा है कि 9/11 हमले के बाद वहां हवा में कई तरह के केमिकल फैल गए. जिसमें डायोक्सिन और कारकिनोजेनिक पदार्थ शामिल हैं. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर हेल्थ प्रोगाम के तहत अब तक 10 हज़ार लोगों का इलाज किया गया है. इसमें से चार हजार लोग प्रोस्टेट, ब्रेस्ट और स्किन कैंसर से पीड़ित थे.

हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक पूरी तरह ये दावा नहीं किया जा सकता कि 9/11 हमले के चलते ही लोगों को कैंसर जैसी घातक बीमारी हो रही है. हालांकि कई रिसर्च से पता चला है कि यहां काम करने वालों में 10-30 प्रतिशत कैंसर होने की आशंका बढ़ गई है.

कैसे हुआ था हमला
Loading...

अलकायदा के 19 आतंकियों ने चार विमानों को हाईजैक किया और चारों को एक के बाद एक चार ठिकानों पर हमला कर आतंक का सबसे भीषण रूप दुनिया को दिखला दिया. पहला हाईजैक विमान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के उत्तरी टावर से टकराया. इसके कुछ देर बाद 9 बजकर 3 मिनट पर दक्षिणी टावर को भी आतंकियों ने एक विमान से भेद दिया. इन दो हमलों के बाद भी आतंक का सिलसिला नहीं थमा. 9 बजकर 47 मिनट पर वाशिंगटन के रक्षा विभाग के मुख्यालय पेंटागन पर एक विमान से हमला हुआ. पेंटागन का एक हिस्सा गिर गया. चौथा विमान शेंकविले के खेतों में गिरा दिया.

ये भी पढ़ें:

कल्याण सिंह बोले- बाबरी विध्वंस की घटना साजिश नहीं
उर्मिला के इस्तीफे से बढ़ी कांग्रेस में कलह, मिलिंद-संजय में ‌खिंची तलवारें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 9:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...