अपना शहर चुनें

States

महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम और इजराइल के संस्थापक के आवास की डिजिटल यात्रा की शुरुआत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे के समय उन्हें साबरमती आश्रम का दर्शन कराया. फाइल फोटो
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे के समय उन्हें साबरमती आश्रम का दर्शन कराया. फाइल फोटो

महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के जीवन दर्शन में इजरायल के पहले प्रधानमंत्री डेविड बेन गुरियन (David Ben-Gurion) की खासी दिलचस्पी थी और उनके कमरे में जो एकमात्र तस्वीर थी, वो बापू की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 26, 2021, 10:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इजराइल (Israel) में भारत के राजदूत संजीव सिंगला (Sanjeev Singla) ने गणतंत्र दिवस पर महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के साबरमती आश्रम (Sabarmati Ashram) और इजराइल के पहले प्रधानमंत्री डेविड बेन गुरियन (David Ben-Gurion) के नेगेव में स्थित आवास को देखने के लिए डिजिटल यात्रा पहल की शुरुआत की. इससे लोगों को दोनों देशों के संस्थापकों के जीवन के विभिन्न पहलुओं को जानने का मौका मिलेगा. एक बयान के मुताबिक, ‘‘फरवरी 2021 से शुरू होने वाली मासिक डिजिटल यात्रा में दोनों देशों के संस्थापकों के जीवन के विभिन्न पहलुओं, उनकी जीवन यात्रा, देश-दुनिया को लेकर उनके दृष्टिकोण को समझने में मदद मिलेगी.’’

बेन गुरियन गांधी के प्रशंसक थे और अपने कमरे में बापू की एक तस्वीर भी वह रखते थे. गुरियन का 1973 में निधन हो गया. गुरियन की इच्छा के मुताबिक एक साल बाद उनके आवास को जनता के लिए खोला गया. सिंगला ने कहा, ‘‘गांधीजी के जीवन और उनके कार्यों में बेन गुरियन की गहरी दिलचस्पी थी. वह भारतीय दर्शन में अगाध आस्था रखते थे. उनके कमरे में एकमात्र जो तस्वीर थी, वह गांधीजी की थी. उनके पास भारत पर कई किताबों का संग्रह भी था.’’

उन्होंने कहा, ‘‘बेन गुरियन हेरिटेज इंस्टीट्यूट और साबरमती आश्रम ने तालमेल किया है. इससे लोग साबरमती आश्रम और से बोकेर में गुरियन के आवास को डिजिटल तरीके से देख पाएंगे.’’

साबरमती आश्रम संरक्षण और स्मारक ट्रस्ट ने बेन-गुरियन हेरिटेज इंस्टीट्यूट के साथ इजराइल में भारतीय दूतावास के सहयोग से डिजिटल यात्रा पहल की शुरुआत की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज