लाइव टीवी

राफेल का इंजन बनाने वाली कंपनी ने राजनाथ से कहा- 'टैक्स नियमों से हमें न डराएं'

भाषा
Updated: October 9, 2019, 7:56 PM IST
राफेल का इंजन बनाने वाली कंपनी ने राजनाथ से कहा- 'टैक्स नियमों से हमें न डराएं'
राफेल का इंजन बनाने वाली कंपनी ने भारत में व्यापार के लिए अनुकूल कर व्यवस्था की बात कही है (फाइल फोटो)

राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jet) का इंजन (Engine) बनाने वाली फ्रांसीसी कंपनी (French Company) सैफरन ने कहा है कि वे भारत में कारोबार के लिए आकर्षक वातावरण चाहते हैं और भारत को अपने टैक्स नियमों (Tax Regulations) से उन्हें डरना नहीं चाहिए.

  • Share this:
पेरिस. फ्रांस (France) की इंजन विनिर्माता कंपनी सैफरन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) ने बुधवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से कहा कि भारत (India) को कारोबार के लिए आकर्षक वातावरण सुलभ कराना चाहिए तथा कर और सीमा शुल्क (Custom Duty) नियमों के जरिये ‘हमें आतंकित’ नहीं करना चाहिए.

इसी कंपनी ने राफेल लड़ाकू जेट विमान (Rafale Fighter Jet Plane) का इंजन बनाया है. इसके साथ ही फ्रांसीसी कंपनी (French Company) ने भारत में 15 करोड़ डॉलर का निवेश करने की योजना की घोषणा की.

कंपनी ने राजनाथ सिंह के सामने दिया प्रजेंटेशन
रक्षा मंत्री (Defence Minister) सिंह फ्रांस (France) की राजधानी के पास स्थित बहुराष्ट्रीय कंपनी सैफरन के कारखाने में भी गए. वहां कंपनी की ओर से उनके समक्ष प्रस्तुतीकरण दिया गया. सैफरन राफेल जेट में इस्तेमाल होने वाले अत्याधुनिक एम88 इंजन बनाती है. भारत ने फ्रांस से राफेल विमानों (Rafale  की खरीद है.

रक्षा मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘पेरिस के पास विलारोशे में सैफरन के इंजन विनिर्माण संयंत्र गया. सैफरन की पहचान इंजन बनाने की क्षमता को लेकर है. उन्होंने राफेल का इंजन भी बनाया है.’’

कंपनी के सीईओ ने कहा कि वह भारत से टैक्स ढांचे पर अधिक समर्थन की करते हैं उम्मीद
राजनाथ सिंह ने कहा, ‘‘सैफरन के विनिर्माण संयंत्र (Manufacturing Plant) में भारतीय मूल के कई युवा और प्रतिभावान इंजीनियरों से मिलने का मौका मिला. उनका तकनीकी ज्ञान और मेहनत प्रभावित करने वाली और प्रेरणादायक है.’‘’
Loading...

प्रस्तुतीकरण के दौरान सैफरन एयरक्राफ्ट इंजंस के सीईओ ओलिवियर एंड्रीज ने कहा कि कंपनी का इरादा भारत में प्रशिक्षण और रखरखाव पर 15 करोड़ डॉलर का निवेश करने का है. हालांकि, सीईओ (CEO) ने कहा कि वह भारत से टैक्स ढांचे पर अधिक समर्थन की उम्मीद करते हैं.

'मेक इन इंडिया' के तहत अनुकूल माहौल उपलब्ध कराने की राजनाथ सिंह ने कही बात
एंड्रीज ने कहा कि भारत विमानन (Aeronautics) के लिए तीसरा सबसे बड़ा वाणिज्यिक बाजार बनने वाला है. हम अपने ग्राहकों के लिए वहां एक मजबूत रखरखाव और मरम्मत व्यवस्था बनाना चाहते हैं.

एंड्रीज ने कहा,‘‘लेकिन हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि भारत की कर और सीमा शुल्क प्रणाली (Customs System) आतंकित करने वाली नहीं हो.’’

रक्षा मंत्री ने इस पर सीईओ से कहा कि भारत अपनी ‘मेक इन इंडिया’ (Make in India) पहल के तहत निवेश के लिए अनुकूल माहौल उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध है.

अगले साल लखनऊ में होने वाले DefExpo में आने का दिया न्यौता
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सैफरन को अगले साल फरवरी में लखनऊ में होने वाले ‘DefExpo’ में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया. कंपनी ने उनके निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है.

सैफरन ने मंत्री को हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के साथ अपने सहयोग का ब्योरा देते हुए भारत के ‘मेक इन इंडिया’ और ‘कुशल भारत’ कार्यक्रमों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जताई.

यह भी पढ़ें: मिर्च, नींबू और नारियल में ज्यादा ताकत है तो राफेल खरीदा क्यों- उदित राज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 9, 2019, 7:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...