इलाज कराने आई महिलाओं को धोखे से प्रेग्नेंट कर देता था डॉक्टर, निकला 60 बच्चों का पिता

इलाज कराने आई महिलाओं को धोखे से प्रेग्नेंट कर देता था डॉक्टर, निकला 60 बच्चों का पिता
डॉक्टर धोखे से महिलाओं को अपने सीमेन से प्रेग्नेंट कर देता था.

ये डॉक्टर धोखे से करीब 60 ज्यादा बच्चों का पिता बना था. ये डॉक्टर न सिर्फ अपने सीमेन का इस्तेमाल औरतों को प्रेग्नेंट करने के लिए करता था बल्कि धांधली के लिए उन्हें ऐसे कई हार्मोन भी देता था जिससे उन्हें महसूस हो कि वे प्रेग्नेंट हो गयीं हैं.

  • Share this:
एम्सटर्डम. नीदरलैंड (Netherlands)  के रिज्स्विक शहर में एक फर्टिलिटी क्लीनिक चलाने वाले डॉक्टर के बड़े फ्रॉड का खुलासा हुआ है. हालांकि इस खुलासे की शुरुआत साल 2018 में ही हो चुकी थी लेकिन अब पता चला है कि ये डॉक्टर धोखे से करीब 60 ज्यादा बच्चों का पिता बना था. ये डॉक्टर न सिर्फ अपने सीमेन का इस्तेमाल औरतों को प्रेग्नेंट करने के लिए करता था बल्कि धांधली के लिए उन्हें ऐसे कई हार्मोन भी देता था जिससे उन्हें महसूस हो कि वे प्रेग्नेंट हो गयीं हैं.

मिरर में छपी रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टर जन करबात पर आरोप है कि उन्होंने न सिर्फ बिना इजाजत लिए महिलाओं को अपने सीमेन के जरिए प्रेग्नेंट किया बल्कि इसके जरिए 60 से ज्यादा बच्चों के बायलॉजिकल पिता भी बने. डॉक्टर जन की मौत साल 89 साल की उम्र में साल 2017 में ही हो चुकी है लेकिन डीएनए की जांच से उनके क्लीनिक आने वाली महिलाओं को लगातार पता चल रहा है कि उनके बच्चे के पिता उनके पति नहीं हैं.

डॉक्टर जन रॉटरडम में एक फर्टिलिटी क्लीनिक चलाते थे. मिली जानकारी के मुताबिक डॉक्टर के क्लीनिक ने करीब 6000 महिलाओं को प्रेग्नेंट होने में मदद की थी और करीब 10,000 से ज्यादा बच्चे इसके जरिए पैदा भी हुए. डॉक्टर के कारनामे सामने आने के बाद जांच चल रही है कि आखिर इनमें से कितने बच्चे खुद उनके हैं.




ऐसे पता चली कहानी
जॉय हॉफमैन नाम के एक शख्स ने इस पूरी धांधली का पता लगाने में काफी मेहनत की. हॉफमैन भी इसकी क्लीनिक के जरिए पैदा हुए थे और बचपन से ही उन्हें लता था कि वे अपने भाई-बहनों में सबसे अलग दिखते हैं. जॉय हॉफमैन को ये बात बचपन से ही परेशान करती थी लेकिन उनके माता-पिता भी इसकी कोई ठोस वजह नहीं बता पा रहे थे. हालांकि एक दिन फैमिली एल्बम में उन्होंने अपने माता-पिता के साथ डॉक्टर जन की फोटो देखी और उनके होश उड़ गए. जब वे क्लीनिक पहुंचे तो उन्हें बताया गया कि वे पिता के स्पर्म से ही पैदा हुए हैं.

इसके बाद भी जॉय हॉफमैन को भरोसा नहीं हुआ और उन्होंने अपनी मां से इस बारे में बात की. हालांकि मां ने यही बताया कि अस्पताल में उन्हें जो स्पर्म दिखाए गए उस पर उनके पति के नाम का ही लेबल लगा हुआ था. हालांकि बाद में सिर्फ हॉफमैन ही नहीं कई और परिवारों ने इस तरह की शिकायत करनी शुरू की. साल 2009 में कई शिकायतों के बाद इस क्लीनिक को बंद कर दिया गया और जांच शुरू की गयी. इसके बाद इसी क्लिनिक से संबंधित अपनी तरह के एक केस से हॉफमैन ने संपर्क किया और डीएनए टेस्ट कराया जिसके बाद दोनों हाफ सिबलिंग निकले. इसके बाद लगातार लोगों से संपर्क साधा गया और टेस्ट के बाद 60 से ज्यादा लोग अभी तक डॉक्टर जन की बायलॉजिकल संतान निकल चुके हैं.

 

ये भी पढ़ें:

इस वजह से भारत के पारसी कोरोना संकट में ईरान की कर रहे हैं खास मदद

एक नहीं, तीन चंद्रमा हैं हमारे पास, वैज्ञानिकों ने खोजे 2 छिपे हुए चंद्रमा

बैक्टीरिया को मारने के लिए बहुत दवाएं हैं लेकिन वायरस से निपटने में क्यों हैं हम पीछे

वे सैलानी, जिन्होंने जान का जोखिम लेकर तैयार किया दुनिया का नक्शा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading