Home /News /world /

लॉकडाउन: दुनिया भर में 20% तक बढ़े घरेलू हिंसा के केस, ब्रिटेन में रोज़ हो रहीं 100 गिरफ्तारियां

लॉकडाउन: दुनिया भर में 20% तक बढ़े घरेलू हिंसा के केस, ब्रिटेन में रोज़ हो रहीं 100 गिरफ्तारियां

घरेलू हिंसा के मामले में दिल्ली तीसरे स्थान पर

घरेलू हिंसा के मामले में दिल्ली तीसरे स्थान पर

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की एक संस्था के मुताबिक दुनिया भर में घरेलू हिंसा (Domestic violence) के मामलों में 20% तक की बढ़ोत्तरी देखी जा रही है. उधर ब्रिटेन (Britain) के हाउस ऑफ़ कॉमंस में भी चर्चा के दौरान सामने आया है कि पहले के मुकाबले लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान घरेलू हिंसा की शिकायतों में 50% तक का इजाफा हो गया है.

अधिक पढ़ें ...
    लंदन. दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) सिर्फ जानें ही नहीं ले रहा बल्कि अब शादियां टूटने का जिम्मेदार भी हो गया है. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की एक संस्था के मुताबिक दुनिया भर में घरेलू हिंसा (Domestic violence) के मामलों में 20% तक की बढ़ोत्तरी देखी जा रही है. उधर ब्रिटेन (Britain) के हाउस ऑफ़ कॉमंस में भी चर्चा के दौरान सामने आया है कि पहले के मुकाबले लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान घरेलू हिंसा की शिकायतों में 50% तक का इजाफा हो गया है. हालात ये हैं कि डोमेस्टिक वॉयलेंस के मामलों में रोजाना औसत 100 गिरफ्तारियां भी हो रहीं हैं.

    ब्रिटेन में हालात खराब
    गार्जियन के मुताबिक हाउस ऑफ़ कॉमंस में पेश इस रिपोर्ट के मुताबिक 19 अप्रैल तक पिछले छह सप्ताह के दौरान घरेलू दुर्व्यवहार के अपराधों में कुल 4,093 गिरफ्तारियां हुईं. इस हिसाब से हर दिन ब्रिटेन में करीब 100 गिरफ्तारियां हुई हैं. लंदन मेट्रोपॉलिटन पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक, ब्रिटेन में नौ मार्च से पहले तक पिछले साल की तुलना में घरेलू हिंसा में 24 फीसदी का इजाफा हुआ है. हाउस ऑफ कमंस की गृह विभाग से संबंधित समिति ने पाया कि परमार्थ संगठन रिफ्यूजी की घरेलू हिंसा हेल्पलाइन पर 15 अप्रैल के बाद उससे पहले के औसत की तुलना में 49 फीसदी अधिक कॉल आईं.

    समिति की अध्यक्ष येवेट कूपर ने कहा, 'कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और जिंदगियां बचाने के लिए घरों में रहना महत्वपूर्ण है लेकिन कुछ लोगों के लिए घर सुरक्षित नहीं है. पीड़ितों को बचाने के लिए तथा गुनहगारों को घरेलू हिंसा करने के लिए लॉकडाउन का फायदा उठाने से रोकने के लिए तत्काल कदम की जरुरत है.' सुरक्षा विभाग के प्रमुख कमांडर सू विलियम्स ने बताया कि यह हालात तब पैदा हुए जब कोरोना वायरस के बचाव के लिए ब्रिटेन में लॉकडाउन चल रहा है. स्कॉटलैंड यार्ड ने कहा कि घरेलू हिंसा से संबंधित दो हत्याएं भी दर्ज की हैं.

    संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता
    संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूएन पॉपुलेशन फंड (UNFPA) ने एक रिपोर्ट में कहा है कि दुनिया भर के देशों में लॉकडाउन के चलते घरेलू हिंसा के मामले बेतहाशा बढ़ रहे हैं. फंड एक्जिक्यूटिव नतालिया कानेम के मुताबिक ये मामले 20% तक बढ़ गए हैं और ये बढ़कर 15 मिलियन तक हो सकते हैं. जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में भी सामने आया है कि बीते 3 महीनों में लॉक डाउन के दौरान ये हिंसा तेजी से बढ़ी है और महिलाओं और बच्चों के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकती है. इस साल के अंत तक दुनिया भर से घरेलू हिंसा के 1.5 करोड़ मामले सामने आ सकते हैं.

    ब्रिटेन में शुरू हुआ अभियान
    बता दें कि ब्रिटिश सांसदों की एक प्रभावशाली संसदीय समिति ने कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा में बेतहाशा इजाफा के मद्देनजर सरकार से तत्काल कार्रवाई की मांग की है. लेबर पार्टी की सांसद ने कहा, 'घरेलू हिंसा में वृद्धि पहले से चिंता के संकेत है. हमारी सर्वदलीय समिति सरकार से कोविड-19 के खिलाफ संघर्ष के समेकित अंग के तहत घरेलू हिंसा से निपटने के लिए व्यावहारिक कदम के वास्ते तत्काल कार्ययोजना की मांग कर रही है.' समिति ने लॉकडाउन और उसके बाद भी घरेलू हिंसा पर समग्र सरकारी रणनीति की मांग की. हाल ही में ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल ने 'यू आर नॉट एलोन' हैशटैग से एक जन अभियान शुरू किया था और लोगों से घरेलू हिंसा के विरूद्ध आवाज उठाने की अपील की थी.



    ये भी पढ़ें:

    उत्तर कोरिया में किम जोंग के वो चाचा कौन हैं, जो सत्ता का नया केंद्र बनकर उभरे हैं

    दुनिया की सबसे खतरनाक लैब, जहां जिंदा इंसानों के भीतर डाले गए जानलेवा वायरस

    दुनियाभर के विमानों में अब कोरोना के बाद कौन सी सीट रखी जाएगी खाली

    तानाशाह किम जोंग की एक ट्रेन रिजॉर्ट के पास दिखी, बाकी स्पेशल ट्रेनें कहां हैं

    Tags: Britain, Corona Virus, Domestic violence, United nations

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर