डोमेनिका सरकार ने भारत के दावे को नकारा, कहा- दाऊद इब्राहिम हमारे देश का नागरिक नहीं

डोमेनिका सरकार ने भारत के दावे को नकारा, कहा- दाऊद इब्राहिम हमारे देश का नागरिक नहीं
दाऊद इब्राहिम (फाइल फोटो)

डोमेनिका की सरकार (Dominican Government) ने कहा है कि दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) उनके देश का नागरिक नहीं है. उन्‍होंने कहा कि दाऊद कभी उनके देश का नागरिक नहीं रहा, न ही उसके पास हमारा पासपोर्ट है. इससे पहले भारतीय डोजियर में कहा गया था कि दाऊद ने डोमेनिका का पासपोर्ट हासिल किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 6:22 PM IST
  • Share this:
डोमेनिका. कैरेबियाई देश रिपब्लिक ऑफ डोमेनिका की सरकार (Dominican Government) ने कहा है कि मुंबई बम धमाकों का दोषी दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) उनके देश का नागरिक नहीं है. दरअसल, भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने दावा किया था कि अंडरवर्ल्ड डॉन और 1993 मुंबई ब्लास्ट का मास्टरमाइंड दाऊद इब्राहिम के पास डोमेनिका का पासपोर्ट है. डोमेनिका ने रविवार को आधिकारिक रूप से बयान जारी करते हुए कहा है कि दाऊद इब्राहिम कासकर ना तो उसके देश का नागरिक है और ना ही कभी रहा है. साथ ही यह भी कहा गया है कि निवेश प्रोग्राम या अन्य किसी भी माध्यम से उसे नागरिकता नहीं दी गई है.

डोमेनिका ने कहा है कि निवेश के माध्यम से नागरिकता देने से पहले पूरी जांच पड़ताल की जाती है. ऐसे फर्मों की कई स्तरों पर जांच की जाती है। ऐसा डोमेनिका के नागरिकों और अंतरराष्ट्रीय पार्टनर्स के हितों को ध्यान में रखकर किया जाता है. डोमेनिका ने यह सफाई भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के उस इनपुट के एक सप्ताह बाद दी है, जिसमें उन्होंने कहा है कि दाऊद इब्राहिम के पास पाकिस्तान, भारत, दुबई और डोमेनिका के अलग-अलग नाम और पते वाले पासपोर्ट हैं. भारतीय डोजियर में कहा गया है, ''दाऊद इब्राहिम ने कथित तौर पर कॉमनवेल्थ ऑफ डोमेनिका का पासपोर्ट इकॉनमिक सिटिजनशिप प्रोग्राम (ईसीपी) के जरिए हासिल किया है, एक निश्चित विदेशी राशि के बदले, जिसके लिए डोमेनिका की नागरिकता बेची जाती है.''

ये भी पढ़ें: चीन में 80 वर्षीय बुजुर्ग का जन्मदिन लाया मृत्यु का पैगाम, पार्टी के दौरान 29 लोगों की मौत



मुंबई ब्लास्ट के बाद मोस्ट वांटेड
दाऊद इब्राहिम 1993 के मुंबई सीरियल ब्लास्ट के बाद भारत का मोस्ट वांटेड बन गया. इस हमले में 257 लोगों की मौत हो गई थी और 700 घायल हो गए थे. उसके पाकिस्तान में छिपे होने को लेकर कई बार सबूत पाकिस्तान को सौंपे गए हैं. हालांकि, उसने भी हर बार इससे इनकार किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज