ट्रंप के दावे फेल! 24 घंटे में US में मिले रिकॉर्ड 71 हज़ार नए केस, 997 की मौत

ट्रंप के दावे फेल! 24 घंटे में US में मिले रिकॉर्ड 71 हज़ार नए केस, 997 की मौत
अमेरिका ने बनाया रिकॉर्ड, एक दिन में सामने ऐ 71 हज़ार नए केस

डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) भले ही कोरोना संक्रमण (Coronavirus) को लेकर लाख दावे कर रहे हों लेकिन सच यही है कि अमेरिका (US) में स्थिति काफी ख़राब होती नज़र आ रही है. बुधवार को अमेरिका में कोरोना संक्रमण के करीब 71 हज़ार नए केस सामने आए हैं जबकि करीब एक हज़ार लोगों की इससे मौत हो गयी है.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) भले ही कोरोना संक्रमण (Coronavirus) को लेकर लाख दावे कर रहे हों लेकिन सच यही है कि अमेरिका (US) में स्थिति काफी ख़राब होती नज़र आ रही है. बुधवार को अमेरिका में कोरोना संक्रमण के करीब 71 हज़ार नए केस सामने आए हैं जबकि करीब एक हज़ार लोगों की इससे मौत हो गयी है. इसी के साथ अमेरिका में कुल मामले बढ़कर 36 लाख जबकि संक्रमण (Covid-19) से सभी तक कुल 1 लाख 40 हज़ार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं.

राष्ट्रपति ट्रंप वे बुधवार को ट्वीट किया है- 'वैक्सीन पर बहुत अच्छी खबर.' हालांकि, ट्रंप ने अपने ट्वीट में इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि मॉडर्ना की कामयाबी पर ट्रंप का यह रियेक्शन आया है. Moderna Inc के पहले टेस्‍ट में 45 ऐसे लोगों को शामिल किया गया था जो स्‍वस्‍थ थे और उनकी उम्र 18 से 55 साल के बीच थी और इसके परिणाम सफल रहे. उधर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को कहा कि चीन में कोरोना को लेकर डब्ल्यूएचओ की जांच सच पर पर्दा डालने जैसा है. जानकारों का मानना है कि चीन के साथ जारी विवाद के चक्कर में ट्रंप प्रशासन का ध्यान कोरोना संक्रमण से हट गया है और देश के 4 राज्यों में ये बुरी तरह से फ़ैल रहा है.






कोविड-19 के टीके का परीक्षण अंतिम चरण में
अमेरिका में कोविड-19 के जिस पहले टीके का परीक्षण किया गया है वह वैज्ञानिकों की उम्मीद के मुताबिक लोगों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है. वैज्ञानिकों ने मंगलवार को यह बात कही. इस टीके का परीक्षण अब अंतिम चरण में है. अमेरिकी सरकार में संक्रामक रोगों के शीर्ष विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फॉसी ने कहा, 'निश्चित ही यह एक अच्छी खबर है.' इस टीके को नेशनल इंस्टीट्यूट्स ऑफ हेल्थ ऐंड मॉडर्ना इंक में फाउची के सहकर्मियों ने विकसित किया है. इस प्रायोगिक टीके के परीक्षण की दिशा में 27 जुलाई के आसपास एक अहम कदम उठाया जाएगा जब 30,000 लोगों पर यह पता लगाने के लिए कि शोध होगा कि यह टीका कोरोना वाायरस से बचाव में कितना प्रभावशाली है.

ये भी पढ़ें :- क्या है इजरायल की नई स्पेशल फोर्स, जिसे माना जा रहा है इंडियन एयर फोर्स का ब्लू प्रिंट

हालांकि मंगलवार को शोधकर्ताओं ने 45 लोगों पर किए शुरुआती परीक्षण के निष्कर्ष बताए जिनके मुताबिक इस टीके से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में अनुसंधानकर्ताओं के हवाले से कहा गया कि उन्होंने शोध में पाया कि इन लोगों के रक्त में संक्रमण को खत्म करने वाली एंटीबॉडी विकसित हो गईं और इनका स्तर कोविड-19 से उबरे लोगों में बनी एंटीबॉडी जैसा ही था. सिएटल में केसर परमानेंट वाशिंगटन रिसर्च इंस्टीट्यूट की डॉ. लीजा जैक्सन जिन्होंने इस शोध की अगुवाई की, कहती हैं, 'यह एक महत्वपूर्ण कदम है जिससे यह पता चलेगा कि टीका संक्रमण से बचाव कर पाता है या नहीं.'

कई देश फिर से लगा रहे हैं पाबंदी
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए दुनिया के कई देशों ने फिर से पाबंदी लगायी है. बुल्गारिया की सीमा से होकर यूनान आने वाले सभी यात्रियों के लिए बुधवार से कोविड-19 की जांच रिपोर्ट साथ में रखना जरूरी बना दिया गया है. ऐसे लोगों को ही आने की अनुमति होगी जिनमें संक्रमण नहीं होगा और यह जांच रिपोर्ट तीन दिन के भीतर की होनी चाहिए. नए नियमों के कारण यात्रियों की संख्या घटने का अनुमान है.

ये भी पढ़ें :-

इस्लाम की दुहाई, जिन्ना का ऑफर ठुकराने वाले इस फौजी की अंत्येष्टि में शामिल हुए थे नेहरू

वो युवा महिला वैज्ञानिक, जिसकी अगुवाई में लॉंचिंग तक पहुंचा UAE का मंगल मिशन

ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे बड़े शहर मेलबर्न के नागरिकों को लॉकडाउन के नियमों का पालन करने या कड़ी पाबंदी का सामना करने के लिए तैयार रहने को कहा गया है. अमेरिका के जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के मुताबिक दुनियाभर में कोरोना वायरस के 1.3 करोड़ से ज्यादा मामले आए हैं और 5,78,000 से अधिक लोगों की मौत हुई है. तेजी से फैल रहे संक्रमण और सरकार विरोधी प्रदर्शनों का सामना कर रहे सर्बिया में 10 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी लगा दी गयी है.

साउथ अफ्रीका, स्पेन, इजराइल में पाबंदियां लागू
हांगकांग पर भी नयी पाबंदी का असर पड़ा है. यहां पर चार से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है और शाम छह बजे के बाद रेस्तरां में बैठने की इजाजत नहीं होगी. एक सप्ताह के लिए जिम और कुछ अन्य कारोबार भी बंद रहेंगे. संक्रमण के मामले बढ़ने पर इजराइल ने पिछले सप्ताह फिर से पाबंदी लगा दी और कार्यक्रम, लाइव शो, बार, क्लबों को बंद कर दिया. अफ्रीका के सबसे विकसित देश दक्षिण अफ्रीका ने भी नए उपाए किए हैं. शराब की बिक्री रोक दी गयी है और रात में कर्फ्यू लगा दिया गया है.

स्पेन में उत्तर-पूर्वी कातालूनिया क्षेत्र में प्रशासन ने संक्रमण को रोकने के लिए कुछ नए कदम उठाए हैं. स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने जांच बढ़ाने तथा संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वालों की तलाश का काम तेज करने को कहा है. जापान की राजधानी तोक्यो की गवर्नर यूरिको कोइकी ने बुधवार को कहा कि शहर में संक्रमण के प्रसार के कारण सतर्क रहने की जरूरत है. उन्होंने शहर के निवासियों और अन्य लोगों से एहतियाती उपाय करने को कहा है. उधर, बेलारूस के प्रधानमंत्री रोमन गोलोवचेंको ने ‘आगामी दिनों में’ रूस के साथ लगी सीमा को खोलने और परिवहन संपर्क बहाल करने की घोषणा की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading