1992 के बाद दूसरे कार्यकाल के लिए दावेदारी हारने वाले पहले राष्ट्रपति बन सकते हैं ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में अभी तक किसी भी उम्मीदवार को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. हालांकि बिडेन को बढ़त है...
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में अभी तक किसी भी उम्मीदवार को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. हालांकि बिडेन को बढ़त है...

अमेरिकी चुनावी इतिहास के पिछले 100 सालों में केवल चार राष्ट्रपति ऐसे रहे हैं, जिन्हें दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव में हार का सामना करना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 7:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका में दूसरी बार राष्ट्रपति चुनाव लड़ रहे डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) अगर हार जाते हैं तो वो पहले राष्ट्रपति नहीं होंगे जो दूसरे कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति चुनाव में अपनी दावेदारी नजदीकी अंतर से हार गए हों... लेकिन पिछले तीन दशकों में दूसरे कार्यकाल के लिए दावेदारी हारने वाले पहले राष्ट्रपति बन जाएंगे. साल 1992 में रिपब्लिकन पार्टी के जॉर्ज डब्ल्यू बुश (George HW Bush) दूसरे कार्यकाल के लिए अपनी दावेदारी हार गए थे. बुश को बिल क्लिंटन (Bill Clinton) ने मात दी थी. इसके बाद से अमेरिका के तीन राष्ट्रपति हुए और तीनों ने अपने दूसरे कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल की. अमेरिकी चुनावी इतिहास के पिछले 100 सालों में केवल चार राष्ट्रपति ऐसे रहे हैं, जिन्हें दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव में हार का सामना करना पड़ा.

जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश
1992 के चुनाव में राष्ट्रपति जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश की अप्रूवल रेटिंग 89 फीसदी थी और माना जा रहा था कि वो चुनाव जीत जाएंगे. लेकिन, बिल क्लिंटन ने 43 फीसदी पॉपुलर वोट के साथ 370 इलेक्ट्रोरल कॉलेज वोट हासिल करके बुश के सपनों पर पानी फेर दिया. बुश को केवल 37.3 फीसद पॉपुलर वोट मिला और 168 इलेक्टोरल कॉलेज वोट मिले.

जिमी कार्टर
डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता जिमी कार्टर को 1980 के चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के नेता रोनाल्ड रीगन के हाथों हार का सामना करना पड़ा. रीगन को बड़ी जीत मिली और 50 फीसदी से ज्यादा पॉपुलर वोट उनके हिस्से आए. 69 वर्षीय रीगन अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए सबसे बुजुर्ग नेता थे, जब तक कि डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं बन गए. 2016 में ट्रंप 70 वर्ष की उम्र में राष्ट्रपति बने.



गेराल्ड फोर्ड
साल 1976 में रिपब्लिकन गेराल्ड फोर्ड को जिमी कार्टर ने हराया. कार्टर को 1980 के चुनाव में रोनाल्ड रीगन ने हराया. 1974 में अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने वाटरगेट स्कैंडल के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया और उपराष्ट्रपति गेराल्ड फोर्ड राष्ट्रपति बने. इस तरह गेराल्ड फोर्ड अमेरिका के एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति बने, जिनका चुनाव कभी भी इलेक्टोरल कॉलेज वोटों से नहीं हुआ.

हरबर्ट हूवर
रिपब्लिकन पार्टी के नेता हरबर्ट हूवर को 1932 के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट ने हराया. रूजवेल्ट को इस चुनाव में भारी जीत मिली बावजूद इसके कि इस चुनाव में महामंदी का साया भी रहा.

2020 के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडन (Joe Biden) अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं. हालांकि जो बाइडन को ट्रंप के ऊपर बढ़त है, लेकिन अंतिम परिणाम अभी आने बाकी हैं.

अमेरिकी मीडिया के मुताबिक बाइडन या ट्रंप में से किसी भी उम्मीदवार को अभी तक 270 वोट नहीं मिले हैं. बाइडन को अभी तक 253 इलेक्टोरल कॉलेज वोट मिले हैं, जबकि ट्रंप के पास सिर्फ 213 इलेक्टोरल कॉलेज वोट हैं.

जॉर्जिया, पेंसिल्वेनिया, नॉर्थ कैरोलिना और नेवादा सहित चार राज्यों के परिणाम अभी घोषित होने बाकी हैं. इन राज्यों में मतगणना जारी है और इन्हीं राज्यों के नतीजे तय करेंगे कि अगली बार व्हाइट हाउस की कमान किसके हाथों में होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज