ट्रंप ने किम-जोंग को दिया अपना नंबर, कहा- जब चाहे कर सकते हैं फोन

ट्रंप ने किम-जोंग को दिया अपना नंबर, कहा- जब चाहे कर सकते हैं फोन
सांकेतिक तस्वीर

फॉक्स न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में ‘फादर्स-डे’ का प्लान पूछे जाने पर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वो उत्तर कोरिया को फोन करेंगे.

  • Share this:
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को बताया कि उन्होंने किम-जोंग उन को उनसे सीधे बातचीत करने के लिए अपना नंबर दिया है, जिस पर किम कभी भी फोन कर सकते हैं. इसके साथ ही ट्रंप ने ये भी बताया कि वो रविवार को किम-जोंग उन से फोन पर बातचीत कर सकते हैं.

फॉक्स न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में ‘फादर्स-डे’ का प्लान पूछे जाने पर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वो उत्तर कोरिया को फोन करेंगे.

ट्रंप ने बताया कि मंगलवार को किम-जोंग उन से साथ हुई उनकी बैठक सफल रही, जिसमें वे परमाणु हमले के खतरे को हटाने में सफल रहे. उन्होंने बताया कि उन्होंने किम को अपना नंबर दिया है ताकि वो कभी भी सीधे उनसे बात कर सकें.



व्हाइट हाउस में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रंप ने कहा, “अब मैं उन्हें फोन कर सकता हूं. ये कह सकता हूं कि हां हमारे बीच कुछ समस्या है. मैंने सीधा फोन करने के लिए उन्हें नंबर दिया है. किसी भी तरह की समस्या में वो मुझे फोन कर सकते हैं. मैं उन्हें फोन कर सकता हूं.”
यह भी पढ़ें: वित्तीय अनियमितता के लिए डोनाल्‍ड ट्रंप पर मुकदमा चलाएगा न्यूयॉर्क

यह पूछे जाने पर कि वो रविवार को किससे बात करेंगे ट्रंप ने कहा, " मैं उत्तरी कोरिया में लोगों से बात करने जा रहा हूं, और मैं उत्तरी कोरिया में रहने वाले अमेरिकियों से बातचीत करूंगा.” हालांकि उन्होंने विस्तार से कुछ भी नहीं बताया.

अपनी बैठक के बाद ट्रंप और किम ने एक संयुक्त बयान जारी किया था, जिसमें उत्तर कोरिया ने कोरियाई प्रायद्वीय को ‘परमाणु मुक्त बनाने की दिशा’ में कार्य करने की प्रतिबद्धता जताई थी, जबकि अमेरिका ने सुरक्षा देने की गारंटी दी.

अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी के आलोचकों ने ट्रंप और किम के बीच हुए समझौते कि आलोचना करते हुए कहा कि समझौते में विवरण काफी कम थे, अमेरिका के राष्ट्रपति ने किम जोंग को कई रियायतें दे दी हैं, जबकि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों की आलोचना करने के साथ मानवाधिकारों का व्यापक रूप से हनन किया है.

ट्रंप ने कहा है कि वो किम पर भरोसा करते हैं क्योंकि दोनों देशों ने उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को बंद करने के बारे में बातचीत की है.

किम-जोंग उन के साथ गर्मजोशी से मिलने को लेकर भी आलोचकों ने ट्रंप की आलोचना की. एक रिपोर्टर द्वारा यह कहने पर कि अमेरिकी राष्ट्रपति किम जोंग उन के मानवाधिकार हनन के रिकॉर्ड पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं, इस पर ट्रंप ने कहा, “आप जानते हैं क्यों, मैं नहीं चाहता की परमाणु हथियार आपको और आपके परिवार को नष्ट कर दे. मैं उत्तर कोरिया के साथ अच्छे रिश्ते चाहता हूं.”

वहीं अमेरिकी रक्षा सचिव मैटिस ने कहा कि पहली बार किसी अमेरिकी राष्ट्रपति (डोनाल्ड ट्रंप) और उत्तर कोरियाई नेता (किम जोंग) की मुलाकात बताती है कि अतीत भविष्य को परिभाषित नहीं कर सकता, हालांकि उन्होंने कहा कि अमेरिकी सेना सतर्क बनी रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading