डोनाल्ड ट्रंप ने बयां किया दर्द- मुझे मिलना चाहिए था नोबेल प्राइज़, पता नहीं ओबामा को क्यों मिला?

डोनाल्ड ट्रंप ने बयां किया दर्द- मुझे मिलना चाहिए था नोबेल प्राइज़, पता नहीं ओबामा को क्यों मिला?
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने शिकायत भरे लहजे में कहा, ‘मुझे कई चीजों के लिए नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) मिलता, अगर वे इसे निष्पक्ष तरीके से देते. लेकिन, उन्होंने ऐसा नहीं किया. बराक ओबामा को नोबेल क्यों दिया गया. ओबामा को पता तक नहीं था कि उन्हें ये अवॉर्ड क्यों मिला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2019, 8:42 AM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कारों (Nobel Prize) को लेकर नाखुशी जाहिर की है. संयुक्त राष्ट्र में सोमवार को ट्रंप की एक पुरानी टीस फिर उभर आई. उन्होंने कहा कि यह अन्याय है कि उन्हें कभी नोबेल शांति पुरस्कार नहीं मिला, जबकि उन्होंने ऐसे तमाम काम किए हैं; जिनके लिए सम्मानित किया जाना चाहिए.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शिकायत भरे लहजे में कहा, ‘मुझे कई चीजों के लिए नोबेल पुरस्कार मिलता, अगर वे इसे निष्पक्ष तरीके से देते, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. बराक ओबामा को नोबेल क्यों दिया गया. ओबामा को पता तक नहीं था कि उन्हें ये अवॉर्ड क्यों मिला. आप जानते हैं? मैं बस इस बात पर उनसे सहमत हूं. जरूर सिलेक्शन प्रोसेस में कोई दिक्कत है.’

कश्मीर पर मध्यस्थता करने को तैयार
ट्रंप संयुक्त राष्ट्र महासभा के इतर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ द्विपक्षीय बैठक में बोल रहे थे. इस दौरान ट्रंप ने खुद को बहुत अच्छा मध्यस्थ्य भी बताया. ट्रंप ने एक बार फिर से कश्मीर मसले पर मध्यस्थता की पेशकश की. उन्होंने कहा, 'अगर भारत और पाकिस्तान तैयार हों, तो मैं कश्मीर पर मध्यस्थता कराने को तैयार हूं.'
OBAMA
बराक ओबामा को 2009 को शांति का नोबेल प्राइज़ मिला था.




ओबामा को कब मिला था नोबेल?
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा को अंतरराष्ट्रीय कूटनीति और लोगों के बीच सहयोग को मजबूती देने के उनके असाधारण प्रयासों के लिए 2009 के नोबेल शांति पुरस्कार के लिए चुना गया. वुड्रो विल्सन के बाद नोबल पुरस्कार हासिल करने वाले बराक ओबामा अमेरिका के दूसरे राष्ट्रपति हैं. ओबामा के साथ इस पुरस्कार की दौड़ में 200 उम्मीदवार शामिल थे.

उल्लेखनीय है कि बराक हुसैन ओबामा अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति हैं. दुनियाभर में शांति कायम करने के प्रयास, मुस्लिम देशों के बीच अमेरिका की छवि अच्छी बनाने और परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर भी वे हमेशा सुर्खियों में रहे. (PTI इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:-

इमरान से बोले ट्रंप- कश्मीर पर PM मोदी का बयान आक्रामक, लोगों को पसंद आया

ये भी पढ़ें: Howdy Modi : अमेरिका में ऐतिहासिक कार्यक्रम के पीछे रहा ये शख़्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज