Corona: चीन का होगा भंडाफोड़, वुहान लैब एक्सपर्ट कर रहे अमेरिका की मदद

Corona: चीन का होगा भंडाफोड़, वुहान लैब एक्सपर्ट कर रहे अमेरिका की मदद
फोटो सौ. (डेली मेल)

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के मुख्य रणनीतिज्ञ स्टीव बैनन (Steve Bannon) ने संभावना जताई है कि खुफिया एजेंसियों के पास इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस है और लैब में जाने वालों की जानकारी है जिससे अहम सबूत (Clue) मिले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 13, 2020, 12:26 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. चीन (China) अब दुनिया के कहर से बचने वाला नहीं है क्योंकि उसकी पोल खोलने के लिए उसी के कुछ लोग अमेरिका ( America) की मदद कर रहे हैं. दरअसल, वुहान लैब के एक्सपर्ट चीन के भंडाफोड़ के लिए अमेरिकी इंटेलिजेंस एजेंसियों की मदद कर रहे हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के मुख्य रणनीतिज्ञ स्टीव बैनन (Steve Bannon) ने दावा किया है कि चीन के वुहान की लैब के एक्सपर्ट पश्चिमी खुफिया इंटेलिजेंस के साथ आकर मिल गए हैं. उन्होंने यह भी कहा है कि इनकी मदद से एजेंसियां पेइचिंग के खिलाफ इस बात का केस तैयार कर रही हैं कि कोरोना वायरस की महामारी वुहान की वायरॉलजी लैब से लीक हुई थी और उसे छिपाना हत्या के बराबर है.

डेली मेल की एक खबर के अनुसार, बैनन ने यह खुलासा किया है. इससे पहले हॉन्ग-कॉन्ग की एक एक्सपर्ट भी इस बात का आरोप लगाकर वहां से भाग निकली हैं कि कोरोना वायरस के बारे में चीन और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन को पहले पता चल गया था लेकिन उन्होंने इसे छिपाकर रखा. अमेरिका की नेशनल सिक्यॉरिटी काउंसिल में शामिल रह चुके बैनन ने कहा कि जासूस यह केस तैयार कर रहे हैं कि चीन के लैब में SARS-जैसे वायरसों की वैक्सीन और दवा तैयार करने के एक्सपेरिमेंट के दौरान वहां से वायरस लीक हो गया. उन्होंने आशंका जताई है कि लैब में ऐसे खतरनाक एक्सपेरिमेंट किए जा रहे थे जिनकी इजाजत नहीं थी और वायरस किसी इंसान के जरिए या गलती से लैब से बाहर आ गया. उन्होंने दावा किया है कि डिफेक्टर्स अमेरिका, यूरोप और ब्रिटेन की खुफिया एजेंसियों से बातचीत कर रहे हैं. उन्होंने संभावना जताई है कि खुफिया एजेंसियों के पास इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस है और लैब में जाने वालों की जानकारी है जिससे अहम सबूत मिले हैं.

ये भी पढ़ें: ये हैं अमेरिका की पहली अश्वेत लड़ाकू विमान पायलट, US नेवी ने किया स्वागत



बच सकती थीं 95 प्रतिशत जानें
बैनन ने यह भी कहा है कि चाहे वायरस वुहान के वेट मार्केट से फैला हो या लैब से निकला हो, इसके फैलने के बाद चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने जैसे इसे छिपाया है, वह हत्या के बराबर है. उन्होंने कहा कि ताइवान ने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन को 31 दिसबंर को बताया था कि हुबेई प्रांत में कई महामारी फैल रही है. बीजिंग की सीडीसी ने इस बारे में जानकारी छिपाकर अमेरिका के साथ जनवरी में ट्रेड डील करने का फैसला किया. उन्होंने कहा, 'अगर वे दिसंबर के आखिरी हफ्ते में सच्चाई बताते तो 95 प्रतिशत जानें और आर्थिक नुकसान को बचाया जा सकता था.' बैनन ने दावा किया कि इस बीच चीन ने दुनियाभर का प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट जमा कर लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading