• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • टिकटॉक यूजर्स ने किया दावा, हमने डोनाल्ड ट्रंप की रैली फ्लॉप करा दी

टिकटॉक यूजर्स ने किया दावा, हमने डोनाल्ड ट्रंप की रैली फ्लॉप करा दी

टुलसा में ट्रंप की रैली (फाइल फोटो)

टुलसा में ट्रंप की रैली (फाइल फोटो)

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने टुलसा रैली में लोगों को जुटाने में असफल रहे. इस स्टेडियम में 19,000 से अधिक लोगों की बैठने की क्षमता है लेकिन वहां बहुत कम लोग मौजूद थे. वहीं टिकटॉक (TIkTok) यूजर्स ने दावा किया है कि उनके प्रयासों से रैली असफल हुई है.

  • Share this:
    वाशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने शनिवार की रात आयोजित टुलसा रैली (Tulsa Rally) में  लोगों को जुटाने में असफल रहे. इस स्टेडियम में 19,000 से अधिक लोगों की बैठने की क्षमता है लेकिन वहां बहुत कम लोग मौजूद थे. इसके बावजूद ट्रंप टुलसा में लोगों की संख्या 10 लाख लोगों ने RSVP की डींग मारने से पीछे नहीं हटे. सच तो यह है कि ट्रंप की वेबसाइट (Trum Website) पर उनकी रैली में आने के लिए लोगों ने रजिस्ट्रेश करवाए और उनकी सभा में नहीं पहुंचे. टिकटॉक यूजर्स ने यह दावा किया है कि ट्रंप की टुलसा रैली को उन्होंने फ्लॉप करवा दिया. ट्रंप की शनिवार की रैली के आयोजन से कुछ दिनों पहले टिक टॉक पर एक समन्वित प्रयास चल रहा था जिसमें लोगों को रैली के कार्यक्रम में आने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए प्रोत्साहित करना और बाद में रैली में न आने की बात कही गई थी.

    ट्रंप ने ट्वीट कर कहा था-कम से कम 1 लाख लोग आएंगे

    पिछले हफ्ते ट्रंप ने ट्वीट किया कि लगभग दस लाख लोगों ने टुलसा, ओक्लाहोमा में शनिवार रात की रैली के लिए टिकट का अनुरोध किया और एक स्थानीय अधिकारी ने भी बताया कि रैली की जगह के बाहर भी कम से कम 1 लाख लोगों के आने की उम्मीद थी. लेकिन शनिवार को टिकट लेकर रजिस्ट्रेशन कराने वाले लोग भी रैली क्षेत्र में नहीं आए. रैली के आगे के क्षेत्र में जगह बहुत खाली थी. इसी कारण ट्रंप टीम की बनाई यह योजना भी फेल हो गई थी कि स्टेडियम के भर जाने के बाद राष्ट्रपति बाहर खड़े लोगों को भी सम्बोधित करेंगे. बहुत कम संख्या में लोगों के आने के कारण यह योजना रद्द करनी पड़ी.

    टिक टॉक पर रैली में ना आने की बात कही गई थी

    ट्रंप की शनिवार की रैली के आयोजन से कुछ दिनों पहले टिक टॉक पर एक समन्वित प्रयास चल रहा था जिसमें लोगों को रैली के कार्यक्रम में आने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए प्रोत्साहित करना और बाद में रैली में न आने की बात कही गई थी. इस घटना से पहले तक टिक टॉक को आमतौर पर जवान लोगों के नाचने और कॉमेडी करने के एक मंच के रूप में देखा जाता था लेकिन किसी राजनीतिक कार्रवाई के लिए इसका इस्तेमाल कभी नहीं किया गया था.

    ट्रंप की वेबसाइबट पर रजिस्ट्रेशन कराएं और मंच पर उन्हें अकेला छोड़ दें'

    आयोवा की रहने वाली 51 वर्षीय एक महिला मैरी जो लॉप ने लोगों को ट्रंप की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए प्रोत्साहित किया लेकिन सिर्फ रजिस्ट्रेशन के लिए ही कहा था, कार्यक्रम में उपस्थित होने के लिए नहीं. मैरी जो लॉप ने अपने टिक टॉक अनुयायियों से कहा कि जो लोग 19,000 सीटों वाले सभागार को आधा खाली देखना चाहते हैं, वे लोग रजिस्ट्रेशन करवा लें और वहां आकर मंच पर ट्रंप को अकेला छोड़ दें. रैली की जगह पर पहुंचकर नाच गाने के वीडियो और अन्य गतिविधियां करें. मैरी जो लॉप की यह पहल एक बड़ी घटना बन गई. अब लोग ट्विटर और इंस्टाग्राम पर उनका यह वीडियो डाल रहे हैं.

    वामपंथी या ऑनलाइन ट्रोल्स इस जीत से ना हों खुश: ब्रैड

    ट्रंप 2020 के अभियान प्रबंधक ब्रैड पार्स्केल ने रविवार को सीएनएन को बताया कि जो वामपंथी या ऑनलाइन ट्रोल्स इस मामूली जीत की ख़ुशी में यह सोच रहे हैं कि वे रैली में लोगों की उपस्थिति को प्रभावित कर सकते हैं, उन्हें यह नहीं पता कि हमारी रैलियों में किस तरह काम किया जाता है और किस तरह वे आम लोगों को प्रभावित करती हैं. ब्रैड पार्स्केल ने यह भी कहा कि रैली के लिए पंजीकरण करवाने का मतलब है कि पंजीकरण के समय अपना मोबाइल नंबर भी दिया जाता है. हम उन नम्बरों की जांच करवाकर बोगस नंबर छांटते रहते हैं जो कि हमने टुलसा रैली के समय भी किया था. इस तरह से छंटनी करवाकर हम रैली में आने लोगों की सही गिनती कर लेते हैं.

    ये भी पढ़ें: कोरोना संकट ने पायलट को बनाया डिलीवरी ब्वॉय, 6 लाख पाने वाला घर-घर पहुंचा रहा है सामान

    अमेरिका में दो महीने में गई 2.21 करोड़ नौकरियां, ट्रंप बोले-सब बढ़िया चल रहा है

    ट्रंप के चुनावी अभियान के एक अधिकारी ने शनिवार को सीएनएन को बताया कि यह विचार गलत है कि टिक टॉक की इस तरह की पोस्ट से चुनावी रैलियों में आम लोगों की उपस्थिति पर भारी असर पड़ता है. हमारे पास पिछले चार चुनावों में मतदान करने वाले रिपब्लिकन के 3 लाख वैध हस्ताक्षर थे. वे टिक टॉक बनाने वाले बच्चे नहीं हैं. लोगों की अनुपस्थिति का कारण हिंसक प्रदर्शन रहा. टिक टॉक में अधिकतर कम उम्र लड़के लड़कियां भाग लेते हैं."

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज