लाइव टीवी

तंगी से जूझ रहे पाकिस्‍तान में लगा गधों का मेला, खतरनाक बमों के नाम पर रखा है जानवारों के नाम

News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 2:21 PM IST
तंगी से जूझ रहे पाकिस्‍तान में लगा गधों का मेला, खतरनाक बमों के नाम पर रखा है जानवारों के नाम
तंगी से जूझ रहे पाकिस्‍तान में लगा गधों का मेला.

गधों (Donkey)की आबादी के मामले में पाकिस्तान (Pakistan) दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किए गए इस मेले में सफेद, पीले, भूरे, काले, लाल समेत हर रंग के गधे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2019, 2:21 PM IST
  • Share this:
लगातार आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान (Pakistan) और वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के लिए गधा (Donkey) एक फायदेमंद जानवर बन चुका है. पाकिस्तान में पिछले कई सालों से गधों की संख्या में गजब की बढ़ोत्तरी देखी गई है. पाकिस्तान आर्थिक तंगी से निकलने के लिए गधों की इसी बड़ी संख्या को भुनाना चाहता है. इसी क्रम में पाकिस्तान की प्रांतीय सरकार बादिन जिले में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गधों के मेले का आयोजन किया है. इस मेले का लक्ष्य बड़ी संख्यां में गधों को बेचकर पैसा कमाना है. पाकिस्‍तान में गधों का लगा ये मेला लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बन गया है.

गधों के मामलों में पाकिस्तान तीसरा सबसे बड़ा देश है

गधों की आबादी के मामले में पाकिस्तान दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है. इस मेले में सफेद, पीले, भूरे, काले, लाल हर रंग के गधे हैं. इस मेले की सबसे बड़ी खासियत ये है कि मेले में बिकने वाले तमाम गधे और इनके नायाब नाम हैं. इस मेले में गधों के एके47, एफ-16, एटम बम, रॉकेट लॉन्‍चर, माधुरी, शीला, दिल पसंद, अफरीदी जैसे नाम हैं. एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून की खबर के मुताबिक ये पूरा मेला लगभग 4 एकड़ इलाके में लगा है. इस मेले में 20 हजार से लेकर 2 लाख रुपये तक के गधे मिल रहे हैं. कुछ ग्राहकों ने बताया कि इस मेले को बड़े शहरों में लगना चाहिए था. इतने अच्छे गधे हैं यहां के लेकिन हमें यहां आने में परेशानी होती है.

अर्थव्यवस्था के पटरी पर लाने के लिए गधों के निर्यात पर ज्योदा जोर

बता दें कि पाकिस्तान ने 2017 में गधा विकास कार्यक्रम की शुरुआत की थी. उस समय इस कार्यक्रम में अच्छा-खासा निवेश किया गया था. है. ये निवेश ख़ैबर-पख़्तूनख़्वाह में चीन के निवेशकों को आकर्षित करने के लिए किया गया था. पाकिस्तान के पंजाब सरकार की एक रिपोर्ट के मुताबिक गधे के निर्यात से मिलने वाली आय का सकल राष्ट्रीय उत्पाद का अहम हिस्सा है. पाकिस्तान काफी पहले से ही चीन समेत कई देशों को गधों का निर्यात करता आ रहा है. पिछले कुछ सालों से पाकिस्तान ने अपनी अर्थव्यवस्था के पटरी पर लाने के लिए गधों के निर्यात पर ज्योदा जोर दिया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 14, 2019, 12:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...