इंडोनेशिया में आए तेज़ भूकंप से पांच लोगों की मौत, कई घायल

इंडोनेशिया की राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के एक अधिकारी ने 10 फुट तक ऊंची लहरों के साथ सुनामी आने की चेतावनी दी थी, लेकिन कुछ समय बाद चेतावनी वापस ले ली गई.

भाषा
Updated: August 4, 2019, 9:56 AM IST
इंडोनेशिया में आए तेज़ भूकंप से पांच लोगों की मौत, कई घायल
दिसंबर में भी ज्वालामुखी फटने से आई सुनामी में 400 लोगों की मौत हो गई थी. (AP Photo/Ronald Siagian)
भाषा
Updated: August 4, 2019, 9:56 AM IST
इंडोनेशिया के सबसे ज्यादा घनी आबादी वाले जावा द्वीप पर शुक्रवार शाम को आए भूकंप से पांच लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए. अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि भूकंप का केंद्र समुद्र में था. इस भूकंप के बाद इंडोनेशिया की राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के एक अधिकारी ने 10 फुट तक ऊंची लहरों के साथ सुनामी आने की चेतावनी दी थी, लेकिन कुछ समय बाद चेतावनी वापस ले ली गई.

अधिकारियों के मुताबिक भूकंप की तीव्रता 6.9 दर्ज की गई, जिसकी वजह से लोगों में दहशत फैल गई और जकार्ता में लोग जान बचाकर सड़कों पर भागते नजर आए.

एजेंसी के प्रवक्ता अगुस विबोवो ने शनिवार को बताया कि जोरदार भूकंप के दौरान तीन लोगों की दिल का दौरा पड़ने के कारण मौत हो गई. एक व्यक्ति भूकंप के दौरान अपने घर से बाहर की ओर भागते समय गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई. अत्याधिक घबराहट होने के कारण एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई.

उन्होंने बताया कि इस दौरान चार अन्य लोग घायल हो गए. भूकंप के कारण 200 से अधिक इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं और 13 मकान नष्ट हो गए.

यह भी पढ़ें:  इंडोनेशिया के सुमात्रा भूकंप के बाद सुनामी की चेतावनी

इस भूकंप के बाद करीब 1000 लोगों को अस्थायी शिविरों में भेजा गया है. इनमें जावा के पड़ोसी द्वीप सुमात्रा के निवासी भी हैं. भूकंप की वजह से 100 इमारतों को नुकसान पहुंचा है और 34 घर तबाह हुए हैं.

जावा के पेंडेगलांग में राहत शिविर में रह रहे 69 वर्षीय इसाह ने बताया, ‘भूकंप के समय तेज गड़गड़ाने की आवाज आई, मानों विमान ऊपर से गुजर रहा हो. मैं इतना डर गया था कि तुरंत वहां से भागने लगा.'
Loading...

गौरतलब है कि दिसंबर में भी ज्वालामुखी फटने से आई सुनामी में 400 लोगों की मौत हो गई थी.

यह भी पढ़ें:  इंडोनेशिया में जहर बनी हवा, सरकार पर केस करेंगे लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 4, 2019, 8:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...