यहां रेस्टोरेंट में खिलाया जाता है सांपों का मांस, पिलाई जाती है खून मिली वाइन!

शेफ दिन तियेन डुंग सांप का सिर एक हाथ से पकड़कर उसके गले के पास चाकू से हल्का सा काट देते हैं और उस खून को राइस वाइन में मिला देते हैं.

News18.com
Updated: September 11, 2018, 4:05 PM IST
यहां रेस्टोरेंट में खिलाया जाता है सांपों का मांस, पिलाई जाती है खून मिली वाइन!
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18.com
Updated: September 11, 2018, 4:05 PM IST
वियतनाम के उत्तरी भाग में जंगलों में पाए जाने वाले कुछ ज़हरीले सांपों को सेहत के लिए अच्छा माना जाता है. इन सांपों के ज़हर को चावल की बनी हुई शराब के साथ-साथ कई तरह के खानों में भी प्रयोग किया जाता है. माना जाता है कि इन सांपों का मांस शरीर की ज़रूरत से ज़्यादा गर्मी को कम करने में काम आता है. मान्यता है कि इससे सिरदर्द ठीक हो जाता है और पाचन भी सही हो जाता है.

ये भी पढ़ेंः थम गई सांसें जब सामने देखा 10 फीट लंबा अजगर

इन सांपों को फ्राई करके या भाप में पकाकर लेमनग्रास (तरह की घास) और मिर्च के साथ रेस्टोरेंट में लोगों को खाने के लिए पेश किया जाता है. इसके साथ चावल की बनी हुई शराब यानि राइस वाइन भी दी जाती है जिसमें कि इस सांप का खून मिला होता है.

उत्तर पश्चिम वियतनाम के येन बाई रेस्टोरेंट मे शेफ दिन तियेन डुंग सांप का सिर एक हाथ से पकड़कर उसके गले के पास चाकू से हल्का सा काट देते हैं और उस खून को राइस वाइन में मिला देते हैं.

रेस्टोरेंट के मालिक डुओंग डुक डॉक का कहना है कि सांप का खून मिले हुए इस वाइन को सिर्फ 50 साल से ऊपर के लोगों को ही पीना चाहिए क्योंकि इससे कम उम्र के लोगों को पीठ में दर्द की शिकायत या नपुंसकता हो सकती है.

सांपों को पकड़ने वाले 35 साल के डैंग क्यूओक का कहना है कि सांपों का मांस सेहत के लिए काफी अच्छा होता है. उनका कहना है कि यह स्वादिष्ट भी होता है और हड्डियों के लिए काफी फायदेमंद होता है.

ये भी पढ़ेंः केरल में बाढ़ के बाद लोगों के लिए नई चिंता बने ज़हरीले सांप
Loading...
हालांकि वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट आयोना डंगलर का कहना है कि इन सांपों का मारा जाना काफी दुखद है क्योंकि इससे जंगल का इकोसिस्टम प्रभावित होता है. डंगलर ने कहा कि विश्व में मांस का जितना उत्पादन हो रहा है उसको देखते हुए इसकी ज़रूरत नहीं है. इसलिए इन सांपों को भोजन के रूप में प्रयोग किया जाना काफी दुखद है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर