एड्वर्ड स्नोडेन ने परमाणु हथियार से की पेगासस की तुलना, सरकारों को दी बिक्री पर रोक लगाने की सलाह

एड्वर्ड स्नोडेन ने कहा है कि कमर्शियल मेलवेयर के खतरे से बचने का एकमात्र तरीका इसकी अंतरराष्ट्रीय बिक्री पर रोक है. (फाइल फोटो)

Edward Snowden on Pegasus: एड्वर्ड स्नोडेन ने कहा, 'अगर आप इस तकनीक की बिक्री को रोकने के लिए कुछ नहीं करेंगे, तो ये लक्ष्य केवल 50 हजार नहीं होंगे. ये 5 करोड़ हो जाएंगे और यह हमारे किसी के भी अनुमान से ज्यादा तेजी से होगा.'

  • Share this:
    लंदन. पूर्व कंप्यूटर इंटेलीजेंस कंसल्टेंट एड्वर्ड स्नोडेन ने स्पाइवेयर (Spyware) के इस्तेमाल को लेकर चेतावनी जारी की है. साथ ही उन्होंने सरकारों को स्पाइवेयर के कारोबार पर वैश्विक स्तर पर रोक लगाने की सलाह दी है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि अगर इस तकनीक के इस्तेमाल पर रोक नहीं लगी, तो यह यही नहीं रुकेगा और इसका शिकार होने वाले बढ़ेंगे. भारत में पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus Spyware) का मामला गरमाया हुआ है.

    हाल ही में अंग्रेजी अखबार द गार्जियन को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि सरकारों को स्पाइवेयर व्यापार पर रोक लगानी चाहिए या ऐसी दुनिया का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए जहां कोई भी मोबाइल हैकर्स से सुरक्षित नहीं है. उन्होंने कहा, 'अगर आप इस तकनीक की बिक्री को रोकने के लिए कुछ नहीं करेंगे, तो ये लक्ष्य केवल 50 हजार नहीं होंगे. ये 5 करोड़ हो जाएंगे और यह हमारे किसी के भी अनुमान से ज्यादा तेजी से होगा.'

    उन्होंने कहा कि परेशानी यहां से शुरू होती है कि अलग-अलग लोगों के मोबाइल काम करने के मामले में एक जैसे थे. स्नोडेन ने कहा, 'जब हम आईफोन जैसी किसी चीज के बारे में बात करते हैं, तो वे पूरी दुनिया में एक ही सॉफ्टवेयर पर चल रहे हैं. ऐसे में अगर वे एक आईफोन को हैक करने का तरीका खोज लेते हैं, तो उन्हें बाकी सभी को हैक करने का तरीका मिल जाएगा.'

    यह भी पढ़ें: पेगासस जासूसी कांड: केन्द्र सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, 22 जुलाई को किया जायेगा राजभवन का घेराव

    स्नोडेन ने कहा कि किसी संदिग्ध के फोन को टैप करने या उसमें बग डालने के लिए पारंपरिक पुलिस कार्रवाई में उसके घर में या गाड़ी में घुसना होगा. लेकिन कमर्शियल स्पाइवेयर ने ज्यादा लोगों की निगरानी के लिए इसे कम खर्च वाला बना दिया है. उन्होंने कहा कि पेगासस जैसे कमर्शियल मेलवेयर इतने शक्तिशाली थे कि आम लोग इन्हें रोकने के लिए कुछ नहीं कर सकते थे. जब उनसे सवाल किया गया कि लोग खुद को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं, तो उन्होंने कहा, 'लोग खुद को परमाणु हथियारों से बचाने के लिए क्या कर सकते हैं?'

    इस दौरान उन्होंने स्पाइवेयर तैयार करने वाली कंपनियों को लेकर भी बात की. स्नोडेन ने कहा, 'यह एक तरह के उद्योग जैसा है, जहां वे केवल वैक्सीन से बचने के लिए कोविड के कस्टम वेरिएंट्स बनाने का काम होता है.' उन्होंने कहा, 'केवल इंफेक्शन वेक्टर्स ही उनके प्रोडक्ट्स हैं. वे सिक्योरिटी प्रोडक्ट्स नहीं हैं. वे किसी तरह की सुरक्षा और रोग निरोधक मुहैया नहीं करा रहे हैं. वे वैक्सीन नहीं बनाते हैं. वे केवल वायरस बेचते हैं.' उन्होंने कहा कि कमर्शियल मेलवेयर के खतरे से बचने का एकमात्र तरीका इसकी अंतरराष्ट्रीय बिक्री पर रोक है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.