मिस्र: अपदस्थ राष्ट्रपति मुहम्मद मुर्सी की आजीवन कारावास की सज़ा बरकरार

भाषा
Updated: September 16, 2017, 10:11 PM IST
मिस्र: अपदस्थ राष्ट्रपति मुहम्मद मुर्सी की आजीवन कारावास की सज़ा बरकरार
Egypt: अपदस्थ राष्ट्रपति मुहम्मद मुर्सी की आजीवन कारावास की सज़ा बरकरार (Getty Images)
भाषा
Updated: September 16, 2017, 10:11 PM IST
मिस्र की एक अदालत ने अपदस्थ राष्ट्रपति मुहम्मद मुर्सी की आजीवन कारावास की सज़ा को शनिवार को बरकरार रखा. मुर्सी को कतर जासूसी मामले के लिए जाना जाता है.

सरकारी समाचार एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि मिस्र की शीर्ष अपीलीय अदालत, द कोर्ट ऑफ कैसेशन ने पूर्व राष्ट्रपति की अपील को खारिज़ कर दिया और कहा कि ये आदेश 'अंतिम है और इसके खिलाफ अपील नहीं की जा सकती है.'

अदालत ने इसी मामले में मुस्लिम ब्रदरहुड के तीन सदस्यों की मौत की सज़ा की भी पुष्टि की. मिस्र में आजीवन कारावास की सज़ा 25 वर्षों की जेल है.

गोपनीय दस्तावेज़ों को कतर को लीक करने के लिए अपने पद का इस्तेमाल करने और अल-जजीरा चैनल को इन्हें बेचने का दोषी पाए जाने के बाद जून 2016 में मुर्सी को ये सज़ा सुनाई गई थी.

इन दस्तावेज़ों में कथित रूप से सैन्य खुफिया, सशस्त्र बलों और राष्ट्र नीति से जुड़ी खुफिया जानकारी शामिल थीं जिनके लीक होने से राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा पैदा हो सकता था. उल्लेखनीय है कि साल 2012 में राष्ट्रपति भवन इत्तिहादेया के निकट हिंसा को भड़काने में शामिल होने के लिए इसी अदालत ने पिछले अक्टूबर में मुर्सी की 20 साल की सज़ा की पुष्टि की थी.
First published: September 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर